उद्यमियों  की समस्या से रूबरू हुए नरेंद्र भूषण सीईओ ग्रेनो प्राधिकरण 

ग्रेटर नोएडा : आज  नरेन्द्र भूषण, मुख्य कार्यपालक अधिकारी, ग्रेटर नौएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण द्वारा  Video Conferencing (VC)  के माध्यम से ग्रेटर नौएडा क्षेत्र के उद्यमियों/औद्योगिक इकाईयों की एसोसियेशन, फेडरेशन जैसे-लघु उद्योग भारती, गौतमबुद्ध नगर, इण्डस्ट्रीज एसोशियेशन, एम.एस.एम.ई. एसोशियेशन, नौएडा आई.आई.ए. आदि के के साथ औद्योगिक आवंटियों की समस्याओं के निराकरण हेतु सम्बन्धित एसोेशियेशन के अध्यक्ष, सचिव तथा सम्बन्धित पदाधिकारियों के साथ सीधे संवाद स्थापित किये जाने के उद्देश्य  से उक्त बैठक की गयी। प्राधिकरण की ओर से  दीप चन्द्र, अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी, श्री शिव प्रताप शुक्ला, विशेष कार्याधिकारी तथा महाप्रबन्धक, परियोजना, महाप्रबन्धक, नियोजन, उप महाप्रबन्धक, परियोजना/स्वास्थ्य, सम्बन्धित वरिष्ठ प्रबन्धकों तथा परियोजना, स्वास्थ्य, जलापूर्ति, सीवर, उद्यान आदि विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा प्रतिभाग किया गया। जिसमें सम्बन्धित औद्योगिक सेक्टरों की समस्याओं जैसे-कार्यपूर्ति प्रमाण पत्र, क्रियाशील प्रमाण पत्र आदि से सम्बन्धित बिन्दु, स्ट्रीट लाईट, पार्को का रख रखाव, औद्योगिक सेक्टरों की सुरक्षा व्यवस्था, सेक्टरों में रिसर्फेसिंग, जलापूर्ति की समस्या, रोटरी तथा ग्रीन बेल्ट एडॉप्शन , जल भराव, साफ-सफाई, ड्रेन, सीवर, मलवा आदि की समस्याओं पर विस्तृत परिचर्चा की गयी।

उक्त बैठक में औद्योगिक इकाईयों तथा उद्यमियों की समस्याओं के तत्काल निस्तारण हेतु मुख्य कार्यपालक अधिकारी द्वारा प्राधिकरण के सम्बन्धित अधिकारियों को समस्याओं को सूचीबद्ध करते हुये ऐक्शन प्लान के अनुरूप समस्याओं के निस्तारण, निस्तारण में लगने वाली समयावधि की सूचना आदि के सम्बन्ध में विस्तृत रिपोर्ट/जानकारी तैयार कर आगामी एक सप्ताह में प्राधिकरण की वेबसाईट एवं सोशल मीडिया पर ऐक्शन प्लान अपलोड कराने हेतु भी आदेशित किया गया । साथ ही यह भी निर्देशित किया गया कि प्रत्येक माह की 30 तारीख को औद्योगिक इकाईयों/आवंटियों की विभिन्न समस्याओं के निस्तारण/कृत कार्यवाही से सम्बन्धित इकाई/संगठन को अवगत कराया जाये।

उक्त बैठक में विभिन्न बिन्दुओं पर की गयी चर्चा तथा तत्क्रम में लिये गये निर्णय/निर्देश निम्नानुसार हैं-

1. ग्रेटर नौएडा प्राधिकरण द्वारा उद्यमियों की समस्याओं के निराकरण हेतु प्रत्येक माह इस तरह की बैठके आयोजित कर समस्याओं का निस्तारण कराया जायेगा।
2. ग्रेटर नौएडा प्राधिकरण द्वारा अपनी कार्य प्रणाली में पारदर्शिता, समयबद्धता तथा गुणवत्तापूर्ण निस्तारण हेतु ई.आर.पी. व्यवस्था लागू कर पेपरलेस आफिस की कार्यप्रणाली आरम्भ कर दी गयी है। आगामी 6 सप्ताह में प्राधिकरण की कार्यप्रणाली को पूर्णतः पेपरलेस कर दिया जायेगा। 1 जनवरी, 2021 से प्राधिकरण द्वारा अपने आवंटियों, आवेदकों, निवेशकों तथा निवासियों के लिये भी पेपरलेस कार्य प्रणाली की व्यवस्था लागू करा दी जायेगी। जिससे सम्बन्धित आवंटी बिना प्राधिकरण आये अपने घर/आफिस से ही अदेयता प्रमाण पत्र, परमिशन टू मार्टगेज, समय विस्तरण आदि एक क्लिक पर प्राप्त कर लेंगे।
3. ग्रेटर नौएडा प्राधिकरण द्वारा अपने सभी स्ट्रीट लाईट, सीवर लाईन, वाटर लाईन आदि को जी.आई.एस. से लिंक करने हेतु आवश्यक कार्यवाही की जा रही है। जिससे कि प्राधिकरण के सम्बन्धित अधिकारियों को बिजली खराब होने, पोल गिरने, वाटर लाईन में लिकेज होने तथा सीवर लाईन में ब्लाकेज होने की जानकारी लोकेशन सहित कम्यूटर पर ही उपलब्ध हो जोयगी। जिससे समस्याओं का निस्तारण त्वरित एवं समयबद्ध हो सकेगा।
4. ग्रेटर नौएडा प्राधिकरण द्वारा उद्यमियों/औद्योगिक इकाईयों की समस्याओं के निराकरण हेतु विशेष कर कार्यपूर्ति प्रमाण पत्र एवं क्रियाशील प्रमाण पत्र आदि के सम्बन्ध में औद्योगिक सेक्टरों में सम्बन्धित एसोशियेशनों से समन्वय स्थापित कर कैम्प आयोजित कराये जायेगें। जिससे कि सम्बन्धित आवंटियों को उनके इकाई पर ही समस्याओं का समाधान करा दिया जायेगा। उक्त कैम्पों/अभियानों में काविड-19 के प्रोटोकाल्स एवं सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का अनुपालन भी अनिवार्य रूप से किया जायेगा। प्राधिकरण द्वारा औद्योगिक सेक्टर में प्रथम कैम्प माह अक्टूबर के द्वितीय सप्ताह में लगाया जाना प्रस्तावित है।
5. औद्योकिग सेक्टरों में जल-भराव की आ रही समस्याओं के निराकरण हेतु परियोजना विभाग द्वारा आवश्यक कार्य योजना तैयार की जा रही है। जिससे कि आगामी मानसून से पहले जल-भराव की समस्याओं का स्थायी समाधान सुनिश्चित हो सके ।
6. ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण द्वारा औद्योगिक सेक्टरों में मैकेनिकल स्वीपिंग की सुविधा हेतु कार्य योजना तैयार की जा रही है। जिससे कि औद्योगिक सेक्टरों की साफ सफाई सुनिश्चित हो सके। साथ ही कूडा आदि उठाने की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जा रही है।
7. परियोजना विभाग द्वारा विशेष अभियान चलाकर औद्योगिक सेक्टरों में अतिक्रमण जैसे अवैध खोखे, ठेले, खेामचे आदि को हटाकर सेक्टर का साफ सुथरा किया जायेगा।
8. ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण द्वारा औद्योगिक सेक्टर इकोटेक-12 की आन्तरिक सडकों के रिसर्फेसिंग का कार्य आगामी 4 सप्ताह में आरम्भ करा दिया जायेगा।
9. ग्रेटर नौएडा के औद्योगिक सेक्टरों में आवश्यकता के अनुरूप सार्वजनिक शौचालय भी निर्मित कराये जायेंगे।
10. औद्योगिक सेक्टर इकोटेक-2 में उद्योग विहार विस्तार में सेक्टर में प्रवेश एवं बाहर आने का एक ही मार्ग है। अतः उक्त सेक्टर में बाहर आने हेतु एक अन्य वैकल्पिक मार्ग तैयार कराये जाने हेतु प्राधिकरण के अधिकारियों द्वारा सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित कर समस्या का निस्तारण कराये जाने का प्रयास किया जायेगा।
11. ग्रेटर नौएडा प्राधिकरण द्वारा नये औद्योगिक सेक्टर-इकोटेक-7, इकोटेक-8, इकोटेक-9 तथा इकोटेक-16 में औद्योगिक भूमि आवंटन हेतु अधिग्रहित/सीधे क्रय के माध्यम से लगभग 600 हे0 भूमि अर्जिंत की जा रही है। जिस पर शीघ्र ही औद्योगिक भूमि आवंटन की योजना लाकर आवंटन प्राधिकरण द्वारा किया जायेगा।
12. ग्रेटर नौएडा प्राधिकरण द्वारा बचे हुये औद्योगिक/आई0टी0 भूखण्डों को पुर्ननियोजित कर औद्योगिक भूमि आवंटन की योजना शीघ्र ही लायी जायेगी।
13. जो उद्यमी/इकाई अपनी इकाई के आस-पास स्थित ग्रीनबेल्ट/रोटरी को एडाप्ट करने की इच्छुक है। उक्त के सम्बन्ध में अपना प्रस्ताव प्राधिकरण के उद्यान विभाग में उपलब्ध करा सकती है।
14. सी.एण्ड डी. वेस्ट को जगह-जगह से उठाकर एक जगह एकत्रित कर उसको प्रासेस कर निस्तारण किया जायेगा। प्राधिकरण द्वारा सी.एण्ड डी. वेस्ट का आई.आई.टी. रूडकी से वेटिंग करा ली गयी है। जिसका आर.एफ.पी. आगामी 3 दिनों में अपलोड करा दिया जायेगा।

ग्रेटर नौएडा के विभिन्न क्षेत्रों में 10 से 15 स्थान चिन्हित करने की कार्यवाही की जा रही है, जहां से सम्बन्धित एजेन्सी/कान्ट्रैक्टर द्वारा सी.एण्ड डी. वेस्ट कलेक्ट/एकत्रित करके सेक्टर इकोटेक-3 में चिन्हित स्थान पर सी.एण्ड.डी. वेस्ट का प्रोसेस कराया जायेगा। उक्त सी.एण्ड डी. वेस्ट से ब्रिक्स/टाईल्स आदि निर्मित की जायेंगी तथा सी.एण्ड.डी. वेस्ट का प्रोसेस कर सडक निर्माण/गढ्ढे भरने में भी इसका प्रयोग किया जायेगा।

प्राधिकरण द्वारा अपनी नये टेन्डर/निर्माण कार्यो में उपरोक्त वेस्ट से निर्मित ब्रिक्स एवं टाईल्स का प्रयोग निर्धारित अनुपात/मानकों के अनुसार किया जायेगा। साथ ही प्राधिकरण अपने क्षेत्र में स्थित औद्योगिक संस्थानों/इकाईयों से अनुरोध करता है कि सी.एण्ड.डी. वेस्ट प्लांट लगाकर अथवा अपने इकाई के निर्माण में उक्त ब्रिक्स एवं टाईल्स का प्रयोग कर पर्यावरण को संरक्षित करने में सहयोग करें।

यह भी देखे:-

वेदार्णा फाउंडेशन ने की इस साल के मिशन मानसून पोधारोपण की शुरुआत
आचरण शक्ति फाउंडेशन द्वारा आत्मरक्षा शिविर का आयोजन
मेरठ में राष्ट्रोदय कार्यक्रम में गौतमबुधनगर से 15 हज़ार स्वयं सेवक करेंगे शिरकत
गांव में चौपाल लगाकर महिलाओं को किया जागरूक
जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह की प्रेरणा से बच्ची ने असहाय लोगों में बांटा कम्बल
GPL 4 क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल में रोजा और लडपुरा की होगी भीडंत
योग गुरु कर्मवीर जी महाराज के शिविर में उमड़ी साधकों की भीड़
भाकियू ने सीओ को ज्ञापन सौंपा , फायर बिग्रेड  गाड़ी की माँग
पूर्व मंत्री के सरकारी गनर की करंट लगने से मौत
ग्रेटर नोएडा में रागिनी महाकुम्भ (लोक महोत्सव) कल 30 अक्टूबर को, जानिए कौन-कौन कलाकार देंगे प्रस्तुत...
प्रभारी मंत्री ने स्वच्छता रथ को झंडी दिखाकर किया रवाना
ग्रेटर नोएडा : रोजगार मेला कल 22 नवम्बर को , हाईस्कूल, इण्टरमीडिएट, आईटीआई योग्यता वाले युवक युवति...
गलगोटिया कॉलेज में 31वी यूपी एनसीसी बटालियन की वार्षिक संगोष्ठी
बैरीकेडिंग तोड़ ट्रोला ने पांच गाड़ियों को मारी टक्कर
ग्रेटर नोएडा : ग्रामीण क्षेत्रों में खेली गई होली, बसपा नेता वीरेंद्र डाढा ने बजाया नगाड़ा
नोएडा: जिला बदर किए गए इन 50 गुण्डों पर डीएम ने मांगी जनता से फीडबैक