नई शिक्षा नीति छात्र-केंद्रित है, मूल्य आधारित है और नवाचार के लिए छात्रों को प्रेरित करेगी

विशेष विश्लेषण:   शिक्षा नीति का उद्देश्य मानव क्षमता का पता लगाना और एक न्यायसंगत और न्यायपूर्ण समाज का विकास करना तथा राष्ट्रीय विकास के लिए इसका उपयोग करना है।,

नई शिक्षा नीति प्रत्येक की रचनात्मक क्षमता के विकास पर विशेष जोर देती है | वास्तव में, तेजी से बदलते रोजगार परिदृश्य और वैश्विक पारिस्थितिकी तंत्र के साथ, यह  महत्वपूर्ण होता जा रहा है कि बच्चे न केवल सीखते हैं, बल्कि अधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि सीखना कैसे सीखें।

नई शिक्षा नीति चरित्र निर्माण पर ध्यान केंद्रित करती है, शिक्षार्थियों को नैतिक, तर्कसंगत, दयालु और देखभाल करने में सक्षम बनाती है और उन्हें स्व-रोजगार और रोजगार के लिए तैयार करेगी। प्राचीन और सनातन भारतीय ज्ञान और विचार की समृद्ध विरासत इस नीति के लिए एक मार्गदर्शक प्रकाश रही है।

नई शिक्षा नीति उन नागरिकों को तैयार करने में मदद करेगी जो हमारे संविधान की भावनाओं के अनुसार एक समतामूलक, समावेशी और बहुवचन समाज का निर्माण करते हैं।

भारत में शिक्षा प्रणाली का सबसे बड़ा मुद्दा ड्रॉपआउट है | ग्रेड 6-8 के लिए सकल नामांकन अनुपात ( GER ) 90.9% था, जबकि ग्रेड 9-10 और 11-12 के लिए क्रमशः यह केवल 79.3% और 56.5% था, यह दर्शाता है कि नामांकित छात्रों का एक महत्वपूर्ण अनुपात ग्रेड 5 के बाद और विशेष रूप से ग्रेड 8 के बाद बाहर हो जाता है | नई शिक्षा नीति छात्रों को विकल्प प्रदान करती है ताकि छात्र अपनी प्रतिभा और रूचि के अनुसार जीवन में अपने रास्ते चुन सकते हैं | यह विकल्प निश्चित रूप से ड्रॉपआउट अनुपात को कम करने में मदद करेगा।

स्कूली शिक्षा की पाठ्यचर्या और शैक्षणिक संरचना को उनके विकास के विभिन्न चरणों में शिक्षार्थियों की विकास संबंधी आवश्यकताओं और हितों के प्रति संवेदनशील और प्रासंगिक बनाने के लिए पुनर्गठित किया जाएगा, जो 3-8, 8-11, 11-14 और 14-18 वर्ष क्रमशः की आयु सीमा के अनुसार है। दरअसल, 10+2 की जगह नई शिक्षा नीति में 5+3+3+4 की बात की गई है। सभी चरणों में पाठ्यक्रम और शिक्षा सुधार का मुख्य समग्र उद्देश्य शिक्षा प्रणाली को वास्तविक समझ की ओर ले जाना और सीखने के तरीके को सीखना होगा ।

सभी चरणों में, हाथ से सीखने, कला-एकीकृत और खेल-एकीकृत शिक्षा, कहानी-आधारित शिक्षाशास्त्र सहित अनुभवात्मक अधिगम को अपनाया जाएगा।

मल्‍टीपल एंट्री/एग्जिट के तहत अंडर ग्रेजुएट प्रोगाम 3 या 4 साल का हो सकता है. पीजी प्रोग्राम के लिए यह अवधि एक या दो साल है. इंटीग्रेटेड बैचलर्स/मास्‍टर्स 5 साल का होगा. एमफिल को डिस्‍कंटीन्‍यू किया जाएगा. बजाय इसके मास्‍टर के बाद सीधे पीएचडी में दाखिला लिया जा सकेगा.

किसी भी राष्ट्र के विकास के लिए, अनुसंधान बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | अनुसंधान के इस  महत्व के बावजूद, भारत में अनुसंधान और नवाचार निवेश वर्तमान समय में सकल घरेलू उत्पाद का केवल 0.69% है, जो बहुत कम है। अगर हम अन्य देशों से इसकी तुलना करें तो हम पाते हैं कि अमरीका 2.8% खर्च कर रहा है, इज़राइल 4.3% खर्च कर रहा है और दक्षिण कोरिया 4.2% खर्च कर रहा है। अनुसंधान में वित्त पोषण को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय अनुसंधान फाउंडेशन का प्रावधान है। इसमें न केवल साइंस बल्कि सोशल साइंस को भी शामिल किया जाएगा. यह फाउंडेशन बड़े प्रोजेक्ट्स की फाइनेंसिंग करेगा. यह शिक्षा के साथ रिसर्च में आगे आने में मदद करेगा | नई शिक्षा नीति न केवल विज्ञान के क्षेत्र में बल्कि मानविकी के क्षेत्र में भी शोध को बढ़ावा देती है।

विश्लेषक:

डॉ. गौरव गुप्ता, क्राइस्ट विश्वविद्यालय
 डॉ. मृदुल धारवाल, शारदा विश्वविद्यालय
डॉ. मृदुल धारवाल, शारदा विश्वविद्यालय

यह भी देखे:-

कोरोना: बिना मास्क चुनाव प्रचार पर हाईकोर्ट ने आयोग और केंद्र को भेजा नोटिस
Kisan Andolan Live: जंतर-मंतर पर किसानों की 'संसद', कृषि मंत्री बोले- हम बातचीत करने के लिए तैयार
Lara Dutta को इंदिरा गांधी के रूप में देख हैरान लोग, बोले- ‘मेकअप आर्टिस्ट को नेशनल अवॉर्ड मिलना चाह...
सनसनी खेज हत्या के दो आरोपी गिरफ्तार
इसरो का EOS-03 सैटेलाइट नहीं हो सका लांच, आखिरी मिनट में इंजन में आई खराबी
गणतंत्र दिवस में हिस्सा लेने वाले एनसीसी कैडेट्स को दी गई ट्रेनिंग
यूपी में 24 से 31 मार्च तक सभी स्कूल किये गए बंद, जाने पूरी ख़बर
पश्चिम बंगाल और असम समेत पांच राज्यों में हुई बंपर वोटिंग, ईवीएम में बंद हुआ वोटरों का फैसला
Mlc election:भाजपा ने श्रीचंद शर्मा पर जताया भरोसा, कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर
Tokyo Olympics: सेमीफाइनल में सिंधु की हार से रजत पदक की उम्मीदें टूटी, कांस्य पदक के लिए मुकाबला कल
शिक्षा के बिना मनुष्य का जीवन व्यर्थ : चौधरी प्रवीण भारतीय
युनाइटेड कॉलेज मे 200 पौधो का हुआ वृक्षारोपण
कस्बा जेवर में खेल के मैदान की व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए: प्रिंस भारद्वाज 
अयोध्या: मन्दिर के बाद अब मस्जिद का नक्शा तैयार
सड़क किनारे निर्माण सामग्री खुला रखने पर ठेकेदार पर 20 हजार का जुर्माना
व्यापार संघ जगतफार्म की नई कार्यकारिणी का गठन