सर्व मांगल्यकारी’ वैदिक रक्षा सूत्र बनाने की विधि और इसका महत्व 

🌷 #वैदिकरक्षासूत्र ( #रक्षाबंधन) 🌷

#वैदिक_रक्षाबंधन – प्रतिवर्ष श्रावणी-पूर्णिमा को रक्षाबंधन का त्यौहार होता है, इस बार 03 अगस्त 2020 सोमवार के दिन है। इस दिन बहनें अपने भाई को रक्षा-सूत्र बांधती हैं । यह रक्षा सूत्र यदि वैदिक रीति से बनाई जाए तो शास्त्रों में उसका बड़ा महत्व है ।

🌷 #वैदिकरक्षासूत्रबनानेकी_विधि 🌷

👉 इसके लिए ५ वस्तुओं की आवश्यकता होती है –
(१) दूर्वा (घास) (२) अक्षत (चावल) (३) केसर (४) चन्दन (५) सरसों के दाने ।

👉 इन ५ वस्तुओं को रेशम के कपड़े में लेकर उसे बांध दें या सिलाई कर दें, फिर उसे कलावा में पिरो दें, इस प्रकार वैदिक राखी तैयार हो जाएगी ।

🌷 #इनपांचवस्तुओंकामहत्त्व 🌷
👉 (१) दूर्वा – जिस प्रकार दूर्वा का एक अंकुर बो देने पर तेज़ी से फैलता है और हज़ारों की संख्या में उग जाता है, उसी प्रकार मेरे भाई का वंश और उसमे सदगुणों का विकास तेज़ी से हो । सदाचार, मन की पवित्रता तीव्रता से बढ़ता जाए । दूर्वा गणेश जी को प्रिय है अर्थात हम जिसे राखी बाँध रहे हैं उनके जीवन में विघ्नों का नाश हो जाए।

👉 (२) अक्षत – हमारी गुरुदेव के प्रति श्रद्धा कभी क्षत-विक्षत ना हो सदा अक्षत रहे ।

👉 (३) केसर – केसर की प्रकृति तेज़ होती है अर्थात हम जिसे राखी बाँध रहे हैं, वह तेजस्वी हो । उनके जीवन में आध्यात्मिकता का तेज, भक्ति का तेज कभी कम ना हो ।

👉 (४) चन्दन – चन्दन की प्रकृति तेज होती है और यह सुगंध देता है । उसी प्रकार उनके जीवन में शीतलता बनी रहे, कभी मानसिक तनाव ना हो । साथ ही उनके जीवन में परोपकार, सदाचार और संयम की सुगंध फैलती रहे ।

👉 (५) सरसों के दाने – सरसों की प्रकृति तीक्ष्ण होती है अर्थात इससे यह संकेत मिलता है कि समाज के दुर्गुणों को, कंटकों को समाप्त करने में हम तीक्ष्ण बनें ।

👉 इस प्रकार इन पांच वस्तुओं से बनी हुई एक राखी को सर्वप्रथम गुरुदेव के श्री-चित्र पर अर्पित करें । फिर बहनें अपने भाई को, माता अपने बच्चों को, दादी अपने पोते को शुभ संकल्प करके बांधे ।

👉 महाभारत में यह रक्षा सूत्र माता कुंती ने अपने पोते अभिमन्यु को बाँधी थी । जब तक यह धागा अभिमन्यु के हाथ में था तब तक उसकी रक्षा हुई, धागा टूटने पर अभिमन्यु की मृत्यु हुई ।

👉 इस प्रकार इन पांच वस्तुओं से बनी हुई वैदिक राखी को शास्त्रोक्त नियमानुसार बांधते हैं हम पुत्र-पौत्र एवं बंधुजनों सहित वर्ष भर सुखी रहते हैं ।

🌷 #रक्षासूत्रबांधतेसमययेश्लोकबोलें 🌷

येन बद्धो बलि राजा, दानवेन्द्रो महाबलः ।
तेन त्वाम रक्ष बध्नामि, रक्षे माचल माचल: ।
🙏🏻🌷🌻🌹🍀🌺🌸🍁💐🙏🏻 जय माता दी जी जगदम्बा ज्योतिष केन्द्र पं.मूर्तिराम,आनन्द वर्द्धन नौटियाल ज्योतिषाचार्य (देबि,नृसिहं उपासक गंगौत्री धाम) +91 93 10 110 914

यह भी देखे:-

सुंदरकांड पाठ कार्यक्रम का भव्य आयोजन
आज का पंचांग, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
आज का पंचांग, 23 अगस्त 2020, जाने शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
आज  का पंचांग, 1  अगस्त 2020 , जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
आज का पंचांग, 24  अगस्त 2020,  जानिए शुभ एवं अशुभ 
शिक्षण संस्थानों में धूम-धाम से मनाई गयी जन्माष्टमी
महाशिवरात्रि विशेष : राशिनुसार करें इन शिव मंत्रों का जाप, हटेंगी सब परेशानी जीवन होगा खुशहाल
आज का पंचांग, 18 जनवरी 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
कल का पंचांग, 18 फ़रवरी 2020 , जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
आज का पंचांग, 15 जुलाई 2020, जानिए शुभ अशुभ मूहुर्त
हनुमंत कथा में जगन्नाथपुरी के माधवदास की कथा का वर्णन , हजारों की संख्या में पहुंचे भक्त
आज का पंचांग , 13  नवंबर 2020  जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
आज का पंचांग , 25 अगस्त 2020, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
नोएडा में छठ पूजा,  व्रतियों ने अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया
वाराणसी: राहुल गांधी चीन के एजेंट है- सांसद मनोज तिवारी ,सैनिक पीछे जा रहे तो सीने में दर्द क्यों
जब दशमी 26अक्टूबर की है, तो दशहरा 25 अक्टूबर को क्यों, जानिए राज