रक्षाबंधन की पावन पौराणिक कथाएं और मुहूर्त आओ जानें

3 अगस्त को भद्रा सुबह 9 बजकर 29 मिनट तक है. राखी का त्योहार सुबह 9 बजकर 30 मिनट से शुरू हो जाएगा. दोपहर को 1 बजकर 35 मिनट

पंडित नितेश मिश्रा

से लेकर शाम 4 बजकर 35 मिनट तक बहुत ही अच्छा समय है. इसके बाद शाम को 7 बजकर 30 मिनट से लेकर रात 9.30 के बीच में बहुत अच्छा मुहूर्त है.

रक्षाबंधन की कई कथाएं हैं लेकिन हम यहां कुछ चर्चित कथाएं दे रहे हैं। इनमें से पहली कथा का धार्मिक महत्व है, जिसे पूजन के साथ कहा जाता है। बाकी की कथाएं भाई-बहन के प्रेम के प्रतीक इस अनोखे त्योहार की महत्ता से संबंधित हैं।

रक्षाबंधन कथा-1:
एक बार युधिष्ठिर ने भगवान कृष्ण से पूछा- ‘हे अच्युत! मुझे रक्षाबंधन की वह कथा सुनाइए जिससे मनुष्यों की प्रेतबाधा तथा दुख दूर होता है।’ भगवान कृष्ण ने कहा- हे पांडव श्रेष्ठ! एक बार दैत्यों तथा सुरों में युद्ध छिड़ गया और यह युद्ध लगातार बारह वर्षों तक चलता रहा। असुरों ने देवताओं को पराजित करके उनके प्रतिनिधि इंद्र को भी पराजित कर दिया।

ऐसी दशा में देवताओं सहित इंद्र अमरावती चले गए। उधर विजेता दैत्यराज ने तीनों लोकों को अपने वश में कर लिया। उसने राजपद से घोषित कर दिया कि इंद्रदेव सभा में न आएँ तथा देवता व मनुष्य यज्ञ-कर्म न करें। सभी लोग मेरी पूजा करें।

दैत्यराज की इस आज्ञा से यज्ञ-वेद, पठन-पाठन तथा उत्सव आदि समाप्त हो गए। धर्म के नाश से देवताओं का बल घटने लगा। यह देख इंद्र अपने गुरु बृहस्पति के पास गए तथा उनके चरणों में गिरकर निवेदन करने लगे- गुरुवर! ऐसी दशा में परिस्थितियाँ कहती हैं कि मुझे यहीं प्राण देने होंगे। न तो मैं भाग ही सकता हूँ और न ही युद्धभूमि में टिक सकता हूँ। कोई उपाय बताइए।

बृहस्पति ने इंद्र की वेदना सुनकर उसे रक्षा विधान करने को कहा। श्रावण पूर्णिमा को प्रातःकाल निम्न मंत्र से रक्षा विधान संपन्न किया गया।

‘येन बद्धो बलिर्राजा दानवेन्द्रो महाबलः।
तेन त्वामभिवध्नामि रक्षे मा चल मा चलः।’

इंद्राणी ने श्रावणी पूर्णिमा के पावन अवसर पर द्विजों से स्वस्तिवाचन करवा कर रक्षा का तंतु लिया और इंद्र की दाहिनी कलाई में बाँधकर युद्धभूमि में लड़ने के लिए भेज दिया। ‘रक्षाबंधन’ के प्रभाव से दैत्य भाग खड़े हुए और इंद्र की विजय हुई। राखी बाँधने की प्रथा का सूत्रपात यहीं से होता है।

रक्षाबंधन कथा-2:
भारतीय इतिहास के अनुसार मुसलमान शासक भी रक्षाबंधन की धर्मभावना पर न्योछावर थे। जहाँगीर ने एक राजपूत स्त्री का रक्षा सूत्रपाकर समाज को विशिष्ट आदर्श प्रदान किया। इस संदर्भ में पन्ना की राखी विशेषतः उल्लेखनीय है। एक बार राजस्थान की दो रियासतों में गंभीर कलह चल रहा था। एक रियासत पर मुगलों ने आक्रमण कर दिया। अवसर पाकर दूसरी रियासत वाले राजपूत मुगलों का साथ देने के लिए सैन्य सज्जा कर रहे थे। पन्ना भी इन्हीं मुगलों के घेरे में थी। उसने दूसरी रियासत के शासक को, जो मुगलों की सहायतार्थ जा रहा था, राखी भेजी। राखी पाते ही उसने उलटे मुगलों पर आक्रमण कर दिया। मुगल पराजित हुए। इस तरह रक्षाबंधन के कच्चे धागे ने दोनों रियासतों के शासकों को पक्की मैत्री के सूत्र में बाँध दिया।

कृष्ण-द्रौपदी कथा:
एक बार भगवान श्रीकृष्ण के हाथ में चोट लग गई तथा खून की धार बह निकली। यह सब द्रौपदी से नहीं देखा गया और उसने तत्काल अपनी साड़ी का पल्लू फाड़कर श्रीकृष्ण के हाथ में बाँध दिया फलस्वरूप खून बहना बंद हो गया। कुछ समय पश्चात जब दुःशासन ने द्रौपदी की चीरहरण किया तब श्रीकृष्ण ने चीर बढ़ाकर इस बंधन का उपकार चुकाया। यह प्रसंग भी रक्षाबंधन की महत्ता प्रतिपादित करता है।

यह भी देखे:-

शिक्षण संस्थानों में धूम-धाम से मनाई गयी जन्माष्टमी
विधि विधान के साथ हुई देव शिल्पी विश्वकर्मा की पूजा
श्री धार्मिक रामलीला कमेटी के पदाधिकारियों ने सीईओ ग्रेनो से की मुलाकात
जानिए, नवरात्र 2017 में माँ दुर्गा का पूजा करने व कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त
आज का पंचांग, 24  अगस्त 2020,  जानिए शुभ एवं अशुभ 
20 घण्टे में हरिद्वार से ग्रेटर नॉएडा पहुँचे स्केटिंग काँवरिया
ग्रेटर नोएडा : कायस्थ समाज ने की भगवान श्री चित्रगुप्त व कलम दवात की पूजा
ग्रेटर नोएडा में 2 सितम्बर से 14 वां श्री गणेशोत्सव
जहाँगीरपुर प्राचीन शिव मंदिर पर राम मंदिर का निर्माण हेतु भूमि पूजन कर आधार शिला रखी गयी
अग्रसेन वैश्य सेवा समिति ने धूमधाम से मनाई अग्रसेन जयन्ती व गोवर्धन पूजा
छठ पूजा के लिए सजा सूरजपुर बाराही चमत्कारी सरोवर
आईटीएस डेंटल कॉलेज में माता की चौकी, जय माता दी के लगे जयकारे
हनुमंत कथा में जगन्नाथपुरी के माधवदास की कथा का वर्णन , हजारों की संख्या में पहुंचे भक्त
नागपंचमी (श्रावण पंचमी) 25 जुलाई 2020 पर विशेष
आज का पंचांग, 15 जुलाई 2020, जानिए शुभ अशुभ मूहुर्त
सालों बाद आया अद्भुत संयोग, सोमवार से शुरू होकर सोमवार को ही ख़त्म होगा श्रावण