CBSE 10th 12th Exams 2020 : जुलाई से होने वाली परीक्षा रद्द, पढ़ें विस्तृत खबर

CBSE 10th 12th Exams 2020 : आगामी 1 से 15 जुलाई के बीच होने वाली सीबीएसई की परीक्षाएं अब आयोजित नहीं होंगी। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE)10 वीं की बची हुईं परीक्षाएं अब नहीं लेने का फैसला लिया है , जबकि 12 वीं के छात्रों को  समय अकूल होने  पर परीक्षा देने या फिर पिछली 3 परीक्षाओं के आधार पर असेसमेंट का विकल्प देगा। सॉलीसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि असेसमेंट रिजल्ट 15 जुलाई को आ जाएगा। इस मामले में कल भी सुनवाई जारी रहेगी।

सीबीएसई ने 1 से 15 जुलाई तक होने वाली 10वीं, 12पीं परीक्षाएं रद्द करने का फैसला किया है। यह जानकारी आज सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट को दी गई। सीबीएसई ने छात्रों को यह विकल्प भी दिया है कि वे कोरोना की स्थिति सामान्य होने के बाद परीक्षा देने का विकल्प भी चुन सकते हैं।

केंद्र ने कोर्ट को जानकारी दी कि कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों का पिछली परीक्षा के आधार पर मूल्यांकन करने के लिए योजना तैयार कर ली गई है। वहीं सीबीएसई ने कोर्ट को बताया कि कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों के पास बाद में परीक्षा देने का विकल्प होगा।

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि सीबीएसई के 10वीं कक्षा के विद्यार्थियों का मूल्यांकन पिछली तीन परीक्षाओं में प्रदर्शन के आधार पर किया जाएगा। केंद्र ने कोर्ट से यह भी कहा है कि सीबीएसई की 10वीं की शेष परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं और पुनः परीक्षा कराने का कोई प्रावधान नहीं है। केंद्र ने कोर्ट से कहा है कि स्थितियां अनुकूल होने पर सीबीएसई परीक्षा आयोजित करेगा।
आईसीएसई बोर्ड ने न्यायालय को सूचित किया कि उसने भी 10वीं और 12वीं कक्षा की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है और फिर परीक्षा कराने का कोई विकल्प नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के कथन का संज्ञान लिया और सीबीएसई को नई अधिसूचना जारी करके कक्षा 12 वीं की बोर्ड परीक्षाओं का विवरण स्पष्ट करने का निर्देश दिया।

सुनवाई तीन जजों की बेंच एएम खानविलकर, दिनेश महेश्वरी और संजीव खन्ना के समक्ष हुईं।

2.00: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने 10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं के विषय में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को एक पत्र लिखा है। मनीष सिसोदिया ने केंद्र सरकार से कहा है कि 1०वीं और 12वीं की शेष रह गई बोर्ड परीक्षाएं नहीं करवाई जाएं।

12.30: दरअसल बोर्ड ने इससे पहले सुनवाई में कहा था कि बुधवार शाम तक वह फैसला ले लेगा कि परीक्षाएं 1 जुलाई से आयोजित कराईं जाए या नहीं। इसके बाद गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को अपने फैसले के बारे में बताएगा। वहीं आईसीएसई बोर्ड भी सीबीएसई के फैसले का अनुसरण करेगा। दरअसल देशभर में कोरोना वायरस महामारी के कारण देशभर में परीक्षाएं रद्द करने की मांग कर रहे हैं।

इसी को देखते हुए कुछ अभिभावकों ने 1 से 15 जुलाई तक होने वाली बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने तथा इंटरनल असेसमेंट के आधार पर छात्रों का रिजल्ट बनाने की मांग करते हुए शीर्ष अदालत में याचिका दायर की थी। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी का प्रकोप बढ़ रहा है, परीक्षा के लिए बच्चों को भेजने से उन्हें खतरा हो सकता है।

सुप्रीम कोर्ट ने 17 जून को पेरेंट्स की याचिका के आधार पर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से कहा था कि वह 10वीं 12वीं की बची परीक्षाएं रद्द करने और इंटरनल असेसमेंट के आधार पर रिजल्ट जारी करने के अनुरोध पर विचार करे। कोर्ट ने इसके लिए बोर्ड को एक हफ्ते (23 जून) का समय दिया था। लेकिन 23 जून को बोर्ड ने कोर्ट में कहा था कि सरकार इस मसले पर विचार कर रही है और बुधवार शाम तक इस पर निर्णय ले लिया जायेगा। सीबीएसई ने कहा कि निर्णय की प्रक्रिया काफी आगे पहुंच चुकी है। हम विद्यार्थियों की चिंता से वाकिफ हैं। हम कोर्ट को निर्णय के बारे में परसों सूचित कर सकते हैं। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी।

बताया जा रहा है कि अगर सीबीएसई 10वीं 12वीं की शेष परीक्षाएं रद्द करता है तो इंटरनल असेसमेंट के आधार पर स्टूडेंट्स को ग्रेड दिए जा सकते हैं। यह ग्रेडिंग सिस्टम पूरे देश में लागू होगा। ग्रेड देते समय उन पेपरों में स्टूडेंट्स का प्रदर्शन देखा जा सकता है जो हो चुके हैं।

जो सरकार फैसला लेगी, वही ICSE बोर्ड भी मानेगा
आईसीएसई की परीक्षाओं से संबंधित एक अन्य याचिका पर सुनवाई के दौरान इस बोर्ड के वकील ने पीठ से कहा कि वे सीबीएसई की परीक्षओं के मामले में सरकार के फैसले का ही व्यापक रूप से अनुपालन करेंगे।

महाराष्ट्र सरकार ने ICSE बोर्ड परीक्षाएं आयोजित करने की अनुमति देने से किया इनकार
महाराष्ट्र सरकार ने बुधवार को बंबई उच्च न्यायालय में कहा कि भारतीय स्कूल परीक्षा प्रमाणपत्र (आईसीएसई) बोर्ड को कोविड-19 की स्थिति के मद्देनजर जुलाई में कक्षा दसवीं और बारहवीं की की लंबित परीक्षाएं आयोजित करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है। सरकार ने कहा कि उसने इस महामारी के आलोक में राज्य में अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों के लिए विश्वविद्यालय की अपनी परीक्षाएं भी नहीं कराने का निर्णय लिया है। आईसीएसई बोर्ड ने राज्य में 2 जुलाई से 12 जुलाई तक अपनी लंबित परीक्षाएं आयोजित करने का निर्णय लिया था क्योंकि कोविड-19 महामारी के चलते मार्च में परीक्षाएं आयोजित नहीं करवायी जा सकी थीं। मुम्बई निवासी अरविंद तिवारी ने याचिका दायर करके जुलाई में परीक्षा कराने के बोर्ड के फैसले को चुनौती दी है और दावा किया है कि कोविड-19 के मामले अब भी बढ़ते जा रहे है। तिवारी ने कहा कि आईसीएसई के विद्यालयों द्वारा दिये गये ग्रेड तथा करायी गयी अंदरूनी परीक्षाओं में विद्यार्थियों की पहले के मूल्यांकन के आधार पर परीक्षा परिणाम घोषित करना उपयुक्त नहीं होगा।

यह भी देखे:-

भारतीय मूल के इस डॉक्टर को मिला अमेरिका में कोरोना के कहर को थामने का जिम्मा
ग्रेटर नोएडा : 10 वी मंजिल से गिरकर मजदूर की मौत
उत्तर प्रदेश सरकार कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को तुरंत रिहा करे : वीरेंद्र सिंह गुड्डू
नेफोवा अन्य बायर संगठनों ने सीएम योगी के सामने रखी बायर्स की समस्याएँ , सीएम ने दिया जल्द ठोस कार्...
ग्रेटर नोएडा वेस्ट रामलीला : रावण दहन कर दिया गया बुराई पर अच्छाई की जीत का सन्देश
गौतमबुद्ध नगर पुलिस : कई कोतवाल हटाए गए , 10 इंस्पेक्टर समेत 13 के तबादले
छत्तीसगढ़: अगवा किए गए पुलिस अधिकारी की नक्सलियों ने की हत्या
रोलर स्केटिंग चैंपियनशिप में ग्रेनो के स्केटर्स चमके
अब नॉन कोविड अस्पतालों में भी भर्ती होंगे संक्रमित
आर-पार की लड़ाई के मूड में किसान, स्थानीय युवकों के रोजगार को लेकर 10 अक्टूबर को धरना
पेड़ से लटकी मिली लाश, जांच में जुटी पुलिस
समसारा विद्यालय ने विद्यार्थियों के लिए आयोजित किया परीक्षा पे चर्चा का सीधा प्रसारण
आज ही के दिन 1921 में रखी गई थी इंडिया गेट की नींव, 1931 में बनकर तैयार हुआ था
बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी ने विधान परिषद में कहा कि शिक्षामित्रों को स्थायी श...
ग्रेटर नोएडा: बेस्ट टैलेंट ऑफ इंडिया में ग्रेनो के बच्चों का चयन, कलर्स चैनल पर होगा जल्द प्रसारित
14 साल पहले घर से चला गया था बेटा, लौटा तो लग्जरी कार और ट्रकों का मालिक बनकर, दिलचस्प है ये कहानी