अब कोरोना बीमारी की जांच एंटीजन किट से होगी, आइसीएमआर विशेषज्ञ स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षित करेगे

  • 22 दिनों में ही 1126 मरीजों की पुष्टि हो चुकी है।
  • जून के 20 दिनों में ही मई के मुकाबले 8 गुना अधिक मौतें हुई हैं।
गौतमबुध्द नगर में बेकाबू होता कोरोना वाइरस जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के लिए चिंता का कारण बना हुआ है। जून के 22 दिनो में कोरोना वायरस 1126 लोगो को अपना शिकार बना चुका है इस दौरान 12 लोगो की मौत हो चुकी है। कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर उत्तर प्रदेश शासन सख्त हो गया है। शासन के निर्देश पर ही जिले में अब कंटेनमेंट जोन में एंटीजन किट से जाच की तैयारी की जा रही है। 24 जून को इसके लिए एक प्रशिक्षक कार्यक्रम आयोजित होगा, इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) के विशेषज्ञ स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षित करेंगे और स्वास्थ्य कर्मियों को इसकी जाच विधि बताई जाएगी।
हमे आइसीएमआर से 15000 टेस्ट किट एक दो दिन प्राप्त हो जाएगे
जिला अधिकारी सुहास एल.वाई ने बताया कि एनसीआर के अन्य क्षेत्रों के साथ जीबी नगर में एंटीजन किट से कोरोना का टेस्ट किया जाएगा। हमे आइसीएमआर से 15000 टेस्ट किट एक दो दिन प्राप्त हो जाएगे  स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षित के बाद स्वास्थ्य विभाग जांच  की रणनीति बनाएगा। ऐसे स्थानों पर जांच होंगी जहा अब तक सबसे अधिक मरीजों की पुष्टि हुई है। वहीं ऐसे स्थान भी मरीज ढूंढे जा सकते हैं जहा संक्रमण का कारण पूरी तरह से पता नहीं चला हो।
इस किट से जाच के बाद अधिकतम 30 मिनट में जाच रिपोर्ट आ जाएगी।
सीएमओ दीपक ओहरी ने बताया कि इस किट से जाच के बाद अधिकतम 30 मिनट में जाच रिपोर्ट आ जाएगी। ऐसे में प्रभावित इलाकों में जाच के बाद मरीज के पॉजिटिव होने की स्थिति में उसका इलाज शुरू कर दिया जाएगा। जल्द जाच रिपोर्ट आने से संक्रमण की स्थिति की जानकारी मिल सकेगी। मरीज और उनके संपर्क में रहे लोगों का इलाज शुरू किया जा सकेगा। इससे कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने में भी मदद मिलेगी। एंटीजन से कोरोना का टेस्ट से  प्रारंभिक ट्रैकिंग, मृत्यु दर को कम करने और घटाने में मदद मिलेगी।
22 दिनों में ही 1126 मरीजों की पुष्टि हो चुकी है।
जब नोएडा में मार्च के महीने जब कोरोना का पहला मामला मिला था। उसके बाद लॉकडाउन लगा दिया गया था। जिसके कारण कोरोना वायरस पर लगाम लगी थी। और मार्च-अप्रैल और मई के 3 महीनों में मरीजों की संख्या 453 थी। लॉकडाउन के जून में हटते ही के 22 दिनों में ही 1126 मरीजों की पुष्टि हो चुकी है जो 3 महीने से मरीजों से 157% अधिक है। कोरोना वाइरस के संक्रमण के कारण जून के 20 दिनों में ही मई के मुकाबले 8 गुना अधिक मौतें हुई हैं। मई के महीने में कोरोना संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या 7 थी जबकि जून महीने 12 लोगो की मौत हो चुकी है। मार्च और अप्रैल में इस बीमारी से एक भी मौत नहीं हुई थी।

यह भी देखे:-

Ujjwala Yojana 2.0 : 20 लाख लोगों को मिलेगा लाभ, विभिन्न जिलों में लाभार्थियों से किया संवाद
स्वार्थी राजनेताओं ने आजादी का सबसे ज्यादा फायदा उठाया
भाजपा नेता को गोलियों से भूनकर मौत के घाट उतारा , दो गार्ड और राहगीर युवती की भी मौत
नशे के सौदागरों पर पुलिस ने कसा शिकंजा, 5 तस्कर गिरफ्तार, 65 किलो से ज्यादा गांजा बरामद
ग्रेटर नोएडा : बिसहड़ा में सीएम योगी की जनसभा , प्रियंका पर वार
ACE CITY के सामने वाले गोलचक्कर का नाम "मेजर रोहित चौक, ऐमनावाद" हुआ
यूपी परिवहन निगम के एमएसटी घोटाले में आधा दर्जन अफसर दोषी, क्या होगी कड़ी कार्रवाई
त्वरित व संतुष्टिपरक हो लोगों की समस्याओं का समाधान : मुख्यमंत्री
पूर्व दिगंता फाउंडेशन ने मनाया विश्व पर्यावरण दिवस
बिहार : कल से ये आठ स्पेशल ट्रेनों के परिचालन पर ब्रेक, रेलवे ने बताई ये है मुख्य वजह
पजेशन न मिलने से दु:खी खरीदारों ने किया हंगामा, पीएम सीएम से लगाई मदद की गुहार
3 लोगों को हिरासत में लिया गया है
यमुना प्राधिकरण में मकान, स्कूल, होटल व अस्पताल बनाने के लिए आएगी भूखंड की योजना
लॉकडाउन का उलंघन कर रहे लोग गिरफ्तार
Aryan Khan Case Updates: शाह रुख खान के बेटे की जमानत याचिका खारिज, रहेंगे जेल में
आईटीएस डेंटल कॉलेज में दंत चिकित्सा में रेडियोलाॅजी की उपयोगिता पर आॅनलाइन वेबिनार का आयोजन