खण्डग्रास सूर्य ग्रहण कल , जानिए भारत में पड़ने वाले प्रभाव

खण्डग्रास सूर्य ग्रहण :-
आषाढ़ कृष्ण पक्ष अमावस्या रविवार (21 जून 2020) को (चूड़ामणि योग) खण्डग्रास सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई देगा एवं यह मध्य अफ्रीका,

पंडित नितेश भारद्वाज

दक्षिणी प्रशांत महासागर, हिंद महासागर, चीन ताइवान, अरब क्षेत्रों में, ओमान, पाकिस्तान आदि क्षेत्रों में भी देखने को मिलेगा।
खण्डग्रास सूर्य ग्रहण मृगशिरा नक्षत्र में प्रारंभ होगा एवं मोक्ष (समाप्ति) आर्द्रा नक्षत्र में होगी।
सार्वभौमिक परिदृश्य में इसका समय (भा. मा. स.) – ग्रहण का स्पर्श 10:09 मिनट
ग्रहण का मध्य 11: 47 मिनट
ग्रहण मोक्ष 1:43 मिनट पर होगा।
ध्यान रखें सूर्य ग्रहण समय हर स्थान में अलग – अलग होगा।

इस खण्डग्रास सूर्य ग्रहण का स्पर्श – 10:09मिनट दिवा
ग्रहण का मध्य – 11:47 मिनट
ग्रहण का मोक्ष – 1:43 मिनट
ग्रहण का सूतक -10:09मिनट रात्रि (20 जून 2020)

खण्डग्रास सूर्य ग्रहण समय में भारत में पड़ने वाले प्रभाव –
सूर्य चंद्र बुध सूर्य राहु की युति एवं 6 ग्रह वक्री हैं बुध, गुरु, शुक्र शनि राहु और केतु तथा मृगशिरा नक्षत्र में 4 ग्रहों की युति ।
इसका परिणाम बहुत ही भयानक हो सकती है।
जैसे – कोई बड़ा बम विस्फोट, आगजनी समस्या, अनकहीं घटना, युद्ध, आकाशीय घटना,भूकम्प, तूफान, उच्च स्तरीय नेताओं की असामयिक मृत्यु, एवं सीमा पर उठा-पटक की संभावना बन सकती है।

राशिफल –
मेष – समय लाभदायक रहेगा । इस समय आप ॐ नमो भगवते वासुदेवायः का जप करें।
वृष – समय अनुकूल नहीं है। इस समय आप ॐ गं गणपतये नमः का जप करें।
मिथुन – मानसिक परेशानी। इस समय आप ॐ घृणी सूर्याय नमः का जप करें।
कर्क – आर्थिक क्षति। इस समय आप ॐ नमः शिवाय का जप करें।
सिंह – समय लाभकारी है। इस समय आप गायत्री मंत्र का जप करें।
कन्या – समय अनुकूल है। इस समय आप आप ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चै का जप करें।
तुला – मानसिक तनाव हो सकता है। इस समय आप ॐ नमः शिवाय का जप करें।
वृश्चिक – समय कष्टकारी हैं। इस समय आप हनुमान चालीसा का पाठ करें।
धनु – पीड़ादायक समय हैं। इस समय आप ॐ नमो भगवते वासुदेवाय का जप करें।
मकर – लाभकारी समय हैं। इस समय आप हनुमान चालीसा का पाठ करें।
कुम्भ – समय अनुकूल नहीं है। इस समय आप बजरंग बाण का पाठ करें।
मीन – समय अनुकूल है। इस समय आप गायत्री मंत्र का जप करें।

👉 सूतक लग जाने पर मंदिर में प्रवेश करना, मूर्त्ति को स्पर्श करना, भोजन करना, मैथुन करना, सोना, यात्रा करना इत्यादि वर्जित है लेकिन बालक, वृद्ध, रोगी अत्यावश्यक में पथ्याहार ले सकते हैं।
भोजन सामग्री जैसे दूध, दहीं घी इत्यादि कुश या तुलसी दल रख दें।
गर्भवती महिलाएं पेट पर गाय के गोबर का पतला लेप लगायें।
ग्रहण के पश्चात स्नान दान करके भोजन करें।
(अग्रे हरि इच्छा बलीयसी)

धन्यवाद 🙏

यह भी देखे:-

महिला प्रोफ़ेसर से लूट कर भाग रहे बदमाश को पुलिस ने एनकाउंटर में किया ढेर , डेढ़ लाख का था ईनाम
अगले माह सुप्रीम कोर्ट में हो जाएंगी छह न्यायाधीशों की कमी, जानें कौन हो सकते हैं अगले चीफ जस्टिस
बंगाल में कोरोना के बढ़ते संक्रमण व छिटपुट हिंसा के बीच 78.36 फीसद मतदान
ग्रेटर नोएडा : महिला से पॉश सोसाइटी में गैंग रेप
डीएम गौतमबुद्ध नगर ने सरकारी अफसरों कर्मचारियों पर लगाई ये पाबन्दी , पढ़ें पूरी खबर
राकेश टिकैत बोले- पीछे हटना हमारी डिक्शनरी में नहीं, सेना की तरह हम भी मोर्चे पर
सपा अध्यक्ष का हमला: अखिलेश यादव बोले- किसानों के साथ लगातार छल कर रही सरकार
पेगासस जासूसी मामला : कांग्रेस बोली- राहुल गांधी की भी फोन टैपिंग कराई गई
ट्रेन से गिरकर घायल युवक का मामला , रेल मंत्रालय ने GRENONEWS की खबर का लिया संज्ञान
वैष्णो देवी की फोटो वाला सिक्का करा सकता है तगड़ी कमाई, मिलेंगे 10 लाख
यूपीपीएससी: उत्तर प्रदेश में 124 लेक्चरर पदों पर निकलीं भर्तियां, 19 जुलाई तक कर सकते हैं आवेदन
IPPB मोबाइल एप से खोल सकते हैं पोस्ट ऑफिस डिजिटल बचत खाता, जानिए स्टेप बाय स्टेप प्रॉसेस
क्या आपको कोरोना हुआ था? लंबे समय के लिए शरीर में बन जाएगी एंटीबॉडी 
JEE Main 2021 Admit Card: जेईई मेन तीसरे चरण की परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड जारी, 20 जुलाई से एग्जाम
कोरोना : नौ राज्यों से आने वालों पर रहेगी सख्त निगरानी
लूट की योजना बना रहे पांच बदमाश गिरफ्तार