भारत से माइंड गेम खेल रहा चीन, सिर्फ शांतिपूर्ण समझौते की जरूरत : पूर्व सेनाध्यक्ष

Grenonews: पूर्व भारतीय सेनाध्यक्ष जनरल बिक्रम सिंह का कहना है कि चीन दरअसल, जंग जैसे हालात नहीं चाहते बल्कि भारत से माइंड गेम खेल रहा चीन . जरनल सिंह ने सीएनएन के लिए एक संपादकीय में बताया है कि अपने घर के अंदर कोरोना वायरस से पैदा हुए हालात के साथ-साथ दुनियाभर के निशाने पर खड़ा चीन, हिमालय में कोई खतरा नहीं उठाएगा। भारत उसका मुख्य क्षेत्रीय रणनीतिक प्रतिद्वंदी है और भारत के साथ कोई विवाद न सिर्फ चीन की परेशानी बढ़ाएगा बल्कि 2050 तक ग्लोबल सुपरपावर बनने की उसकी ख्वाहिश भी लटक जाएगी। जनरल सिंह का कहना है कि शी जिनपिंग के सामने चीन की सिकुड़ती अर्थव्यवस्था, अमेरिका के साथ खड़ा हुआ ट्रेड-विवाद, उत्पादन इकाइयों का बाहर जाना और बेल्ट ऐंड रोड इनिशेटिव जैसी चुनौतियां खड़ी हैं। वहीं, हॉन्ग-कॉन्ग में विरोध प्रदर्शन, ताइवान का कठोर रुख और कोरोना वायरस को लेकर दुनियाभर में उठ रही जांच की मांग ने उसका सिर दर्द बढ़ा दिया है। दूसरी ओर पाकिस्तान को छोड़कर एशिया के बाकी सभी देशों में चीन के बर्ताव और कोरोना में भूमिका को लेकर उसके खिलाफ माहौल बन चुका है।
इसलिए कर रहा है चीन ऐसी हरकतें
जनरल सिंह का मानना है कि पेइचिंग शायद सीमा पर तनाव की स्थिति के जरिए भारत को संदेश देने की कोशिश कर रहा है। दरअसल, भारत भी बाकी दुनिया के साथ कोरोना को लेकर जांच की मांग कर रहा है। साथ ही, भारत ने चीन से प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को अप्रूव करने के ऑटोमैटिक रूट को ब्लॉक कर दिया है। दूसरी ओर भारत और अमेरिका के बीच संबंध गहराते दिख रहे हैं। चीन बाहरी चुनौतियों से निपटने के लिए डराने-धमकाने के लिए जाना जाता है। देश के अंदर सरकार की विफलताओं के खिलाफ उठने वाली आवाजों को राष्ट्रवाद की छाया में छिपा दिया जाता है। सीमा पर तनाव पैदा करके वह एक तीर से दो निशाने लगाने की फिराक में है।
शांतिपूर्ण समझौते की जरूरत
जनरल सिंह का कहना है कि भारत अपनी जमीन पर इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास को लेकर दृढ़ है और फिलहाल विवाद के जल्द सुलझने के आसार कम ही हैं। उनका कहना है कि भारत को कोशिश करनी होगी कि सीमा पर आक्रामकता के हालात पर काबू पाने की सेना की क्षमता बढ़ सके और अगर ऐसा नहीं होता है, तो ऐसे लड़ सके जिससे जंग जीती जा सके। भारत के लिए किसी और बाहरी ताकत से जंग जीतने में मदद मांगना ठीक नहीं होगा। एक उभरती हुई शक्ति के तौर पर भारत को यह काम अपने दम पर करना होगा। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा है कि बेहतर इकनॉमिक और जियोस्ट्रटीजिक फायदे के लिए शांतिपूर्ण समझौता ही जवाब है।

यह भी देखे:-

14 साल पहले घर से चला गया था बेटा, लौटा तो लग्जरी कार और ट्रकों का मालिक बनकर, दिलचस्प है ये कहानी
Lockdown 4 : गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने जारी की गाइड लाइन, टहलने के लिए पार्क खोले गए , निजी वाह...
ग्रेटर नोएडा वेस्ट रामलीला मंचन : श्री राम का हुआ राजतिलक
कोरोना वायरस दिल्ली में महामारी घोषित, स्कूल, कॉलेज सिनेमाघर बंद , अब तक 73 की पुष्टि
गाजीपुर जिले में गली के गुंडे की मानिंद शुरू हुआ था मुख्तार अंसारी के जरायम का सफरनामा
पेट्रोल-डीज़ल जल्द हो सकता है सस्ता, वित्त मंत्रालय एक्साइज़ ड्यूटी कम करने पर विचार कर रहा: रिपोर्ट
World Water Day 2021 : विश्व जल दिवस जाने क्यों मनाया जाता है और क्या है उद्देश्य
ग्रेैड्स इंटरनेैशनल स्कूल में अंतर स्कूल श्लोका एवं गीतम प्रतियोगिता
चीन पर एक और वार, लोकप्रिय ऑनलाइन गेम पब्जी समेत 118 चीनी ऐप्स बैन
CORONA UPDATE : गौतमबुद्ध नगर में कोरोना से दूसरी मौत, पढ़ें पूरी रिपोर्ट
जहांगीरपुर श्री रामायण मेला समिति रामलीला मंचन: राम ने तोड़ा शिव धनुष. गरजे परशुराम
जेवर एयरपोर्ट : किसानों ने सीएम योगी को सौंपा जमीन कब्जा का प्रमाणपत्र
LOCK DOWN 3 : ई पास जारी करने के लिए नया दिशा निर्देश जारी
"संविधान दिवस" के अवसर पर "भारत रत्न डॉ. अम्बेड़कर अवार्ड्स" से सम्मानित हुईं सायना नेहवाल, सोनू निगम...
हैप्पी क्लब ने दिहाड़ी मजदूरों में वितरित किये खाद्य सामग्री
किसान एकता संघ आर-पार की लड़ाई लड़ेगा