बेहतर स्मार्ट पुलिसिंग के लिए योगी सरकार का कदम, लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नर का प्रस्ताव पास

लखनऊ : बेहतर स्मार्ट पुलिसिंग के लिए लखनऊ और नोएडा में अब पुलिस कमिश्नर होंगे। कल 14 जनवरी से कमिश्नर प्रणाली दोनों शहरों में लागू कर दी जाएगी। इसकी घोषणा आज प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की। उन्होंने बताया लखनऊ के ग्रामीण क्षेत्र के पांच थाने कमिश्नर के अंतर्गत नहीं आएंगे। यहां एसपी तैनात होगा। जबकि नोएडा गौतम बुद्ध नगर के सारे थाने कमिश्नर के आधीन होंगे। एडीजी स्तर का अधिकारी कमिश्नर होगा।

पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू होने बाद अब डीएम के अधिकार घट गए हैं। 14 अधिनियम अब कमिश्नर के पास होंगे। डीएम सिर्फ विकास कार्य और राजस्व देखेंगे। मजिस्ट्रेट पावर अब पुलिस के पास होगा।

पुलिस कमिश्नर सीधे डीजीपी को रिपोर्ट करेंगे। एडीजी आईजी जोन का कोई हस्तक्षेप नहीं होगा।

लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नर के पद पर एडीजी स्तर के अफसर की तैनाती पर मुहर लग गई है। बताया जा रहा है लखनऊ में सुजीत पांडेय की कमिश्नर पद पर तैनाती की गई है। वहीं, आलोक सिंह नोएडा के पहले पुलिस कमिश्नर बनाए गए हैं।

लखनऊ और नोएडा में कमिश्नरेट प्रणाली लागू किए जाने को सोमवार को कैबिनेट ने मंजूरी दे दी। सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में यूपी कैबिनेट की बैठक में इसे मंजूरी दी गई। लखनऊ में सुजीत पांडेय की कमिश्नर पद पर तैनाती की गई है। वहीं, आलोक सिंह नोएडा के पहले पुलिस कमिश्नर बनाए गए हैं। बता दें कि 15 राज्यों के 71 शहरों में कमिश्नरेट प्रणाली पहले से लागू है। यूपी में सीएम योगी के सत्ता संभालने के बाद इस सिस्टम के लिए कवायद शुरू तो हुई थी, लेकिन ब्यूरोक्रेसी के दबाव में बात अंजाम तक नहीं पहुंच पाई थी।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ’50 वर्षों में पुलिस सुधार का सबसे बड़ा कदम उठाया है। लखनऊ और नोएडा में हम पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू कर रहे हैं। समय समय पर विशेषज्ञ के सुझाव दिये गए थे लेकिन करवाई न होने से न्यायपालिका सरकारों को कठघरे में खड़ा करती थी। पुलिस ऐक्ट में भी 10 लाख से ऊपर की आबादी पर कमिश्नर प्रणाली लागू करने की बात है लेकिन राजनीतिक इच्छा शक्ति न होने के चलते ऐसा न हो सका। हमारी सरकार ने इस प्रणाली को स्वीकृति दी है।’

50 वर्षों में पुलिस सुधार का सबसे बड़ा कदम उठाया है। लखनऊ और नोएडा में हम पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू कर रहे हैं। पुलिस ऐक्ट में भी 10 लाख से ऊपर की आबादी पट कमिश्नर प्रणाली लागू करने की बात है लेकिन राजनीति क इच्छा शक्ति न होने के चलते ऐसा न हो सका। हमारी सरकार ने इस प्रणाली को स्वीकृति दी है।

महिला सुरक्षा के लिए महिला आईपीएस की तैनाती

सीएम योगी ने कहा, ‘लखनऊ की आबादी आज करीब 40 लाख है और नोएडा में 25 लाख से अधिक आबादी है। नोएडा में 25 लाख की आबादी रहती है। ऐसे में महिला सुरक्षा के लिए महिला आईपीएस की तैनाती की जा रही है। उसके साथ एक महिला एएसपी की भी तैनाती होगी। इसके अलावा नोएडा में दो नए थाने बनाए जाएंगे।’

नए सिस्टम पर बहस भी शुरू

उधर, नोएडा और लखनऊ में पुलिस कमिश्नरी सिस्टम में पुलिस के अधिकार को लेकर बहस शुरू हो गई है। नए सिस्टम से शहरों में कानून व्यवस्था दुरुस्त होने के दावे से रिटायर्ड आईएएस अधिकारी इससे इत्तेफाक नहीं रखते। उनका तर्क है कि नए सिस्टम से आम लोगों का जो संवाद डीएम के माध्यम से प्रशासन से होता है, वह नहीं हो सकेगा।

‘नए सिस्टम का कोई औचित्य नहीं है’

रिटायर्ड अफसरों के मुताबिक, डीएम-एसएसपी का सिस्टम सबसे अच्छा है। ऐसे में नए सिस्टम का कोई औचित्य नहीं है। वहीं, राजस्व और उसकी वसूली से जुड़े अधिकार पुलिस कमिश्नर को न दिए जाने की चर्चा के बीच पूर्व पुलिस प्रमुखों का कहना है कि सिर्फ नाम के लिए कमिश्नर बैठाए जाने से कुछ नहीं होगा। उनके मुताबिक, पूरे अधिकार मिलें, तभी नया सिस्टम असरदार साबित होगा

‘मौजूदा व्यवस्था ज्यादा बेहतर’

यूपी के पूर्व मुख्य सचिव योगेंद्र नारायण के मुताबिक, अगर पुलिस के स्तर से कोई गड़बड़ी होती है तो डीएम से संवाद किया जाता है। मगर नई व्यवस्था के लागू होने से यह संवाद खत्म हो जाएगा। मौजूदा व्यवस्था ज्यादा बेहतर है। जिन शहरों में कमिश्नर सिस्टम लागू है, वहां इसके अच्छे परिणाम नहीं हैं। दिल्ली इसका हालिया उदाहरण है। वहीं, पूर्व मुख्य सचिव आलोक रंजन ने कहा कि डीएम-एसएसपी की व्यवस्था में चेक ऐंड बैलेंस होता है। अगर पुलिस कोई गड़बड़ी करती है तो इसकी शिकायत डीएम से होती है। वर्तमान व्यवस्था में कोई कमी नहीं है। क्राइम कंट्रोल के मामले में डीएम का कोई हस्तक्षेप नहीं होता है।


यह भी देखे:-

उत्तर प्रदेश के नए डीजीपी पद के लिए ओपी सिंह का रास्ता साफ
एनटीपीसी दादरी में स्वच्छ भारत अभियान पखवाड़ा
बुखार के चपेट में आने से इस गाँव में हफ्ते भर में हुई 10 की मौत
उत्तर प्रदेश में सभी शिक्षण संस्थानों में छुट्टी ....पढ़ें पूरी खबर
COVID-19:यूपी सरकार का बड़ा फैसला, 15 जिलों के कुछ इलाके पूरी तरह हुए सील
उत्तर प्रदेश में आईपीएस अफसरों के तबादले
उत्तर प्रदेश में पुलिस उपाधीक्षकों का तबादला
गणतंत्र दिवस पर डीजीपी प्रशंसा चिह्न से नवाजे जाएंगे गौतमबुद्ध नगर के ये पुलिस अधिकारीयों व कर्मिय...
उत्तर प्रदेश में आईपीएस अधिकारीयों के हुए तबादले
जेवर एयरपोर्ट: ज्यूरिख एयरपोर्ट इण्टरनेशनल एजी. को औपचारिक रूप से मिला निर्माण का जिम्मा
जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह के साथ प्रस्तावित जेवर एयरपोर्ट के प्रभावित किसानों ने की सीएम योगी से मु...
उत्तरप्रदेश में 24 आईपीएस अधिकारियों का ट्रांसफर
गौतमबुद्ध नगर पीआरवी टीम सम्मानित, मिला तीसरा स्थान
पुलिस एनकाउंटर में मारा गया सावित्री हत्याकांड का आरोपी , 50 हज़ार का था ईनाम
उत्तर प्रदेश में 15 एसडीएम के तबादले
'हम SP-BSP गठबंधन के साथ' - जयंत चौधरी