जानिए क्यों नही लगेगा इस बार ग्रहण का सूतक : पंडित मूर्तिराम आनन्दबर्धन नौटियाल ज्योतिषाचार्य

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार यह चंद्र ग्रहण नहीं है यह तो केवल उपछाया चंद्र ग्रहण है। भारतीय ज्योतिशास्त्र और पंचांग के अनुसार उपछाया चंद्र ग्रहण को चंद्र ग्रहण की श्रेणी में नहीं रखा जाता है। यहीं कारण है कि शुक्रवार, 10 जनवरी को लगने वाले इस चंद्र ग्रहण में सूतक काल नहीं होगा। सूतक काल ग्रहण 9 से 12 घंटे पहले लग जाता है और इस अवधी में सभी तरह के धार्मिक कार्यों की मनाही होती है, परंतु इस चंद्र ग्रहण में सूतक काल नहीं लगेगा जिस वजह से सभी तरह के धार्मिक कार्य भी संपन्न होंगे और मंदिरों के कपाट भी खुले रहेंगे। आइए, अब हम आपको बताते हैं क्या होता है यह उपछाया चंद्र ग्रहण…

चंद्र ग्रहण से पहले चंद्रमा पृथ्वी की उपछाया में प्रवेश करता है

उपछाया चंद्र ग्रहण:-

चंद्र ग्रहण से पहले चंद्रमा पृथ्वी की उपछाया में प्रवेश करता है जिस चंद्र मालिन्य कहते हैं। इसके बाद चांद पृथ्वी की वास्तविक छाया भूभा में प्रवेश करता है। जब चांद पृथ्वी की वास्तविक छाया भूभा में प्रवेश करता है तब चंद्र ग्रहण लगता है। लेकिन इस बार की तरह ही कई बार चंद्रमा उपछाया में प्रवेश करने के बाद उपछाया संकु से ही बहार निकल जाता है और भूभा में प्रवेश नहीं करता है। इसलिए उपछाया के समय चंद्रमा का बिम्ब केवल धुंधला पड़ता है, काला नहीं होता है। इस धुंधलापन को सामान्य रूप से देखना भी काफी मुश्किल होता ह इसलिए चन्द्र मालिन्य मात्र होने से इसे उपछाया चन्द्रग्रहण कहते ।

पूर्णिमा पर करे – विष्णुसहस्त्रनाम का पाठ, होंगी सारी मनोकामना पूरी।

लेखक — पंडित मूर्तिराम आनन्दबर्धन नौटियाल ज्योतिषाचार्य(देबी,नृसिहं उपासक गंगौत्री धाम)

यह भी देखे:-

रामलीला कमेटी ने साइट 4 में किया हवन, पौधारोपण व राम मंदिर निर्माण में आंशिक सहयोग
श्री रामलीला कमेटी ने किया भूमि पूजन, 10 अक्टूबर से विजय महोत्सव रामलीला मंचन का होगा आगाज़
बिगिनिंग मिशन एजुकेशन सेंटर में सरस्वती पूजन, बच्चों ने की मां सरस्वती की वंदना
आज सावन का पहला सोमवार, जानिए तिथी के अनुसार कब-कब पड़ेंगे सोमवार, क्या है पौराणिक कथा
कायस्थ समाज ने की भगवान श्री  चित्रगुप्त व कलम दवात की पूजा, विशाल भंडारे का हुआ आयोजन 
आज  का पंचांग, 1  अगस्त 2020 , जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
नागपंचमी (श्रावण पंचमी) 25 जुलाई 2020 पर विशेष
आज है मिथुन संक्रांति, ऐसे करें पूजन, लक्ष्मी का होगा वास
जानिए , भाई दूज (यम द्वितीया) विशेष
13 घंटे में हरिद्वार से गंगा जल लेकर लौटी डेरी स्कनर डाक कावड़ टीम
कल का पंचांग, 12  फ़रवरी 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
कल का पंचांग, 4 अक्टूबर 2020, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
दनकौर में मोहर्रम पर निकाला गया मातमी जुलूस, हर तरफ गूंजा या हुसैन का नारा
आज का पंचांग, 2 नवंबर 2020 , जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
शिल्पी गुप्ता के सिर सजा तीज क्वीन का ताज
ग्रेटर नोएडा : इस्कॉन द्वारा मनाया जायेगा श्री कृष्ण छठी महोत्सव