नन्दनवन तीर्थ भरतनाट्यम प्रशिक्षण संस्थान ने वार्षिकोत्सव “नन्दनोत्सव” मनाया

सर्वश्रेष्ठ हमारे देश की महान संस्कृति। अपनी संस्कृति का संवर्द्धन और संरक्षण करना हम सब का परम कर्तव्य है। इसी कड़ी में भारत की महान संस्कृति का प्रचार और प्रसार करते हुए आगे आने वाली पीढीयों को भरतनाट्यम और शास्त्रीय संगीत की विविध कलाओं के माध्यम से देश के उज्जवल भविष्य का निर्माण करने के लिये कृत संकल्प है ग्रेटर नोएडा के सेक्टर ओमेगा-1 में स्थित नन्दनवन तीर्थ भरतनाट्यम प्रशिक्षण संस्थान।

नन्दनवन तीर्थ ने अभी अपना वार्षिक दिवस – “नन्दनोत्सव” मनाया। इस उत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में पुनीत बेरी, निदेशक, केपीएस प्रा० लि० और श्री जेम्स जैक्सन, मैरिज स्पेशलिस्ट फूड के सोर्सिंग हेड; सेवानिवृत्त प्रोफेसर सरला राजपूत (NCERT); सुश्री ज्योति सिंह, प्रिंसिपल आरपीएस इंटरनेशनल स्कूल; सुश्री रेणुसागर, प्रिंसिपल मौज स्कूल और सुश्री सुषमा सिंह अभिनेत्री, भगवत प्रशाद शर्मा अादि विशिष्ट अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वलित करके कार्यक्रम का श्री गणेश किया।

मंच पर बाल कलाकारों की असाधारण प्रतिभा का प्रदर्शन देखने को मिला। वहाँ पर भारत की महान संस्कृति की “विविधता में एकता” देखने को मिली। एक ही मंच पर संस्कृति के अनेक रूप देखने को मिले। कलाकारों ने मंच को भक्ति रस के आनंद में डुबो कर सभी के मन को भावविभोर कर दिया। कलाकार अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते रहे और बार-बार तालियाँ बजती रहीं।

अपनी भरतनाट्यम एक ऐसी कला का रूप है जो बदलते समय के बाद भी अपना आकर्षण नहीं खोता है। विभिन्न नृत्य रूपों के अलावा, जिसमें शास्त्रीय, लोक और फ्यूजन नृत्य शामिल थे, प्रदर्शनों में शिरोमणि मंजुशा जी द्वारा गाए गए गायन, एक प्रशिक्षित कर्नाटक संगीत गायक भी शामिल थे; श्री सौरभ शेषनजी द्वारा तालिका प्रदर्शन; और मि। टी। जे। जॉन और श्री सुनील शर्मा द्वारा फ्यूजन इंस्ट्रुमेंटल परफॉरमेंस अपने आप में अद्भुत थी।
नन्दनवन तीर्थ एक शास्त्रीय भरतनाट्यम संस्थान है, जिसे सुश्री दीपा सजु द्वारा स्थापित किया गया है और यह अनुकरणीय है कि नई पीढ़ी द्वारा शास्त्रीय नृत्य रूपों को अभी भी सिखाया, अभ्यास और उत्साह से प्राप्त किया जा रहा है। संस्थान कार्णिक संगीत और वाद्य संगीत के लिए कक्षाएं भी प्रदान करता है।

केरल की रहने वाली, सुश्री दीपा ने चार साल की उम्र में भरतनाट्यम में अपनी यात्रा शुरू की। वह हमेशा भरतनाट्यम की दिव्य कला को युवा पीढ़ी तक पहुंचाने के अपने सपने के बारे में भावुक रही हैं। उनके अपने शब्दों में नृत्य उनका जीवन और आत्मा है, उनका चुना हुआ पेशा है। यह वार्षिक दिवस सभी अभिभावकों के सहयोग से आयोजित किया गया था।

यह भी देखे:-

शारदा विश्वविधालय में आज "स्वच्छता ही सेवा" कार्यक्रम का विधिवत समापन
एक्यूरेट इंस्टीट्यूट के पी0जी0डी0एम0 के विद्यार्थियों द्वारा फेयरवेल पार्टी का आयोजन
एक्युरेट इन्स्टीट्यूट नें किया “गणपति बप्पा मोरया“ की प्रतिमा का विसर्जन, देव शिल्पी विश्वकर्मा की ह...
शारदा यूनिवर्सिटी : नोबेल पुरुस्कार विजेता वैज्ञानिक चंद्रशेखर की महत्वपूर्ण भूमिका का वर्णन
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में शुरू हो रहा है शिक्षा में मास्टर्स (शाम का कोर्स)
दक्षिणा फाउण्डेशन ने किया ‘‘राष्ट्रनिर्माण में युवाओं की भूमिका’’ पर पैनल चर्चा का आयोजन
ITS DENTAL COLLEGE : विश्व ओरल एवं मैक्सिलोफेसियल सर्जन डे का आयोजन
जीएलबीआईएमआर को मिला ‘‘बेस्ट बी-स्कूल फार इण्डस्ट्री इण्टरफेस अवार्ड’’
एक्यूरेट के बी. आर्क में विदाई समारोह
डीपीएस स्कूल मैं फीस वृद्धि को लेकर अभिभावकों ने हंगामा किया
बोधि तरु इंटरनेशनल स्कूल पहुंची मिस मलेशिया व इजिप्ट, पर्यावरण के प्रति किया जागरूक
युनाईटेड कालेज आॅफ एडुकेशन में उन्मुखीकरण कार्यक्रम आयोजित
सिटी हार्ट अकादमी में धूमधाम से मनाया गया गणतंत्र दिवस
गलगोटिया विश्वविद्यालय : तकनीकी सेमिनार में कंप्यूटिंग, बिजली और संचार प्रौद्योगिकि पर हुई विस्तृत ...
शारदा विश्वविद्यालय : "4 इंटरनेशनल डेंटल स्टूडेंट कांग्रेस 2019 कनेक्सॉन" का आयोजन
गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय में बिग डेटा एनालिटिक्स का हूआ समापन