नहीं रहे भारत के मशहूर वैज्ञानिक प्रो. यशपाल

नोएडा। भारत के मशहूर वैज्ञानिक एवं शिक्षाविद् प्रो.यशपाल का बीती रात को नोएडा के मैक्स अस्पताल में बीमारी के चलते निधन हो गया। उन्हें उनके बेटे अनिल पाल ने मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया था। उनके शव को देर रात को नोएडा के कैलाश अस्पताल की मोर्चरी में रखा गया। उनकी उम्र 90 वर्ष थी। उनके बेटे ने बताया कि प्रो.यशपाल का कल रात को नोएडा के मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था वहां पर उनका निधन हो गया।

उनके परिवार में पत्नी और दो पुत्र है। पद्म विभूषण और पद्म भूषण समेत कई सम्मानों से नवाजे गये प्रो.यशपाल देश के कई महत्वपूर्ण पदों पर पूर्व में तैनात रह चुके हैं। वह योजना आयोग में मुख्य सलाहकार, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग में सचिव और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग में अध्यक्ष भी रह चुके हैं। प्रो0 यशपाल नोएडा के सेक्टर-15ए में रहते थे। वह देश के पूर्व राष्ट्रपति व प्रसिद्ध वैज्ञानिक स्व0 डा0 एपीजे अब्दुल कलाम के साथ भी काम कर चुके थे। कृषि विज्ञान पर प्रो0 यशपाल की खासी पकड़ थी। उन्होंने कई पुस्तकें भी लिखी हैं।

यह भी देखे:-

नहीं रहे गोवा के सीएम मनोहर पर्रीकर, राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर दी जानकारी
केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी ने हस्तशिल्प निर्यात पुरस्कार प्रदान किये
ग्रेटर नोएडा : नाइजीरियंस पर हुए हमले पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का ट्वीट : प्रदेश सरकार से मांग...
तनाव के बीच पाक पीएम इमरान खान ने दिखाया शांति का ढोंग
DUSU 2019: ABVP ने अध्यक्ष-उपाध्यक्ष समेत 3 पदों पर लहराया परचम
अटल जी को श्रद्धांजलि : राष्ट्रीय शोक घोषित, सरकारी छुट्टी का एलान, स्कूल कॉलेज रहेंगे बंद
कन्हैया के लिए बेगूसराय आसान नहीं, क्योंकि आरजेडी, तंवर हुसैन को बेगूसराय से उतारने की तैयारी में
घाटी में अतिरिक्त सुरक्षाबल पर कश्मीर के नेताओं ने जताई चिंता
22 नवंबर से होगा विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन का आगाज
पत्रकार हत्याकांड में राम रहीम को मिली कठोर सजा, पढ़ें पूरी खबर
संसद सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, ट्रिपल तलाक बिल लटका
अनुच्‍छेद 370 हटने पर भारत का कश्‍मीर से रिश्‍ता टूट जाएगा: कांग्रेस नेता
सर्वदलीय बैठक मे दिखा मजबूत लोकतंत्र का चेहरा
प्रणब मुखर्जी ,भूपेन हजारिका और नानाजी देशमुख को भारत रत्न सम्मान
उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू, राज्य में होने वाली सभी परीक्षाएं रद्द
Women's Day: जानिए क्यों मनाया जाता है महिला दिवस?