शारदा विश्वविद्यालय में कार्यशाला , दन्त रोगों की चुनौतियों पर हुई चर्चा

शारदा विश्वविद्यालय (SHARDA UNIVERSITY) में स्कूल ऑफ डेंटल साइंसेज (SCHOOL OF DENTAL SCIENCE) के डिपार्टमेंट ऑफ़ पीरियोडोंटोलॉजी ( PERIODONTOLOGY) , स्किल एन्हांसमेंट एकेडमी ने इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी ( PERIODONTOLOGY) के साथ संयुक्त रूप से एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया ।

इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी के उपाध्यक्ष डॉ. मनीष. खत्री इस कार्यशाला में मुख्य अतिथि और तीन विशिष्ट अतिथि डॉ.नरेंद्र सिंह, डॉ. एस.पी. सिंह और डॉ पल्लवी शर्मा उपस्थित थे ।

मुख्य अतिथि और तीन विशिष्ट अतिथियों का स्वागत शारदा विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ डेंटल साइंसेज (dental sciences) के डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने किया। विभिन्न कॉलेजों और निजी चिकित्सकों के १५० विभिन्न वरिष्ठ संकाय सदस्यों ने इस कार्यशाला में भाग लिया

डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने कहा की पीरियोडॉन्टल टिशू रीजनरेशन हमेशा पीरियडोंटिस्ट्स के लिए एक चुनौती रही है जो इसकी संरचनात्मक जटिलता के कारण होती है। हालांकि एक बहु-विषयक क्षेत्र के रूप में ऊतक इंजीनियरिंग के साथ, इस उद्देश्य को आंशिक रूप से पूरा किया गया है। हाल के वर्षों में, प्लेटलेट-समृद्ध फाइब्रिन (पीआरएफ) ने न केवल दंत चिकित्सा में बल्कि चिकित्सा क्षेत्रों में भी एक जैव-रासायनिक पुनर्योजी सामग्री के रूप में इसके उपयोग के लिए व्यापक ध्यान आकर्षित किया है।

इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी के उपाध्यक्ष डॉ. मनीष. खत्री ने कहा की इस कार्यशाला से पीरियडोंटोलॉजी में ज्ञान और कौशल के संबंध में उल्लेखनीय और अभूतपूर्व वृद्धि होगी इसलिए ऐसी कार्यशालाओं का निरंतर आयोजन होना चाहिए।

तीन विशिष्ट अतिथि डॉ.नरेंद्र सिंह, डॉ. एस.पी. सिंह और डॉ पल्लवी शर्मा ने अपने व्याख्यान में पीआरएफ और विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला। पेरिओडोन्टोलोग्य में इसकी भूमिका रोगी के स्वयं के रक्त से तैयार एक ऑटोलॉगस प्लेटलेट है। हाल के शोधों में चिकित्सीय विकल्पों के विकास पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है जो तैयार करने में आसान हैं, जीवित ऊतकों के लिए बायोकम्पैटिबल और आर्थिक रूप से सस्ता हैं, जिसके परिणामस्वरूप हार्ड और सॉफ्ट टिशू सीलिंग और पीआरएफ में तेजी लाने वाले विकास कारकों की स्थानीय रिलीज एक ऐसा ही चमत्कार है। विभिन्न पहलुओं को कवर करके दर्शकों के मन को, जिसमें पीआरएफ एक उपचार स्पर्श है, न केवल दंत ऊतक उत्थान में, बल्कि चेहरे की कायाकल्प के लिए चेहरे के सौंदर्यशास्त्र और बोटोक्स का उपयोग भी करता है। इस कार्यशाला से प्रतिभागियों को पीआरएफ तैयारी के व्यावहारिक पहलुओं को समझने में और ज्यादा मदद की है।

कार्यशाला के अंत में डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने मुख्य अतिथि और तीनो विशिष्ट अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया और धन्यवाद ज्ञापन किया ।

यह भी देखे:-

आईआईएमटी कॉलेज ऑफ लॉ में विधिक सहायता केन्‍द्र का उदघाटन
आईआईएमटी कॉलेज के डिप्लोमा इंजीनिरयरिंग के छात्रों का चयन हुआ
देखें VIDEO, जी.एल. बजाज इनोवेशन मैराथन : छात्रों को इन्टरप्रिन्योरशिप के प्रति किया गया जागरुकता
हिन्दी साहित्य को नया अमली जामा पहना रहा है वेब-चौपाल "तीखर"
गलगोटिया विश्विद्यालय में शिक्षकों व छात्रों ने किया वृक्षारोपण
‘‘विदिशा वाल्यान प्रथम मिस डेफ वल्र्ड का जी. एल. बजाज में स्वागत’’
शारदा विश्वविधालय के स्कूल ऑफ़ आर्किटेक्चर के विधार्थियों ने बनाया कंक्रीट के फर्नीचर
आईआईएलएम में बॉयोजेनिसिस-6 पर दो दिवसीय राष्ट्रिय संगोष्ठी का आयोजन
इंडिगो व SRF फाउंडेशन द्वारा सरकारी स्कूलों में आवश्यक सामानों का वितरण
शिक्षण संस्थानों में धूम-धाम से मनाई गयी जन्माष्टमी
शारदा यूनिवर्सिटी में वार्षिक कल्चरल फेस्टिवल "कोरस" का भव्य आगाज
जी०एन०आई०ओ०टी में ‘राष्ट्रीय मतदाता दिवस’ का आयोजन
ग्रेड्स इंटरनेशनल स्कूल ने मनाया दान उत्सव
Mother’s Day Celebration at Ryan Greater Noida
के.आर .मंगलम वर्ल्ड स्कूल में ‘एनचांट-2018 इंटर स्कूल प्रतियोगिता का आयोजन
सेन्ट जोसेफ स्कूल : कबड्डी में परचम लहराने वाले खिलाड़ी छात्र सम्मानित