शारदा विश्वविद्यालय में कार्यशाला , दन्त रोगों की चुनौतियों पर हुई चर्चा

शारदा विश्वविद्यालय (SHARDA UNIVERSITY) में स्कूल ऑफ डेंटल साइंसेज (SCHOOL OF DENTAL SCIENCE) के डिपार्टमेंट ऑफ़ पीरियोडोंटोलॉजी ( PERIODONTOLOGY) , स्किल एन्हांसमेंट एकेडमी ने इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी ( PERIODONTOLOGY) के साथ संयुक्त रूप से एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया ।

इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी के उपाध्यक्ष डॉ. मनीष. खत्री इस कार्यशाला में मुख्य अतिथि और तीन विशिष्ट अतिथि डॉ.नरेंद्र सिंह, डॉ. एस.पी. सिंह और डॉ पल्लवी शर्मा उपस्थित थे ।

मुख्य अतिथि और तीन विशिष्ट अतिथियों का स्वागत शारदा विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ डेंटल साइंसेज (dental sciences) के डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने किया। विभिन्न कॉलेजों और निजी चिकित्सकों के १५० विभिन्न वरिष्ठ संकाय सदस्यों ने इस कार्यशाला में भाग लिया

डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने कहा की पीरियोडॉन्टल टिशू रीजनरेशन हमेशा पीरियडोंटिस्ट्स के लिए एक चुनौती रही है जो इसकी संरचनात्मक जटिलता के कारण होती है। हालांकि एक बहु-विषयक क्षेत्र के रूप में ऊतक इंजीनियरिंग के साथ, इस उद्देश्य को आंशिक रूप से पूरा किया गया है। हाल के वर्षों में, प्लेटलेट-समृद्ध फाइब्रिन (पीआरएफ) ने न केवल दंत चिकित्सा में बल्कि चिकित्सा क्षेत्रों में भी एक जैव-रासायनिक पुनर्योजी सामग्री के रूप में इसके उपयोग के लिए व्यापक ध्यान आकर्षित किया है।

इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी के उपाध्यक्ष डॉ. मनीष. खत्री ने कहा की इस कार्यशाला से पीरियडोंटोलॉजी में ज्ञान और कौशल के संबंध में उल्लेखनीय और अभूतपूर्व वृद्धि होगी इसलिए ऐसी कार्यशालाओं का निरंतर आयोजन होना चाहिए।

तीन विशिष्ट अतिथि डॉ.नरेंद्र सिंह, डॉ. एस.पी. सिंह और डॉ पल्लवी शर्मा ने अपने व्याख्यान में पीआरएफ और विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला। पेरिओडोन्टोलोग्य में इसकी भूमिका रोगी के स्वयं के रक्त से तैयार एक ऑटोलॉगस प्लेटलेट है। हाल के शोधों में चिकित्सीय विकल्पों के विकास पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है जो तैयार करने में आसान हैं, जीवित ऊतकों के लिए बायोकम्पैटिबल और आर्थिक रूप से सस्ता हैं, जिसके परिणामस्वरूप हार्ड और सॉफ्ट टिशू सीलिंग और पीआरएफ में तेजी लाने वाले विकास कारकों की स्थानीय रिलीज एक ऐसा ही चमत्कार है। विभिन्न पहलुओं को कवर करके दर्शकों के मन को, जिसमें पीआरएफ एक उपचार स्पर्श है, न केवल दंत ऊतक उत्थान में, बल्कि चेहरे की कायाकल्प के लिए चेहरे के सौंदर्यशास्त्र और बोटोक्स का उपयोग भी करता है। इस कार्यशाला से प्रतिभागियों को पीआरएफ तैयारी के व्यावहारिक पहलुओं को समझने में और ज्यादा मदद की है।

कार्यशाला के अंत में डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने मुख्य अतिथि और तीनो विशिष्ट अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया और धन्यवाद ज्ञापन किया ।

यह भी देखे:-

जीएनआईओटी (आईपीयू)के छात्रों ने जीजीएसआईपीयू अनुगूंज प्रीलिम्स में जलवा बिखेरा
शारदा विश्वविध्यालय में राष्ट्रीय युवा दिवस में आयोजित हुए कार्यक्रम
गौतम बुद्ध नगर : कल 3 जून को इन गाँवों में लगेगा कोरोना टीकाकरण शिविर
जी.डी. गोयंका में मनाया गया आन लाइन दशहरा महोत्सव 
आईआईएमटी कॉलेज में शिक्षक मिलन समारोह ‘समागम- 2019’ का आयोजन
ग्लोबल शिक्षण संस्थान में रोजगार मेले का आयोजन
आई.टी.एस. डेन्टल काॅलिज में ”ओरल इम्पलांटोलोजी" पर कार्यशाला का आयोजन
प्रोफ़ेसर प्रीति बजाज बनी गलगोटिया विश्विद्यालय की कुलपति
आईटीएस इन्जीनियरिंग कालेज में नन्हें वैज्ञानिकों का कुम्भ
एमिटी यूनिवर्सिटी ग्रेनो कैंपस में इनोवेशन इन साइंस इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी - मैनेजमेंट अंतराष्ट्रीय ...
शारदा विश्वविधालय में मनाया गया एनसीसी दिवस
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में दो दिवसीय "ईबनिटकॉन-2019" सम्मेलन का आयोजन, आई.जे.आई.ऍम जर्नल का हुआ वि...
शारदा विश्विद्यालय में न्यायपालिका व कार्यशैली  पर संगोष्ठी का आयोजन
अमीचंद सर्वोदय कॉन्वेंट स्कूल में शिक्षकों की भूमिका निभा कर खुश हुए बच्चे
नेगेटिव आने के बाद दो मरीज निकले कोरोना पॉजिटिव,  उपचार के लिए भर्ती
दिल्ली टेक्निकल कैंपस में "मैन्युफैक्चरिंग एंड मटेरियल दुनिया का भविष्य" पर सेमिनार