शारदा विश्वविद्यालय में कार्यशाला , दन्त रोगों की चुनौतियों पर हुई चर्चा

शारदा विश्वविद्यालय (SHARDA UNIVERSITY) में स्कूल ऑफ डेंटल साइंसेज (SCHOOL OF DENTAL SCIENCE) के डिपार्टमेंट ऑफ़ पीरियोडोंटोलॉजी ( PERIODONTOLOGY) , स्किल एन्हांसमेंट एकेडमी ने इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी ( PERIODONTOLOGY) के साथ संयुक्त रूप से एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया ।

इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी के उपाध्यक्ष डॉ. मनीष. खत्री इस कार्यशाला में मुख्य अतिथि और तीन विशिष्ट अतिथि डॉ.नरेंद्र सिंह, डॉ. एस.पी. सिंह और डॉ पल्लवी शर्मा उपस्थित थे ।

मुख्य अतिथि और तीन विशिष्ट अतिथियों का स्वागत शारदा विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ डेंटल साइंसेज (dental sciences) के डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने किया। विभिन्न कॉलेजों और निजी चिकित्सकों के १५० विभिन्न वरिष्ठ संकाय सदस्यों ने इस कार्यशाला में भाग लिया

डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने कहा की पीरियोडॉन्टल टिशू रीजनरेशन हमेशा पीरियडोंटिस्ट्स के लिए एक चुनौती रही है जो इसकी संरचनात्मक जटिलता के कारण होती है। हालांकि एक बहु-विषयक क्षेत्र के रूप में ऊतक इंजीनियरिंग के साथ, इस उद्देश्य को आंशिक रूप से पूरा किया गया है। हाल के वर्षों में, प्लेटलेट-समृद्ध फाइब्रिन (पीआरएफ) ने न केवल दंत चिकित्सा में बल्कि चिकित्सा क्षेत्रों में भी एक जैव-रासायनिक पुनर्योजी सामग्री के रूप में इसके उपयोग के लिए व्यापक ध्यान आकर्षित किया है।

इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी के उपाध्यक्ष डॉ. मनीष. खत्री ने कहा की इस कार्यशाला से पीरियडोंटोलॉजी में ज्ञान और कौशल के संबंध में उल्लेखनीय और अभूतपूर्व वृद्धि होगी इसलिए ऐसी कार्यशालाओं का निरंतर आयोजन होना चाहिए।

तीन विशिष्ट अतिथि डॉ.नरेंद्र सिंह, डॉ. एस.पी. सिंह और डॉ पल्लवी शर्मा ने अपने व्याख्यान में पीआरएफ और विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला। पेरिओडोन्टोलोग्य में इसकी भूमिका रोगी के स्वयं के रक्त से तैयार एक ऑटोलॉगस प्लेटलेट है। हाल के शोधों में चिकित्सीय विकल्पों के विकास पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है जो तैयार करने में आसान हैं, जीवित ऊतकों के लिए बायोकम्पैटिबल और आर्थिक रूप से सस्ता हैं, जिसके परिणामस्वरूप हार्ड और सॉफ्ट टिशू सीलिंग और पीआरएफ में तेजी लाने वाले विकास कारकों की स्थानीय रिलीज एक ऐसा ही चमत्कार है। विभिन्न पहलुओं को कवर करके दर्शकों के मन को, जिसमें पीआरएफ एक उपचार स्पर्श है, न केवल दंत ऊतक उत्थान में, बल्कि चेहरे की कायाकल्प के लिए चेहरे के सौंदर्यशास्त्र और बोटोक्स का उपयोग भी करता है। इस कार्यशाला से प्रतिभागियों को पीआरएफ तैयारी के व्यावहारिक पहलुओं को समझने में और ज्यादा मदद की है।

कार्यशाला के अंत में डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने मुख्य अतिथि और तीनो विशिष्ट अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया और धन्यवाद ज्ञापन किया ।

यह भी देखे:-

आईआईएमटी कॉलेज में उर्जा फेस्ट 2017 का आयोजन
रेस्टोरेंट एवं होटल को होगा प्लास्टिक प्रतिबंध से सबसे बड़ी समस्या
जीएल बजाज में फ्रेशर पार्टी , अभिषेक गौतम बने मिस्टर फ्रेशर तो प्रतीक्षा बनी मिस फ्रेशर
गुरु रंधवा की रंगारंग प्रस्तुती के साथ शारदा यूनिवर्सिटी "कोरस 2017" का समापन
जी.एल.बजाज में सम्पन्न हुआ ए.के.टी.यू. द्वारा प्रायोजित फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम
गौतमबुद्ध विश्विद्यालय : ग्रीष्मकालीन इंटरर्नशिप के जरिए बदलाव की मुहिम शुरू
शारदा विश्वविद्यालय: "नर्सिंग एंड रिसर्च में व्यापक विकास" पर कार्यक्रम आयोजित
जी.एन.आई.ओ.टी में फ्रेशर पार्टी , राघव गौर मिस्टर तो विधि गंभीर बनी मिस फ्रेशर
विश्व एड्स दिवस पर रक्तदान शिविर का आयोजन
आरपीएस पब्लिक स्कूल की छात्रा शिवानी देशवाल ने मारी बाजी
शारदा विश्वविद्यालय में मना अंतरष्ट्रीय शिक्षक दिवस
स्थापना दिवस पर बिरला इंस्टिट्यूट में गांधीजी की विशाल प्रतिमा का अनावरण
शारदा समूह का 24वां स्थापना दिवस धूम धाम से मनाया गया
GIMS में 4 दिवसीय ‘‘रिवाइज बेसिक वर्कशाप इन मेडिकल एजूकेशन‘‘ का समापन
शारदा विश्वविधालय के विभिन्य संकायों द्वार बजट से सम्बंधित कार्यक्रम आयोजित
जीएल बजाज पीजीडीएम का रिओरिएण्टेशन प्रोग्राम आयोजित