शारदा विश्वविद्यालय में कार्यशाला , दन्त रोगों की चुनौतियों पर हुई चर्चा

शारदा विश्वविद्यालय (SHARDA UNIVERSITY) में स्कूल ऑफ डेंटल साइंसेज (SCHOOL OF DENTAL SCIENCE) के डिपार्टमेंट ऑफ़ पीरियोडोंटोलॉजी ( PERIODONTOLOGY) , स्किल एन्हांसमेंट एकेडमी ने इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी ( PERIODONTOLOGY) के साथ संयुक्त रूप से एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया ।

इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी के उपाध्यक्ष डॉ. मनीष. खत्री इस कार्यशाला में मुख्य अतिथि और तीन विशिष्ट अतिथि डॉ.नरेंद्र सिंह, डॉ. एस.पी. सिंह और डॉ पल्लवी शर्मा उपस्थित थे ।

मुख्य अतिथि और तीन विशिष्ट अतिथियों का स्वागत शारदा विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ डेंटल साइंसेज (dental sciences) के डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने किया। विभिन्न कॉलेजों और निजी चिकित्सकों के १५० विभिन्न वरिष्ठ संकाय सदस्यों ने इस कार्यशाला में भाग लिया

डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने कहा की पीरियोडॉन्टल टिशू रीजनरेशन हमेशा पीरियडोंटिस्ट्स के लिए एक चुनौती रही है जो इसकी संरचनात्मक जटिलता के कारण होती है। हालांकि एक बहु-विषयक क्षेत्र के रूप में ऊतक इंजीनियरिंग के साथ, इस उद्देश्य को आंशिक रूप से पूरा किया गया है। हाल के वर्षों में, प्लेटलेट-समृद्ध फाइब्रिन (पीआरएफ) ने न केवल दंत चिकित्सा में बल्कि चिकित्सा क्षेत्रों में भी एक जैव-रासायनिक पुनर्योजी सामग्री के रूप में इसके उपयोग के लिए व्यापक ध्यान आकर्षित किया है।

इंडियन सोसाइटी ऑफ पीरियंडोंटोलॉजी के उपाध्यक्ष डॉ. मनीष. खत्री ने कहा की इस कार्यशाला से पीरियडोंटोलॉजी में ज्ञान और कौशल के संबंध में उल्लेखनीय और अभूतपूर्व वृद्धि होगी इसलिए ऐसी कार्यशालाओं का निरंतर आयोजन होना चाहिए।

तीन विशिष्ट अतिथि डॉ.नरेंद्र सिंह, डॉ. एस.पी. सिंह और डॉ पल्लवी शर्मा ने अपने व्याख्यान में पीआरएफ और विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला। पेरिओडोन्टोलोग्य में इसकी भूमिका रोगी के स्वयं के रक्त से तैयार एक ऑटोलॉगस प्लेटलेट है। हाल के शोधों में चिकित्सीय विकल्पों के विकास पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है जो तैयार करने में आसान हैं, जीवित ऊतकों के लिए बायोकम्पैटिबल और आर्थिक रूप से सस्ता हैं, जिसके परिणामस्वरूप हार्ड और सॉफ्ट टिशू सीलिंग और पीआरएफ में तेजी लाने वाले विकास कारकों की स्थानीय रिलीज एक ऐसा ही चमत्कार है। विभिन्न पहलुओं को कवर करके दर्शकों के मन को, जिसमें पीआरएफ एक उपचार स्पर्श है, न केवल दंत ऊतक उत्थान में, बल्कि चेहरे की कायाकल्प के लिए चेहरे के सौंदर्यशास्त्र और बोटोक्स का उपयोग भी करता है। इस कार्यशाला से प्रतिभागियों को पीआरएफ तैयारी के व्यावहारिक पहलुओं को समझने में और ज्यादा मदद की है।

कार्यशाला के अंत में डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने मुख्य अतिथि और तीनो विशिष्ट अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया और धन्यवाद ज्ञापन किया ।

यह भी देखे:-

सेंट जोसेफ स्कूल में विद्या आरंभ कार्यक्रम आयोजित
लिटिल एंजलस के बच्चों ने खेली फूलों से होली, इको फ्रेंडली होली खेलने का दिया संदेश
पाठ्यक्रम पर जीबीयू में राउंड टेबल मीट का आयोजन
Covid 19: गौतमबुद्ध नगर के हॉटस्पॉट लिस्ट से एक सेक्टर हटा, 2 बढ़ाए गए, अब कुल संख्या 28
शारदा विश्विद्यालय में राष्ट्रीय मूट प्रतियोगिता का आयोजन
जीएन ग्रुप ऑफ एजुकेशनल इंस्टिट्यूट के फ्रेशर्स पार्टी में झूमे छात्र
शारदा विश्वविद्यालय : नवप्रवेशित मेडिकल स्टूडेंट्स से चांसलर पी.के गुप्ता ने कहा - निस्वार्थ सेवा...
आईईसी काॅलेज में थैलेसीमिया पर सेमिनार का आयोजन
ग्रेटर नोएडा : कोरोना पॉजिटिव महिला समेत दो और मरीजों की GIMS के डॉक्टरों ने बचाई जान
शारदा यूनिवर्सिटी में वार्षिक कल्चरल फेस्टिवल "कोरस" का भव्य आगाज
पीएमकेवी केंद्र द्वारा कौशल मेला का आयोजन
गलगोटिया विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय एकता दिवस का आयोजन
Ryan Greater Noida Won Delhi NCR Inter School Skating Championship
जी.एल. बजाज में इन्टरप्रिन्योरशिप, इन्यूवेशन एण्ड इनोवेशन विषय पर फैकल्टी डेवलोपमेंट प्रोग्राम की शु...
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस: शारदा विश्वविद्यालय में संगोष्ठी का आयोजन
99 प्रतिसत रहा दसवी का परिणाम