डेंटल कॉलेजों में रैगिंग के खतरे को रोकने पर एक सत्र आयोजित

शारदा विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ़ डेंटल साइंसेज ने डेंटल कॉलेजों में रैगिंग के खतरे को रोकने पर एक सत्र का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्य डॉ अनिल कुमार चांदना मुख्य अतिथि थे। उनके अतिरिक्त शारदा विश्वविधालय के छात्रावास विभाग तथा सुरक्षा अधिकारी शामिल थे | इसमें रैगिंग रोकने के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा किया गया | सभी मेहमानों का स्वागत स्कूल ऑफ़ डेंटल साइंसेज के डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने किया ।

डॉ. चांदना ने बताया की रैगिंग हिंसा एक कारण है जिसके कारण छात्र अपमानित महसूस करते है।इससे चिंता और डिप्रेशन जैसे प्रतिकूल प्रभाव हो सकते हैं। हमारे देश में इसके खिलाफ अथक उपायों के बावजूद रैगिंग की संस्कृति कायम है। जबकि कानून और व्यवस्था लागू है, संस्थानों को छात्रों को सुरक्षा की भावना प्रदान करने के लिए पहल करनी चाहिए। कॉलेजों में काउंसलिंग सेल होने चाहिए जो छात्रों को संकट के समय मदद कर सकें। यदि विश्वविद्यालयों द्वारा स्वस्थ प्रथाओं को अपनाया जाता है, तो फ्रेशर्स के बीच रैगिंग का डर कम हो सकता है। रैगिंग के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए एंटी-रैगिंग कार्यक्रम आयोजित किए जा सकते हैं। एंटी-रैगिंग छात्र समिति यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकती है कि यह रैगिंग मुक्त परिसर है। परामर्श सेवाएं स्वायत्त होनी चाहिए ताकि छात्रों की गोपनीयता बनाए रखी जा सके और वे बिना किसी हिचकिचाहट के मदद ले सकें।

शारदा विश्विधालय के स्कूल ऑफ़ डेंटल साइंस के डीन डॉ ऍम सिद्धार्थ ने भी अपने विद्यार्थीओ को समझाया की सभी छात्रों को यह ध्यान रखना आवश्यक है कि वे किसी भी प्रकार के रैगिंग में संलग्न होने से प्रतिबंधित हैं। किसी भी छात्र या छात्रों द्वारा किसी भी आचरण, चाहे वह बोले या लिखे गए शब्दों या किसी ऐसे कार्य से हो, जिसमें किसी नए या किसी अन्य छात्र के साथ अशिष्टता के साथ छेड़छाड़ करना या किसी अन्य छात्र या छात्रों द्वारा उपद्रवी या अनुशासनहीन गतिविधियों में लिप्त होने का प्रभाव होता है। रैगिंग कोई सभ्य संस्कार नहीं है लेकिन यातना का एक अनुष्ठानिक रूप है जो गंभीर मनोवैज्ञानिक और शारीरिक चोट का कारण बन सकता है। रैगिंग ने कई निर्दोष लोगों की जान ले ली है और इतने उज्ज्वल करियर को बर्बाद कर दिया है, यह शायद दुनिया में एकमात्र सामाजिक और मानवाधिकार समस्या है जिसमें पीड़ित स्वयं / खुद अपराध का अपराधी बन जाता है। यह समझ से परे है कि जिस पीड़ित को बुरी तरह से तड़पाया जाता है, वह थोड़े ही समय में रैगिंग को अपना सर्वश्रेष्ठ पल बना लेता है और अपने कनिष्ठों पर उसी रीति-रिवाज को मानना और उसका अभ्यास करना शुरू कर देता है ।

यह भी देखे:-

शारदा यूनिवर्सिटी में दिवंगत भारत रत्न अटल जी को भाव भीनी श्रद्धांजलि
एमिटी ग्रेनो:तनाव एवं प्रतिस्पर्धा भरे जीवन में अध्यात्म के महत्व पर हुई चर्चा
रयान इंटरनेशनल स्कूल में होगा सीबीएसई नार्थ जोन 1 स्केटिंग प्रतियोगिता का होगा आयोजन
समसारा विद्यालय में बसंत पंचमी के अवसर पर सरस्वती पूजा का आयोजन
जीएल बजाज पीजीडीएम का रिओरिएण्टेशन प्रोग्राम आयोजित
आईटीएस इन्जीनियरिंग कालेज में नन्हें वैज्ञानिकों का कुम्भ
शोध को बढ़ावा देने के लिए छः दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन
ग्लोबल इंस्टीट्यूट में दीपावली मेला एवं उत्सव का आयोजन
जेम्टेक स्कूल ऑफ लॉ में मनाया गया मानवाधिकार दिवस
स्काईलाइन कॉलेज में स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम , FRANTIC INFOTECH के साथ STARTUP प्रोग्राम की शुरुआत
आईटीएस डेंटल कॉलेज में फ्रेशर पार्टी , आरुष बक्शी को मि0 फ्रेशर व रितिका शाॅ को मिस फ्रेशर का मिला ...
विदेशी छात्रों को बौद्ध अध्ययन के लिए अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ देगा छात्रवृति
UP BOARD RESULT : किसान परिवार की बेटी 12 th में बनी जिले की 4 th टॉपर : डॉक्टर बनकर देश की सेवा ...
आतंकवाद के खिलाफ हुआ हिंदुस्तानी जन आक्रोश पैदल मार्च का आयोजन
सरदार पटेल सेवा समिति सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता पुरस्कार वितरण समारोह
एमिटी यूनिवर्सिटी ग्रेनो पहुंची एमिटी इंटर इंस्टीट्यूशनल स्पोर्ट्स मीट "संगठन 2018" की मशाल