डेंटल कॉलेजों में रैगिंग के खतरे को रोकने पर एक सत्र आयोजित

शारदा विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ़ डेंटल साइंसेज ने डेंटल कॉलेजों में रैगिंग के खतरे को रोकने पर एक सत्र का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्य डॉ अनिल कुमार चांदना मुख्य अतिथि थे। उनके अतिरिक्त शारदा विश्वविधालय के छात्रावास विभाग तथा सुरक्षा अधिकारी शामिल थे | इसमें रैगिंग रोकने के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा किया गया | सभी मेहमानों का स्वागत स्कूल ऑफ़ डेंटल साइंसेज के डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने किया ।

डॉ. चांदना ने बताया की रैगिंग हिंसा एक कारण है जिसके कारण छात्र अपमानित महसूस करते है।इससे चिंता और डिप्रेशन जैसे प्रतिकूल प्रभाव हो सकते हैं। हमारे देश में इसके खिलाफ अथक उपायों के बावजूद रैगिंग की संस्कृति कायम है। जबकि कानून और व्यवस्था लागू है, संस्थानों को छात्रों को सुरक्षा की भावना प्रदान करने के लिए पहल करनी चाहिए। कॉलेजों में काउंसलिंग सेल होने चाहिए जो छात्रों को संकट के समय मदद कर सकें। यदि विश्वविद्यालयों द्वारा स्वस्थ प्रथाओं को अपनाया जाता है, तो फ्रेशर्स के बीच रैगिंग का डर कम हो सकता है। रैगिंग के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए एंटी-रैगिंग कार्यक्रम आयोजित किए जा सकते हैं। एंटी-रैगिंग छात्र समिति यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकती है कि यह रैगिंग मुक्त परिसर है। परामर्श सेवाएं स्वायत्त होनी चाहिए ताकि छात्रों की गोपनीयता बनाए रखी जा सके और वे बिना किसी हिचकिचाहट के मदद ले सकें।

शारदा विश्विधालय के स्कूल ऑफ़ डेंटल साइंस के डीन डॉ ऍम सिद्धार्थ ने भी अपने विद्यार्थीओ को समझाया की सभी छात्रों को यह ध्यान रखना आवश्यक है कि वे किसी भी प्रकार के रैगिंग में संलग्न होने से प्रतिबंधित हैं। किसी भी छात्र या छात्रों द्वारा किसी भी आचरण, चाहे वह बोले या लिखे गए शब्दों या किसी ऐसे कार्य से हो, जिसमें किसी नए या किसी अन्य छात्र के साथ अशिष्टता के साथ छेड़छाड़ करना या किसी अन्य छात्र या छात्रों द्वारा उपद्रवी या अनुशासनहीन गतिविधियों में लिप्त होने का प्रभाव होता है। रैगिंग कोई सभ्य संस्कार नहीं है लेकिन यातना का एक अनुष्ठानिक रूप है जो गंभीर मनोवैज्ञानिक और शारीरिक चोट का कारण बन सकता है। रैगिंग ने कई निर्दोष लोगों की जान ले ली है और इतने उज्ज्वल करियर को बर्बाद कर दिया है, यह शायद दुनिया में एकमात्र सामाजिक और मानवाधिकार समस्या है जिसमें पीड़ित स्वयं / खुद अपराध का अपराधी बन जाता है। यह समझ से परे है कि जिस पीड़ित को बुरी तरह से तड़पाया जाता है, वह थोड़े ही समय में रैगिंग को अपना सर्वश्रेष्ठ पल बना लेता है और अपने कनिष्ठों पर उसी रीति-रिवाज को मानना और उसका अभ्यास करना शुरू कर देता है ।

यह भी देखे:-

यूपी: प्रदेश में कोरोना नियंत्रण में है पर ये अतिरिक्त सतर्कता बरतने का समय - मुख्यमंत्री योगी
गेट 2019 : हिमांशु राजपूत ने ऑल इंडिया रैंक-15 प्राप्त किया
30 मिनट नॉन स्टॉप स्केटिंग कर इन बच्चों ने बनाया रिकॉर्ड, पढ़ें पूरी खबर
सीबीएसई के दसवीं के नतीजे घोषित, जानिए ग्रेटर नोएडा के स्कूलों का परिणाम, कौन बना टॉपर
ग्रेड्स इंटरनेशनल स्कूल ने मनाया दान उत्सव
JEECUP 2021: 15 से 20 जून तक होगी यूपी पालीटेक्निक संयुक्त प्रवेश परीक्षा, आवेदन अगले सप्ताह से jeec...
कौन है विश्‍व का अव्‍वल शहर, भारत के किस शहर का नाम सूची में शामिल ?
सुमित अंतिल ने नीरज चोपड़ा के साथ अभ्यास कर 15 मिनट में 3 बार तोड़ा वर्ल्ड रिकार्ड, गोल्ड मेडल जीत ...
डिप्टी सीएम ने बोर्ड परीक्षा केन्द्रों का किया औचक निरिक्षण, कहा नकल पर अंकुश लगाना हमारी प्राथमिकत...
आखिर फेफड़े क्यों हो जाते हैं काले? जानिए इसके कारण, लक्षण और बचाव के उपाय
लखनऊ : सीएम योगी ने अपनाया सख़्त रवैया , अधिकरियो को दिए सख़्त दिशा निर्देश
जिले में CBSE 12 th के पांच टॉपर्स को डीएम बी.एन. सिंह ने किया सम्मानित
सीबीएसई 10 वीं के नतीजे घोषित, ग्रेटर नोएडा के छात्र रहे अव्वल, जानिए स्कूलों का परिणाम
कोविड वैक्‍सीन : 2022 की पहली तिमाही तक बच्‍चों के लिए आ जाएगी कोवोवैक्स
जी. डी. गोयंका  में आन लाइन क्रिसमस व नए वर्ष की पार्टी का आयोजन 
"नई मंजिल" योजना का दादरी में शुभारंभ , क्षेत्र में फैलेगी शिक्षा की रोशनी