डेंटल कॉलेजों में रैगिंग के खतरे को रोकने पर एक सत्र आयोजित

शारदा विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ़ डेंटल साइंसेज ने डेंटल कॉलेजों में रैगिंग के खतरे को रोकने पर एक सत्र का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्य डॉ अनिल कुमार चांदना मुख्य अतिथि थे। उनके अतिरिक्त शारदा विश्वविधालय के छात्रावास विभाग तथा सुरक्षा अधिकारी शामिल थे | इसमें रैगिंग रोकने के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा किया गया | सभी मेहमानों का स्वागत स्कूल ऑफ़ डेंटल साइंसेज के डीन डॉ. एम. सिद्धार्थ ने किया ।

डॉ. चांदना ने बताया की रैगिंग हिंसा एक कारण है जिसके कारण छात्र अपमानित महसूस करते है।इससे चिंता और डिप्रेशन जैसे प्रतिकूल प्रभाव हो सकते हैं। हमारे देश में इसके खिलाफ अथक उपायों के बावजूद रैगिंग की संस्कृति कायम है। जबकि कानून और व्यवस्था लागू है, संस्थानों को छात्रों को सुरक्षा की भावना प्रदान करने के लिए पहल करनी चाहिए। कॉलेजों में काउंसलिंग सेल होने चाहिए जो छात्रों को संकट के समय मदद कर सकें। यदि विश्वविद्यालयों द्वारा स्वस्थ प्रथाओं को अपनाया जाता है, तो फ्रेशर्स के बीच रैगिंग का डर कम हो सकता है। रैगिंग के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए एंटी-रैगिंग कार्यक्रम आयोजित किए जा सकते हैं। एंटी-रैगिंग छात्र समिति यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकती है कि यह रैगिंग मुक्त परिसर है। परामर्श सेवाएं स्वायत्त होनी चाहिए ताकि छात्रों की गोपनीयता बनाए रखी जा सके और वे बिना किसी हिचकिचाहट के मदद ले सकें।

शारदा विश्विधालय के स्कूल ऑफ़ डेंटल साइंस के डीन डॉ ऍम सिद्धार्थ ने भी अपने विद्यार्थीओ को समझाया की सभी छात्रों को यह ध्यान रखना आवश्यक है कि वे किसी भी प्रकार के रैगिंग में संलग्न होने से प्रतिबंधित हैं। किसी भी छात्र या छात्रों द्वारा किसी भी आचरण, चाहे वह बोले या लिखे गए शब्दों या किसी ऐसे कार्य से हो, जिसमें किसी नए या किसी अन्य छात्र के साथ अशिष्टता के साथ छेड़छाड़ करना या किसी अन्य छात्र या छात्रों द्वारा उपद्रवी या अनुशासनहीन गतिविधियों में लिप्त होने का प्रभाव होता है। रैगिंग कोई सभ्य संस्कार नहीं है लेकिन यातना का एक अनुष्ठानिक रूप है जो गंभीर मनोवैज्ञानिक और शारीरिक चोट का कारण बन सकता है। रैगिंग ने कई निर्दोष लोगों की जान ले ली है और इतने उज्ज्वल करियर को बर्बाद कर दिया है, यह शायद दुनिया में एकमात्र सामाजिक और मानवाधिकार समस्या है जिसमें पीड़ित स्वयं / खुद अपराध का अपराधी बन जाता है। यह समझ से परे है कि जिस पीड़ित को बुरी तरह से तड़पाया जाता है, वह थोड़े ही समय में रैगिंग को अपना सर्वश्रेष्ठ पल बना लेता है और अपने कनिष्ठों पर उसी रीति-रिवाज को मानना और उसका अभ्यास करना शुरू कर देता है ।

यह भी देखे:-

जी.डी गोयनका स्कूल में गाँधी जयंती उत्सव का आयोजन 
RYAN EXCEL IN 4TH REPUBLIC INTER SCHOOL BADMINTON CHAMPIONSHIP 2017
जी.एल. बजाज संस्थान को मिला ‘मोस्ट प्रिफर्ड इंजीनियरिंग इंस्टीटयूट ऑफ़ दि ईयर - नार्थ 2019 का अवार्ड
शारदा विश्वविद्यालय में दंत पर्यटन पर भारत की पहली कार्यशाला
प्राथमिक विद्यालय चचूरा में शिक्षक संकुल मासिक बैठक का हुआ आयोजन
 पीएम मोदी ने चौरी चौरा पर जारी किया डाक टिकट, बोले-'आग थाने मेें नहीं लगी थी, जन-जन में प्रज्‍जवलित...
डीएम के निर्देश पर स्कूलों की कैंटीन की सघन जांच अभियान
आईटीएस डेंटल कॉलेज फ्रेशर पार्टी : अजय खन्ना को मिस्टर आहाना को मिस फ्रेशर का मिला खिताब
बिहार:लड़कियों ने रोजाना 1 रुपया दान कर खोला सैनिटरी पैड बैंक
जी. डी. गोयंका  में आन लाइन क्रिसमस व नए वर्ष की पार्टी का आयोजन 
Diwali Celebrations at Ryan Greater Noida
जीएनआईओटी में "टेक्नोलॉजी एंड ट्रस्ट" पर इंटरनेशनल कांफ्रेंस का आयोजन
यूनाइटेड काॅलेज में यूनिमोबी फोटो-2020 प्रतियोगिता अप्रैल में , प्रतिभागी ऐसे करें पंजीकरण
नई शिक्षा नीति 2020 (एनईपी)  का  गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी  कुलपति प्रो. भगवती प्रकाश शर्मा ने किया स्वा...
सिटी हार्ट अकादमी में हर्षोल्लास से मनाया गया लोहड़ी पर्व
जीएल बजाज संस्थान में पीजीडीएम 2017-19 बैच के छात्रों का विदाई समारोह