बदमाशों ने ऐसे दिया था जेवर काण्ड को अंजाम, एसएसपी ने सुनाई वारदात से गिरफ्तारी तक की कहानी

ग्रेटर नया : जेवर गैंगरेप हत्या कांड के चार आरोपियों को रविवार तड़के मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया है। दो फरार बदमाशों की तलाश में पुलिस दबिश दे रही है। एसएसपी गौतमबुद्धनगर लव कुमार ने आज आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि किस तरह से पुलिस करीब दो महीने बाद बदमाशों तक पहुंचने में कामयाब हो पाई. पकड़े गए बदमाश बावरिया गैंग से जुड़े हैं। इनकी पहचान अशोक उर्फ़ राजू निवासी नजफगढ दिल्ली , राकेश निवासी झज्झर, दीपक निवासी झज्झर और जयसिंह निवेश अलवर राजस्थान के रूप में हुई है। इस मामले में मोनू और संजय फरार हैं।

एसएसपी लव कुमार ने बताया कि जेवर कांड के आरोपियों को पकड़ना उनके लिए किसी चुनौती से कम नहीं था. आरोपियों को पकड़ने के लिए कई टीम लगी हुईं थीं. और लगातार इसपर कार्य किया जा रहा था। अलीगढ़ और बुलंदशहर पुलिस के साथ-साथ यूपी एसटीएफ भी बदमाशों की तलाश में जुटी हुई थी.

दो महीनों से सरगर्मी से थी तलाश

इन दो महीनों के दौरान कई गैंग्स को ट्रेस किया गया. जिसके बाद शनिवार देर रात पुलिस को इन बदमाशों के कार से जेवर आने की सूचना मिली. पुलिस ने जाल बिछाया और जैसे ही बदमाश वहां आए, पुलिस ने उन्हें पकड़ने की कोशिश की लेकिन बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी.

जवाबी फायरिंग में बदमाश को लगी गोली

पुलिस की जवाबी फायरिंग में राजू नाम के बदमाश के पैर में गोली लगी है। जबकि तीन बदमाशों को धर दबोचा. दो बदमाश मौके से भागने में कामयाब रहे. एसएसपी ने कहा, पुलिस की एक टीम उनकी तलाश में जेवर से सटे आसपास के इलाकों में लगातार दबिश दे रही है. जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

जेवर गैंगरेप कांड को दिया था अंजाम

एसएसपी लव कुमार ने बताया कि पकड़े गए बदमाश भरतपुर, झज्जर और बुलंदशहर के रहने वाले हैं. बदमाशों ने जेवर गैंगरेप कांड को अंजाम देने की बात कबूल कर ली है. बदमाशों के पास से जेवर कांड के पीड़ितों के दो मोबाइल भी मिले हैं. साथ ही इनके निशानदेही पर पुलिस ने 3 तमंचे, जेवरात, कार, सरिया, एक्सेल आदि सामान बरामद किया गया है.

जेवर कांड में शामिल थे 8 बदमाश

बदमाशों ने पूछताछ में बताया कि वह लोग रात के समय वारदात को अंजाम देते थे. चर्चित जेवर कांड में गिरोह के 8 लोग शामिल थे. घटना में उन्होंने स्कॉर्पियो कार का इस्तेमाल किया था. उन्होंने लूट के इरादे से जेवर कांड को अंजाम दिया था. एसएसपी ने बताया कि चारों महिलाओं से गैंगरेप की पुष्टि जांच के आधार पर हुई थी.

क्या हुआ था ?

बीते 25 मई को ग्रेटर नोएडा के जेवर थाना इलाके स्थित साबौता गांव के पास करीब आधा दर्जन हथियारबंद बदमाशों ने कार से जा रहे एक परिवार के साथ लूटपाट की थी. विरोध करने पर बदमाशों ने परिवार के मुखिया की गोली मारकर हत्या कर दी थी. इतना ही नहीं कार में सवार चार महिलाओं के साथ गैंगरेप किए जाने की बात भी सामने आई थी. इस मामले में एक पीड़िता के बयान देने और फिर बाद में अपने ही बयान से मुकरने को लेकर भी खासा विवाद हुआ था.

यह भी देखे:-

पुरानी रंजिश : दो सगे भाइयों को गोलियों से भूना
आबकारी विभाग ने अवैध शराब से भरा ट्रक पकड़ा, दो गिरफ्तार
जहाँगीरपुर: देशी शराब की दुकान से नगदी सहित दो लाख की चोरी
बुजुर्ग दम्पति को बंधक बनाकर लूटने वाले ईनामी डकैत गिरफ्तार
छात्र से दिनदहाड़े एक लाख की मोबाईल लूट
दो युवक गायब, ग्रामीणों ने लगाया जाम
नोएडा : तीन और भूमाफियों पर लगाया गया गैंगस्टर
कोल्ड ड्रिंक में मिलाकर महिला को पिलाया नशा, फिर दोस्तों संग मिलकर किया…
दंपति के साथ मारपीट कर की घर में की डकैती
दादरी पुलिस ने अवैध शराब पकड़ी दो गिरफ्तार
हत्यारोपी पति गिरफ्तार, कत्ल की ये वजह बताई
किशोरी को बंधक बनाकर कर रेप का आरोप
जे.पी. इन्टरनेश्नल स्कूल में वार्षिक दिवस "मेलांज 2017" का आयोजन
पुलिस को चकमा देकर फरार हुआ रेप का आरोपी गिरफ्तार
मनी एक्सचेंजर को बहाने से बुलाकर लूट
STF ने फर्जी बीमा कंपनी खोलकर लोगों से ठगी करने वाले गिरोह का किया भंडाफोड़, 17 गिरफ्तार