रांची :” सड़क पर नहीं पढ़ेंगे नमाज” : मौलाना उबैदुल्लाह

रांची : एकरा मस्जिद के मौलाना उबैदुल्लाह ने पत्रकारों से कहा, “हमने लोगों को सड़क पर नमाज अदा करने से रोका क्योंकि यह इस्लाम के खिलाफ है. कुछ लोग थे जो नमाज अदा करने के लिए सड़क पर कतारों में खड़े रहते थे, लेकिन अब से यह मस्जिदों के अंदर किया जाएगा और इसके लिए जगह उपलब्ध होगी.”

अभी तक रांची की कई सड़कें, जिसमें महात्मा गांधी रोड भी शामिल है, नमाज अदा करने के चलते विशेष तौर पर शुक्रवार को बड़े जामों में फंस जाया करती थीं.

इस शुक्रवार को सैंकड़ों की संख्या में मुस्लिम लोगों ने रतन टॉकीज के पास स्थित एकरा मस्जिद के अंदर नमाज अदा की.

मौलाना उबैदुल्लाह ने कहा, “मुख्य सड़क शहर का महत्वपूर्ण रूट है. स्कूल की बसें, एंबुलेंस और महत्वपूर्ण वाहन वहां से गुजरते हैं. नमाज के नाम पर दूसरों को परेशान करना इस्लाम के खिलाफ है.”

उन्होंने कहा कि अब इस अभ्यास को रोकने के लिए शहर के सभी मस्जिदों के मौलवियों की बैठक बुलाई जाएगी. रांची के लोगों ने इस निर्णय का स्वागत किया है.

यह भी देखे:-

पत्रकार हत्याकांड में राम रहीम को मिली कठोर सजा, पढ़ें पूरी खबर
एक बार तीन तलाक देने वाले पति जायेंगे जेल, मोदी कैबिनट ने दी मंजूरी
कुमारस्वामी सरकार गिरी, भारतीय जनता पार्टी को 105 वोट मिले
पाकिस्तानी सेना पर आत्मघाती हमले में 9 की मौत, 11 घायल
दुनियाभर में देखा गया साल का अंतिम सूर्य ग्रहण "‘रिंग ऑफ फायर" , पीएम मोदी ने साझा की तस्वीर
अनुच्छेद 370 का अंत होने के बाद लद्दाख में अपने पहले दौरे पर पहुंचे राजनाथ सिंह
पाकिस्तान के बहावलपुर शहर मे बैठा है पुलवामा हमले का गुनहगार मौलाना मसूद अजहर
आतंकी अफजल गुरू का बेटा विदेश में करना चाहता है मेडिकल की पढ़ाई
अनुच्‍छेद 370 हटने पर भारत का कश्‍मीर से रिश्‍ता टूट जाएगा: कांग्रेस नेता
अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी अटैक, सात की मौत , दिल्ली में हाई अलर्ट
वायुसेना की कार्रवाई में जैश के कमांडरों समेत कई आतंकी मारे गए- विदेश सचिव
राजस्थान : गुर्जर समेत 5 जातियों को 5% आरक्षण का बिल विधानसभा में पेश
JNU Incident: वामपंथ के नकारात्मक विचारधारा का परिणाम :अनुराग त्यागी
भारतीय सेना ने राष्‍ट्र कवि दिनकर की कविता की पंक्तियों के माध्‍यम से संदेश व्यक्त किया
भारत में रक्षा घोटालों का एक संक्षिप्त इतिहास
अखिल भारतीय मिथिला राज्य संघर्ष समिति का जंतर मंतर पर विशाल धरना एवं प्रदर्शन