आईएफजेएएस 2019 , 145 करोड़ रुपये की बिजनेस पूछताछ के साथ हुआ समापन

ग्रेटर नोएडा: हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद द्वारा दिल्ली-एनसीआर के ग्रेटर नोएडा स्थित इंडिया एक्सपो सेंटर ऐंड मार्ट में आयोजित तीन दिवसीय 12वां इंडिया फैशन जूलरी ऐंड एक्सेसरीज शो (आईएफजेएएस 2019) के अंतिम दिन आज 145 करोड़ रुपये की बिजनेस पूछताछ हुई. ईपीसीएच अध्यक्ष श्री रवि के पासी ने सूचित किया.

ईपीसीएच के महानिदेशक श्री राकेश कुमान ने सूचित किया कि 504 से अधिक विदेशी खरीदार और उनके प्रतिनिधि एक ही छत के नीचे भारत के पूर्वी, पश्चिमी और दक्षिणी क्षेत्रों के कारीगरों समेत विभिन्न इलाकों से आए 250 से अधिक भारतीय निर्यातकों, उत्पादकों और उद्यमियों के पेश किये विभिन्न उत्पाद कलेवरों में से अपनी जरूरतों की पूर्ति के लिए पहुंचे.

श्री कुमार ने कहा कि आईएफजेएएस एक आदर्श अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनी है जो उन उत्पादों पर फोकस करता है जिसे खरीदार केवल भारत में ही पा सकते हैं. बारीक एवं उत्कृष्ट भारतीय पारंपरिक और समकालीन फैशन जूलरी ने दुनिया के बाजारों में अपनी एक जगह बनाई है और इनमें निर्यात की जबरदस्त संभावनाएं हैं.

मेले के दूसरे दिन सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन के बाद एक रंगारंग कार्यक्रम के दौरान सर्वश्रेष्ठ डिजाइन और प्रदर्शित स्टैंड्स को अजय शंकर मेमोरियल पुरस्कार प्रदान किये गये जो आगंतुक खरीदारों के लिए एक बेहद ही अलग अनुभव था और उन्होंने कारीगरों के नेटवर्किंग मीट के साथ साथ इस प्रदर्शन की बहुत सराहना की. ये पुरस्कार बीजेपी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष और सांसद श्री मनोज तिवारी ने प्रदान किये.

आईएफजेएएस मेले के दौरान सभी तीन दिन फैशन जूलरी, बैग्स और एक्सेसरीज को विशेष रूप से प्रोत्साहित किया गया. इस दौरान मेले में पहुंचे खरीदारों ने भागीदारों द्वारा विभिन्न डिजाइन उत्पादों की पेशकश में बहुत दिलचस्पी ली.
पश्चिमी पसंद और उनकी वरीयताओं को ध्यान में रखते हुए मेले में प्रदर्शित उत्पादों में फैशन जूलरी, कम कीमती फैशन जूलरी, फैशन एक्सेसरीज, हैंड बैग, पर्स, फैंसी जूते और कशीदाकारी किये फैशन एक्सेसरीज आदि शामिल किये गये.
अर्जेंटीना, बारबाडोस, ब्राजील, बेल्जियम, कोलंबिया, फिनलैंड, फ्रांस, ग्रीस, इटली, इजरायल, जापान, कुवैत, लेबनान, मैक्सिको, नाइजीरिया, नॉर्वे, रूस, सेनेगल, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, स्पेन, श्रीलंका, यूएई, ब्रिटेन और अमरीका के खरीदार इस तीन दिवसीय फैशन जूलरी एवं एक्सेसरीज के भव्य शो में प्रदर्शित उत्पादों की उत्कृष्ट रेंज में से अपनी जरूरतों के उत्पादों की खरीद की.

उपरोक्त देशों के अलावा किर्गिस्तान, अजरबैजान, तुर्कमेनिस्तान, यूक्रेन और तंजानिया जैसे सीआईएस देशों के साथ-साथ कांगो, घाना, गाम्बिया, सेनेगल, नाइजीरिया और दक्षिण अफ्रीका जैसे अफ्रीकी देशों के खरीदार भी अपनी आवश्यकता के उत्पादों की खरीद के लिए इस शो में पहुंचे.

वर्ष 2018-19 के दौरान रुपये के संदर्भ में 15.46% वृद्धि के साथ हस्तशिल्पों का निर्यात 26590.25 करोड़ रुपये का हुआ जबकि इसी दरम्यान डॉलर के संदर्भ में इसमें 6.44% की वृद्धि हुई. वहीं, साल 2018-19 में बीते वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 11.34% वृद्धि के साथ फैशन जूलरी एवं एक्सेसरीज का निर्यात 2332.97 करोड़ रुपये का किया गया.
12वां भारतीय फैशन जूलरी ऐंड एक्सेसरीज शो न केवल इसमें शामिल कंपनियों के लिए बल्कि आईएफजेएएस 2019 के आयोजकों के लिए भी सकारात्मक नोट पर समाप्त हुआ.

ईपीसीएच देश से हस्तशिल्पों के निर्यात को बढ़ावा देने वाली एक नोडल एजेंसी है जो विदेशों में उच्चस्तरीय हस्तशिल्पों के विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता के रूप में भारत की छवि को प्रोजेक्ट करती है.

यह भी देखे:-

UNCCD COP14 का इंडिया एक्सपो मार्ट सेंटर ग्रेटर नोएडा में आगाज़
सावित्री बाई इंटर कॉलेज में गाँधी जयंती , एनसीसी कैडेट्स ने सफाई अभियान चलाया
अब सीधे चुनाव प्रेक्षक से कर सकते हैं शिकायत, जानिए कैसे
उत्तर प्रदेश में पीपीएस अधिकारीयों के तबादले
दादरी में शांति समिति की बैठक में अधिकारीयों ने की अपील, सौहार्दपूर्ण वातावरण में मनाये ईद
रोशनी सिंह किसान कामगार मोर्चा महिला विंग की राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोनीत
देखें VIDEO, UP CM योगी आदित्यनाथ का ग्रेटर नोएडा- नोएडा की जनता को शानदार तोहफा
आईआईएमटी के छात्रों ने बनायी भारत की पहली स्वदेशी स्‍मार्ट दिव्‍यांग व्हील चेयर
एनटीपीसी दादरी में हिंदी पखवाड़े का उद्घाटन
शारदा यूनिवर्सिटी : "कम्प्यूटेशनल गैस्ट्रोनॉमी" पर संगोष्ठी आयोजित
संयुक्त अधिकार किसान आंदोलन की मांगों को लेकर पद यात्रा
तमाम विवादों के बीच भारत पहुंचे 3 राफेल जेट
समसारा विद्यालय Excellence in Education अवार्ड से सम्मानित
श्री रामलीला कमेटी रामलीला मंचन : अभिशाप से पत्थर बनी अहिल्या, श्री राम ने किया उद्दार
हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे पर आधारित वृत्तचित्र "द ब्रदरहुड" का ट्रेलर यू ट्यूब पर रिलीज
शारदा विश्वविधालय में कैमरून का दल प्रबंधन विकास कार्यक्रम के लिए पहुंचा