मूलभूत सुविधाओं से मरहूम है ग्रेटर नोएडा के औद्योगिक क्षेत्र : आईआईए

ग्रेटर नोएडा। उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए केंद्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा भले ही तमाम योजनाएं चलाई जा रही हों, लेकिन औद्योगिक शहर ग्रेटर नोएडा के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमी संतुष्ट नहीं हैं। नाली, सड़क, पानी, परिवहन व सुरक्षा व्यवस्था जैसी मूलभूत सुविधाओं की मारझेल रहे उद्यमियों ने इसके लिए सीधे तौर पर स्थानीय जिला प्रशासन, प्राधिकरण व यूपीएसआईडीसी को जिम्मेदार ठहराया है। आरोप है कि केंद्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा जारी शासनादेशों एवं नियमों का पालन नहीं हो रहा है। सरकारी विभागों पर शोषणा का भी आरोप है।

शुक्रवार को इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन (आईआईए) ग्रेटर नोएडा चैप्टर की बैठक हुई, जिसमें आगे की रणनीति तैयार की गई।

आईआईए ग्रेटर नोएडा चैप्टर के चेयरमैन एसपी शर्मा का कहना है कि औद्योगिक शहर ग्रेटर नोएडा में विकास की अपार संभावनाएं हैं, इसके बावजूद यहां उद्योगों की स्थिति दयनीय है। बड़े उद्योगों को छोड़ दें तो छोटे उद्योगों की तरफ किसी का ध्यान नहीं है। औद्योगिक सेक्टरों की सड़क खस्ताहाल हो गई हैं। नाली व पानी निकासी की व्यवस्था न होने से बरसात के मौसम में बहुत अधिक परेशानी होती है। कम्पनियों में पानी घुस जाने से भारी नुकसान होता है। श्रमिकों के लिए ईएसआई डिस्पेंसरी व सार्वजनिक परिवहन की व्यवस्था नहीं है। मूलभूत सुविधाओं की मारझेल रहे उद्यमियों की समस्याओं से मुख्यमंत्री व मुख्य सचिव को भी अवगत कराया जा चुका है, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। जांच के नाम पर सरकारी विभागों द्वारा छोटे उद्यमियों का शोषण किया जा रहा है। एसपी शर्मा का कहना है कि प्रदेश में भाजपा की सरकार आने पर उद्यमियों को एक नई आशा की किरण दिखाई दी थी, क्योंकि सरकार ने प्राथमिकता के आधार पर नई औद्योगिक निवेश एवं रोजगार सृजन पोलिसी 2017 की घोषणा कर दी थी। इसके तहत उद्यमियों को तमाम सुविधाएं व लाभ देने का वायदा किया गया, लेकिन धरातल पर कुछ दिखाई नहीं पड़ रहा है। सारे दावे व वायदे कागजी साबित हो रहे हैं। केंद्र की मोदी सरकार 59 मिनट में लोन का वायदा करती है, लेकिन किसी को नहीं मिल रहा है। छोटे उद्यमियों में इस बात को लेकर भी रोष है कि केंद्र सरकार ने सूक्ष्म एवं लघु उद्योगों से 25 प्रतिशत सामान की खरीद सभी केंद्रीय विभागों एवं उपक्रमों में करना अनिवार्य कर दिया है, परन्तु प्रदेश सरकार ने इसे अभी तक लागू नहीं किया है। उनका कहना है कि शासन प्रशासन की उदासीनता के चलते शहर के कई छोटे उद्योग बंद होने के कगार पर पहुंच गए हैं।

एसोसिएशन के पदाधिकारी जितेंद्र पारिक ने कहा कि प्रदेश एवं केंद्र सरकार द्वारा जारी शासनदेशों एवं नियमों का पालन नहीं हो रहा है। यूपीसीडा प्रदेश में उद्योगों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से स्थापित किया गया है, परन्तु यह प्राधिकरण भी नियम विरुद्ध मनमाने शुल्क अपने घाटे की पूर्ति के लिए लगा रहा है, जिससे प्रदेश में उद्योगों को आर्थिक कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। औद्योगिक क्षेत्रों में मेंटीनेंस चार्ज एवं विस्तारीकरण शुल्क में बढ़ोतरी लीज डीड की शतरे के विपरीत कर दी गई है। इस मौके पर एडी पांडेय, सव्रेश गुप्ता, विशारद गौतम, बीआर भाटी आदि पदाधिकारी व सदस्य गण मौजूद रहे।

यह भी देखे:-

चुनाव ड्यूटी में जा रहे होमगार्ड की हार्ट अटैक से मौत
लोकसभा चुनाव 2019: जानिए तिथि , गौतमबुधनगर समेत समूचे उत्तर प्रदेश के लोकसभा सीट का चुनाव कार्यक्रम
समृद्ध एवं शक्तिशाली भारत ट्रस्ट ने आरंभ किया पर्यावरण सुरक्षा का अभियान
किसानों की रिहाई को लेकर करप्शन फ्री इंडिया संगठन निकालेगा पैदल मार्च
डाक सेवको की हड़ताल जारी, किया प्रदर्शन
गौतमबुद्धनगर : तीनों तहसील में सम्पूर्ण समाधान दिवस सम्पन्न
दर्दनाक : बिजली करेंट ने बरपाया कहर , पिता-पुत्र की मौत
कबड्डी खिलाड़ी आकाश का गांव पहुंचने पर जोरदार स्वागत
अन्ना आंदोलन का हिस्सा बने का करप्शन फ्री इंडिया संगठन
महिलाओं के उत्थान और उनके सशक्तिकरण के लिए संवेदनशील हैं केन्द्र व प्रदेश सरकार : धीरेन्द्र सिंह
हॉर्न सुन बिदका भैंसा, नाले में डूबकर मौत
बैरीकेडिंग तोड़ ट्रोला ने पांच गाड़ियों को मारी टक्कर
बुजुर्ग को काटकर बंदरों ने किया घायल, जनता ने नगरपालिका के प्रति जताया रोष
रोडवेज बस दुर्घटनाग्रस्त, दर्जन भर घायल
प्रीती अग्रवाल बनी रोटरी क्लब ग्रीन ग्रेटर नोएडा की अध्यक्ष, नई कार्यकारणी ने कार्यभार संभाला
रामनाथ कोविंद के राष्ट्रपति बनने पर कोरी समाज के लोगो ने लड्डू बांटकर खुशी मनाई