शोध को बढ़ावा देने के लिए छः दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन

ग्रेटर नॉएडा| ग्रेटर नॉएडा के शारदा विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग में 27 मई से 1 जून फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन किया गया। 6 दिनों तक चलने वाले इस कार्यक्रम में जनसंचार विभाग के शिक्षको में शोध और अनुसंधान की समझ विकसित करने के लिए रखा गया था। इस कार्यक्रम की शुरुवात डॉ तर्जीत सभरवाल ने अपने उदबोधन से की। शोध के बारे में समझाते हुए कहा की शोध उस प्रक्रिया अथवा कार्य का नाम है जिसमें बोधपूर्वक प्रयत्न से तथ्यों का संकलन कर सूक्ष्मग्राही एवं विवेचक बुद्धि से उसका अवलोकन-विश्‌लेषण करके नए तथ्यों या सिद्धांतों का उद्‌घाटन किया जाता है।कार्यक्रम में आई आई एआईएम सी ,जामिया और दिल्ली विश्व विद्यालय के कई प्रबुद्ध शोधकर्ता और प्रोफ़ेसर ने हिस्सा लिया और शोध के गूढ़ रहस्यों के बारे में जानकारी दी।

डॉ अनुभूति यादव ने शोध लेखन की प्रक्रिया और विषय के चुनाव की विधि पर प्रकाश डाला, और कहा की शोध ज्ञान के विविध पक्षों में गहनता और सूक्ष्मता लाता है और न्यू मीडिया रिसर्च पर ज्यादा जोर दिया | प्रोफेसर साइमा सईद और प्रोफेसर सुनेत्रा नारायण ने दोनों ने शोध पर अपनी-अपनी राय दी और रिपोर्ट लेखन की नई विधि की जानकारी दी। तथा तालिका निर्माण, डाटा के निर्धारण और समूह में कार्य करने की जरूरतों पर चर्चा की। और कहा की शोध अनेक नवीन कार्यविधियों व उत्पादों को विकसित करता है शोध ज्ञान के विविध पक्षों में गहनता और सूक्ष्मता लाता है। तथा “शोधपत्र विषय” पर ज्यादा जोर डालते हुए कहा की यह एक शैक्षणिक प्रकाशन विधि है इसमें किसी शोध-पत्रिका में लेख प्रकाशित किया जाता है|

डॉ कुलवीं त्रेहन ने मात्रात्मक तरीकों से शोध पर ज्यादा जोर दिया और कहा की मात्रात्मक विश्लेषण केवल चर के गणितीय मूल्यों की परीक्षा के माध्यम से चीजों को मापने या मूल्यांकन करने का एक तरीका है मात्रात्मक विश्लेषण का प्राथमिक लाभ यह है कि इसमें सटीक, निश्चित मूल्यों का अध्ययन करना शामिल है, जिन्हें आसानी से एक दूसरे के साथ तुलना की जा सकती है| शोध उपयोगिता पर प्रकाश डाला और शोध में आने वाली समस्या का किस तरह समाधान किया जा सकता हे उस पर चर्चा की और कहा की शोध, उत्पादक और समस्या का समाधान खोजने वाला होना चाहिए ताकि समाज और राष्ट्रहित के लिए उपयोगी हो। कार्यक्रम को आगे व सम्पूर्ण करने के लिए शोध का महत्व समझाने के लिए और भी विद्वान आए डॉ अनुभूति यादव (Hod new media,IIMC) प्रोफेसर साइमा सईद जो की “सेज पुब्ल” है| प्रोफेसर सुनेत्रा नारायण जो की “कम्युनिकेटर” है| डॉ कुलवीं त्रेहन आदि जैसे जाने माने विद्वानों ने शोध की विभिन्न प्रकार और विशेषताओं की जानकारी दी| कार्यक्रम के अंत में शारदा विश्वविद्यालय के डीन ऐकेडेमिक और जन संचार विभाग के एच ओ डी डाक्टर अमित चावला ने सभी का धन्यवाद दिया और कहा की ऐसे प्रोग्राम शिक्षकों के विकास के लिए काफी हितकर है।

यह भी देखे:-

नक़ल विहीन परीक्षा कराने के लिये प्रशासन पूरी तरह कटिबद्ध
समसारा विद्यालय के बच्चों ने विभिन्न प्रतियोगिताएं में किया उत्कृष्ट प्रदर्शन
RUN FOR FUN – AN INTER SCHOOL ATHELETIC MEET AT RYAN GREATER NOIDA
जी एल बजाज इंस्टिट्यूट के दो छात्रों का अमेजॉन में हाई पैकेज 30.25 लाख पर चयन
शारदा विश्वविद्यालय : संकाय और स्टाफ सदस्यों के लिए टी-10 क्रिकेट टूर्नामेंट
"एक अध्यापक ही अच्छे राष्ट्र का निर्माण करता है" : दीप चंद्रा
शारदा विश्विद्यालय में नवप्रवेशित विदेशी छात्रों के लिए ओरिएंटेशन प्रोग्राम
Ryanites Interacted with Nobel Laureate Sh. Kailash Satyarthi
सिटी हार्ट अकादमी : तीज महोत्सव के उपलक्ष्य में हुआ मेहंदी कॉम्पटीशन
जिला जेल में  विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन
जी. डी. गोयंका पब्लिक स्कूल में माँ गायत्री के हवन से नए साल का स्वागत
जी. डी. गोयंका में क्रिसमस कार्निवल: रैपर रफ़्तार ने मचाई धूम
शारदा विश्वविद्यालय में मना अंतरष्ट्रीय शिक्षक दिवस
Ryan International School, Greater Noida Conducts Pre Board in School Premises
जीएल बजाज में पीजीडीएम का दीक्षारम्भ समारोह, कारपोरेट जगत की कई हस्तियों ने किया शिरकत
शिक्षक दिवस : आईआईएमटी कॉलेज में शिक्षकों को मिला बेस्ट फैकल्टी अवार्ड