शोध को बढ़ावा देने के लिए छः दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन

ग्रेटर नॉएडा| ग्रेटर नॉएडा के शारदा विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग में 27 मई से 1 जून फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन किया गया। 6 दिनों तक चलने वाले इस कार्यक्रम में जनसंचार विभाग के शिक्षको में शोध और अनुसंधान की समझ विकसित करने के लिए रखा गया था। इस कार्यक्रम की शुरुवात डॉ तर्जीत सभरवाल ने अपने उदबोधन से की। शोध के बारे में समझाते हुए कहा की शोध उस प्रक्रिया अथवा कार्य का नाम है जिसमें बोधपूर्वक प्रयत्न से तथ्यों का संकलन कर सूक्ष्मग्राही एवं विवेचक बुद्धि से उसका अवलोकन-विश्‌लेषण करके नए तथ्यों या सिद्धांतों का उद्‌घाटन किया जाता है।कार्यक्रम में आई आई एआईएम सी ,जामिया और दिल्ली विश्व विद्यालय के कई प्रबुद्ध शोधकर्ता और प्रोफ़ेसर ने हिस्सा लिया और शोध के गूढ़ रहस्यों के बारे में जानकारी दी।

डॉ अनुभूति यादव ने शोध लेखन की प्रक्रिया और विषय के चुनाव की विधि पर प्रकाश डाला, और कहा की शोध ज्ञान के विविध पक्षों में गहनता और सूक्ष्मता लाता है और न्यू मीडिया रिसर्च पर ज्यादा जोर दिया | प्रोफेसर साइमा सईद और प्रोफेसर सुनेत्रा नारायण ने दोनों ने शोध पर अपनी-अपनी राय दी और रिपोर्ट लेखन की नई विधि की जानकारी दी। तथा तालिका निर्माण, डाटा के निर्धारण और समूह में कार्य करने की जरूरतों पर चर्चा की। और कहा की शोध अनेक नवीन कार्यविधियों व उत्पादों को विकसित करता है शोध ज्ञान के विविध पक्षों में गहनता और सूक्ष्मता लाता है। तथा “शोधपत्र विषय” पर ज्यादा जोर डालते हुए कहा की यह एक शैक्षणिक प्रकाशन विधि है इसमें किसी शोध-पत्रिका में लेख प्रकाशित किया जाता है|

डॉ कुलवीं त्रेहन ने मात्रात्मक तरीकों से शोध पर ज्यादा जोर दिया और कहा की मात्रात्मक विश्लेषण केवल चर के गणितीय मूल्यों की परीक्षा के माध्यम से चीजों को मापने या मूल्यांकन करने का एक तरीका है मात्रात्मक विश्लेषण का प्राथमिक लाभ यह है कि इसमें सटीक, निश्चित मूल्यों का अध्ययन करना शामिल है, जिन्हें आसानी से एक दूसरे के साथ तुलना की जा सकती है| शोध उपयोगिता पर प्रकाश डाला और शोध में आने वाली समस्या का किस तरह समाधान किया जा सकता हे उस पर चर्चा की और कहा की शोध, उत्पादक और समस्या का समाधान खोजने वाला होना चाहिए ताकि समाज और राष्ट्रहित के लिए उपयोगी हो। कार्यक्रम को आगे व सम्पूर्ण करने के लिए शोध का महत्व समझाने के लिए और भी विद्वान आए डॉ अनुभूति यादव (Hod new media,IIMC) प्रोफेसर साइमा सईद जो की “सेज पुब्ल” है| प्रोफेसर सुनेत्रा नारायण जो की “कम्युनिकेटर” है| डॉ कुलवीं त्रेहन आदि जैसे जाने माने विद्वानों ने शोध की विभिन्न प्रकार और विशेषताओं की जानकारी दी| कार्यक्रम के अंत में शारदा विश्वविद्यालय के डीन ऐकेडेमिक और जन संचार विभाग के एच ओ डी डाक्टर अमित चावला ने सभी का धन्यवाद दिया और कहा की ऐसे प्रोग्राम शिक्षकों के विकास के लिए काफी हितकर है।

यह भी देखे:-

आईटीएस डेंटल काॅलेज में विशाल तम्बाकू निषेध रैली का आयोजन
जीएल बजाज संस्थान ने किया तृतीय वार्षिक एचआर कान्क्लेव का आयोजन, अग्रणी औद्योगिक संस्थानों के एच आर ...
सूर्य की उर्जा से जगमगयेगा आईआईएलएम कॉलेज
एकेटीयू द्वारा रद्द किए गए परीक्षाओं की नई समय सारणी जारी
गैर मान्यता प्राप्त विद्यालयों के खिलाफ हो सख्त कार्यवाही : चौधरी प्रवीण भारतीय
Bodhi Taru International School organised ‘Neverland’-The Infotainment Summer Camp
शारदा विश्वविधालय में धूमधाम से मन गणतंत्र दिवस समारोह, पांच गाँव गोद लेने की घोषणा
क्रिसमस के रंग में रंगा आई.टी.एस. इंजीनियरिंग काॅलेज
एकेटीयू की मेरिट लिस्ट में जीएनआइओटी ग्रुप के छात्रों ने नाम रोशन किया
जीएनआईओटी में इंडक्शन प्रोग्राम का आगाज
बच्चों ने दिखाए योग के हैरतअंगेज करतब , देखें VIDEO
दनकौर पुलिस ने छात्राओं को सिखाए आत्मरक्षा के गुर
एक्यूरेट इंस्टीट्यूट के पी0जी0डी0एम0 के विद्यार्थियों द्वारा फेयरवेल पार्टी का आयोजन
समसारा विद्यालय में यातायात के नियमों पर कार्यशाला का आयोजन
एनआईईटी कॉलेज के छात्रों ने किया प्रदर्शन
शिव नादर यूनिवर्सिटी में मच्छर लारवा पाए जाने पर लगाया जुर्माना