एनआइयू-एनआइओएस ने आयोजित की ऑन लाइन शिक्षण पर कार्यशाला

ग्रेटर नोएडा। संचार तकनीक ने शिक्षा को पंख दे दिए हैं। और इसके जरिए ज्ञान देश के दूर दराज के इलाकों तक पहुंच रहा है। लोग अपने अपने मनचाहे शिक्षक से घर बैठे विधिवत ज्ञान पा रहे हैं। विजुअल्स (दृश्य कथ्य) के कारण आम लोगां की इस ज्ञान में रुचि बढ़ी है। लोगों की भागीदारी के चलते देश में ऑन लाइन शिक्षण प्रदान कर रहा ‘स्वयं’ (स्टडी वेब्स फॉर एक्टिव लर्निंग ऑफ यंग एंड एस्पायरिंग माइंड्स) आज विश्व में पहले स्थान पर आ गया है।

यह बात सोमवार को नोयडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ एजुकेशन और राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित एक कार्यशाला में एनआईओएस के चेयरमैन प्रो. चंद्र भूषण शर्मा ने कही। मुख्य अतिथि के तौर पर उन्होंने बताया कि यह मैसिव ओपन आन लाइन कोर्सेस (मूक) के जरिए विद्यार्थी ही नहीं शिक्षक भी लाभान्वित हो रहे हैं। ‘स्वयं’ इसका सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म है। हाल ही में एनआईओस ने ‘स्वयं’ के जरिए 15 लाख शिक्षकों को प्रशिक्षण दे कर कीर्तिमान स्थापित किया है।
ऑन लाइन शिक्षण पर आयोजित इस कार्यशाला में विवि के कुलपति डॉ आर डी शर्मा ने कहा कि मौजूदा विश्वविद्यालय तंत्र और ऑन लाइन शिक्षण दोनों के साथ आने से ही ज्ञान क्रांति संभव है। उन्हांंने कहा विश्वविद्यालय के शिक्षक पहले ही ‘स्वयं’ के जरिए अपना ज्ञान देश के कोने-कोने तक पहुंचा रहे हैं। एनआईओएस के सहयोग के जरिए इस काम को और गति मिलेगी।

विवि के रजिस्ट्रार डॉ. जयानन्द ने कहा कि नोयडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी तकनीक के जरिए शिक्षा को अत्याधुनिक बनाने के लिए संकल्पित है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय में बीस प्रतिशत शिक्षण की सुविधा आन लाइन पाठ्यक्रमों के जरिए दी है।

तकनीकी सत्र में एनआईओएस के डायरेक्टर एस.के प्रसाद ने बताया कि भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा वर्ष 1989 का उद्देश्य देश के दूर-दराज क्षेत्रों के छात्रों को सस्ती शिक्षा सभी को सुलभ कराना है। आज देश में हमारे 22 रीजनल सेंटर तथा 6500 स्टडी सेंटर हैं। जिनमें प्रति वर्ष 5.50 लाख स्टूडेंट्स नामांकन कराते हैं। उन्होंने आगे बताया कि कोई भी छात्र ‘स्वयं’ (स्टडी वेब्स फॉर एक्टिव लर्निंग ऑफ यंग एंड एस्पायरिंग माइंड्स) के प्लेटफॉर्म पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। कार्यक्रम का संचालन विवि के स्कूल ऑफ एजुकेशन की निदेशक प्रोफेसर (डॉ.) मीना भण्डारी ने किया।

कार्यक्रम सचिव का दायित्व डा. निशि त्यागी ने निभाया। कार्यक्रम की आयोजन समिति में डॉ. सैयद फहर अली, अभिषेक सक्सेना, डा. पूजा गुप्ता शामिल थे। कार्यक्रम में विभिन्न विभागों के निदेशक, विभागाध्यक्षों, अध्यापकों एवं विभिन्न विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों ने शिरकत की।

यह भी देखे:-

UP Board Result 2021: यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं के रिजल्ट जल्द, इन वेबसाइट्स पर कर पाएंगे चेक
सपाइयों ने किया पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का स्वागत
फिल्म पद्यमावती के खिलाफ क्षत्रिय समाज करेगा प्रदर्शन
बंगलूरू में शुरू हुआ एशिया का सबसे बड़ा एयरो इंडिया-2021 शो
 पंचशील ग्रींस नवरात्रा सेवक दल  द्वारा विशाल नवरात्र महोत्सव , कन्या पूजन व हवन का हुआ आयोजन 
Coronavirus India Live: लखनऊ पहुंची ऑक्सीजन एक्सप्रेस की दूसरी ट्रेन, अस्पतालों में जल्द होगा वितरण
लोकसभा चुनाव : डीएम -एसएसपी ने पारा मिलिट्री फोर्स के साथ पैदल गश्त किया
श्री रामलीला कमेटी रामलीला मंचन : अभिशाप से पत्थर बनी अहिल्या, श्री राम ने किया उद्दार
रोलर स्केटिंग चैंपियनशिप में ग्रेनो के स्केटर्स चमके
नई पारी की शुरुआत: मंत्री संभाल रहे अपने मंत्रालय का कार्यभार, अनुराग ठाकुर और अश्विनी वैष्णव ने किय...
अनुच्छेद 370 का अंत होने के बाद लद्दाख में अपने पहले दौरे पर पहुंचे राजनाथ सिंह
दिल्ली- हावड़ा रूट पर ट्रेन हादसा होने से टला
बिना मास्क घूम रही महिला सिपाही ने टोकने पर छात्रा का मोबाइल तोड़ा, दी धमकी
सुपरटेक एमराल्ड के ट्विन टावर्स एपेक्स-सियान को 21 अगस्त डिमोलिस किया जायेगा
डॉक्टर एवं नर्स के द्वारा जॉब छोड़ने पर की जाएगी एफआइआर
महिला उन्नति सांसत का महाराष्ट्र तक विस्तार, कुo रुपाली कुराने बनी संस्था की महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक...