एनआइयू-एनआइओएस ने आयोजित की ऑन लाइन शिक्षण पर कार्यशाला

ग्रेटर नोएडा। संचार तकनीक ने शिक्षा को पंख दे दिए हैं। और इसके जरिए ज्ञान देश के दूर दराज के इलाकों तक पहुंच रहा है। लोग अपने अपने मनचाहे शिक्षक से घर बैठे विधिवत ज्ञान पा रहे हैं। विजुअल्स (दृश्य कथ्य) के कारण आम लोगां की इस ज्ञान में रुचि बढ़ी है। लोगों की भागीदारी के चलते देश में ऑन लाइन शिक्षण प्रदान कर रहा ‘स्वयं’ (स्टडी वेब्स फॉर एक्टिव लर्निंग ऑफ यंग एंड एस्पायरिंग माइंड्स) आज विश्व में पहले स्थान पर आ गया है।

यह बात सोमवार को नोयडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ एजुकेशन और राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित एक कार्यशाला में एनआईओएस के चेयरमैन प्रो. चंद्र भूषण शर्मा ने कही। मुख्य अतिथि के तौर पर उन्होंने बताया कि यह मैसिव ओपन आन लाइन कोर्सेस (मूक) के जरिए विद्यार्थी ही नहीं शिक्षक भी लाभान्वित हो रहे हैं। ‘स्वयं’ इसका सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म है। हाल ही में एनआईओस ने ‘स्वयं’ के जरिए 15 लाख शिक्षकों को प्रशिक्षण दे कर कीर्तिमान स्थापित किया है।
ऑन लाइन शिक्षण पर आयोजित इस कार्यशाला में विवि के कुलपति डॉ आर डी शर्मा ने कहा कि मौजूदा विश्वविद्यालय तंत्र और ऑन लाइन शिक्षण दोनों के साथ आने से ही ज्ञान क्रांति संभव है। उन्हांंने कहा विश्वविद्यालय के शिक्षक पहले ही ‘स्वयं’ के जरिए अपना ज्ञान देश के कोने-कोने तक पहुंचा रहे हैं। एनआईओएस के सहयोग के जरिए इस काम को और गति मिलेगी।

विवि के रजिस्ट्रार डॉ. जयानन्द ने कहा कि नोयडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी तकनीक के जरिए शिक्षा को अत्याधुनिक बनाने के लिए संकल्पित है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय में बीस प्रतिशत शिक्षण की सुविधा आन लाइन पाठ्यक्रमों के जरिए दी है।

तकनीकी सत्र में एनआईओएस के डायरेक्टर एस.के प्रसाद ने बताया कि भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा वर्ष 1989 का उद्देश्य देश के दूर-दराज क्षेत्रों के छात्रों को सस्ती शिक्षा सभी को सुलभ कराना है। आज देश में हमारे 22 रीजनल सेंटर तथा 6500 स्टडी सेंटर हैं। जिनमें प्रति वर्ष 5.50 लाख स्टूडेंट्स नामांकन कराते हैं। उन्होंने आगे बताया कि कोई भी छात्र ‘स्वयं’ (स्टडी वेब्स फॉर एक्टिव लर्निंग ऑफ यंग एंड एस्पायरिंग माइंड्स) के प्लेटफॉर्म पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। कार्यक्रम का संचालन विवि के स्कूल ऑफ एजुकेशन की निदेशक प्रोफेसर (डॉ.) मीना भण्डारी ने किया।

कार्यक्रम सचिव का दायित्व डा. निशि त्यागी ने निभाया। कार्यक्रम की आयोजन समिति में डॉ. सैयद फहर अली, अभिषेक सक्सेना, डा. पूजा गुप्ता शामिल थे। कार्यक्रम में विभिन्न विभागों के निदेशक, विभागाध्यक्षों, अध्यापकों एवं विभिन्न विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों ने शिरकत की।

यह भी देखे:-

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा मुमकिन नहीं, कैबिनेट की सलाह से काम करें एलजी
THE HIGHWAY FASHION WEEK SEASON 4 में डिज़ाइनर दिखायेंगे प्रतिभा की झलक
केंद्र सरकार का वादा झूठ का पुलिंदा : वीरेंद्र डाढा
स्वदेश लौटने पर गोल्फ के चैम्पियन अर्जुन भाटी का जोरदार स्वागत
नार्थ इंडिया कराटे चैंपियनशिप 2019 में ग्रेनो के बच्चों का जलवा, जीते की मेडल्स
आईएफजेएएस 2019 , 145 करोड़ रुपये की बिजनेस पूछताछ के साथ हुआ समापन
कांग्रेस के बाद आज बीजेपी का उपवास
जेवर कांड: गैंग रेप की एक पीड़िता की हालत  बिगड़ी
दुःखद : सावित्री बाई फूले बालिका इंटर कॉलेज की प्रिंसिपल का निधन
समसारा विद्यालय में चुनावी प्रक्रिया का सफल आयोजन
दावा : जानिए कैसे , संस्कृत बोलने से डायबिटीज और कोलेस्ट्रोल होता है कम
राम जी के जन्म पर गौर सिटी में हुयी बधाई
इंडिया एक्सपो मार्ट में 12 अक्टूबर से हैंडीक्राफ्ट मेला , नार्थ ईस्ट पर होगा फोकस
श्री धार्मिक रामलीला मंचन सेक्टर - पाई : रोने लगी अयोध्या जब वनवास को निकले श्री राम, कलाकरों के अभ...
इंडस फ़ूड- II में बोलीं हरसिमरत कौर बादल, सड़क पर नहीं फेंकनी पड़ेगी उपज, किसान के घर से उत्पाद उठ...
हमें शहरी विकास कार्यक्रमों में स्थानीय युवाओं को रोजगार देना चाहिए: सीएम योगी आदित्यनाथ