बीमा के करोड़ों की रकम हड़पने की साजिश का पर्दाफाश , पढ़ें पूरी खबर

ग्रेटर नोएडा : कोतवाली क्षेत्र के साइट पांच स्थित एसआरएस मेडिटेक फैक्ट्री में बीते साल संदिग्ध परिस्थिति में लगने से दो कर्मचारियों की मौत हो गई थी। इधर पुलिस ने फैक्ट्री के मालिक सैयद मुजाहिद अस्करी निवासी ओमेक्स रॉयल रेजीडेंसी नोएडा और सिंहराज निवासी डेल्टा एक ग्रेटर नोएडा के खिलाफ जालसाजी का मुकदमा दर्ज किया गया था। पुलिस ने जब जांच की तो पता चला कि आग लगाकर दोनों 75 करोड़ रुपये की बीमा रकम हड़पने की फिराक में थे। इसके लिए उनके द्वारा बीमा कंपनी को पत्र भी लिखा जा चुका है और कंपनी द्वारा मौका मुआयना कर लिया गया था। दोनों अर्रोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। कोर्ट ने दोनों के खिलाफ गैर जमानती वारंट भी जारी किया था। मामले की जांच सूरजपुर कोतवाली प्रभारी मुनीष चौहान ने किया था. उन्होंने बताया कि पुलिस जांच में यह भी पता चला है कि आरोपी पहले भी एक बार फैक्ट्री में आग लगाकर नौ करोड़ की बीमा रकम हासिल कर चुके थे।

जानकारी के मुताबिक यह फैक्ट्री दिल्ली के रहने वाले एक शख्स की थी। उन्होंने फैक्ट्री संचालित की जिम्मेदारी सैयद मुजाहिद अस्करी व सिंहराज को दी हुई थी। बीते साल फैक्ट्री में जानबूझ कर आग लगाई गई। आग लगाने के दौरान दो कर्मचारियों की भी मौत हो गई। एक कर्मचारी का शव आज तक नहीं मिला। मामले की जांच तीन बार स्थानांतरित हुई। पहले ग्रेटर नोएडा कोतवाली प्रभारी ने मामले की जांच की। इसके बाद अपराध शाखा को जांच भेजी गई। उसके बाद भी जब सही तथ्य निकल कर सामने नहीं आए तो एसपी देहात विनीत जायसवाल ने सूरजपुर कोतवाली प्रभारी मुनीष चौहान को मामले की जांच सौंपी। जांच अधिकारी ने मामले में साक्ष्य एकत्र करने शुरू किए तो कई चौंकाने वाली बात प्रकाश में आई। पुलिस जांच में पता चला कि आग साजिशन लगाई गई थी। आग लगाने के लिए एक केमिकल का प्रयोग किया गया था। आग लगाने से पहले ही फैक्ट्री से महंगी मशीनें बाहर निकाल ली गई थी। जिससे कि उनका दोबारा प्रयोग किया जा सके। साजिशन फैक्ट्री में आग लगाकर यह दर्शाने का प्रयास किया गया तो आग से फैक्ट्री की सभी मशीनें जलकर खाक हो गई। लेकिन आरोपित अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हुए।

इधर दिल्ली के रहने वाले जिस व्यक्ति की फैक्ट्री है वह छह महीने तक पुलिस के चक्कर काटता रहा। वह पुलिस से बार-बार कहते रहे कि साजिश रचकर आरोपितों ने फैक्ट्री में आग लगाई है। लेकिन दो बार जांच पूरी होने के बाद तक उनकी बात नहीं मानी गई। पीड़ित के मुताबिक उसने हर बार साक्ष्य भी पुलिस को दिए, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने बताया कि उनको उम्मीद नहीं थी कि मामले में आरोपितों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई करेगी। एसपी देहात विनीत जयसवाल ने बताया जांच के दौरान कई ऐसे साक्ष्य मिले जिससे पता चला कि साजिशन फैक्ट्री में आग लगाई गई थी। दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

यह भी देखे:-

आईआईएमटी कॉलेज के छात्र-छात्राओं में एअर स्ट्राइक के बाद जबरजस्ती जोश
ट्रेन की चपेट में आकर युवक की मौत
गौतमबुद्ध नगर त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव: जानिए 11 बजे तक का मतदान प्रतिशत
फरार सजायाफ्ता कैदी को एसटीएफ नोएडा ने दबोचा
मंगलवार, कल तहसीलों में आयोजित होगा तहसील दिवस
गौतमबुद्धनगर : डीएम बी.एन. सिंह और एसएसपी लव कुमार ने जनपदवासियों को दुर्गा पूजा, रामनवमी व विजय दशम...
4 और गुंडों पर लगाया गया गैंगस्टर
सम्पूर्ण समाधान दिवस : डीएम बी.एन सिंह ने सुनी जनता की समस्या, दिव्यांगों को प्रमाणपत्र वितरित किया
अल्फा 2 में मनाई गई डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की जयंती
मतदाताओं को रिझाने के लिए प्रत्याशी पति बांट रहा था शराब, एसटीएफ व दादरी पुलिस ने किया गिरफ्तार 
कल, सोमवार को निकलेगी जन संदेश सैमसंग रोजगार जागरूकता विशाल रैली
ड्रग विभाग की छापेमारी, बिना लाइसेंस के चल रहे मेडिकल स्टोर से जब्त की हज़ारों की दवाइयां 
देखें VIDEO, नर्सरी में डबल मर्डर , जाँच में जुटी पुलिस
लिफ्ट देकर बदमाशों ने इंजीनियर को लूटा
शारदा विश्विद्यालय में ओरिएंटेशन प्रोग्राम, सीईओ नरेंद्र भूषण ने किया छात्रों को संबोधित
लूट की वारदात कर कावड़ लेने गए बदमाश , लौटे तो ईकोटेक -3 पुलिस ने दबोचा