इंडिया एक्सपो मार्ट में हस्तशिल्प मेला “स्प्रिंग 2019” का आगाज

ग्रेटर नोएडा: आईएचजीएफ दिल्ली मेला- स्प्रिंग का 47वां संस्करण खरीदारी की आशाजनक संभावना के साथ शुरू हो गया. ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार ने इसकी सूचना दी.

आज ग्रेटर नोएडा के अत्याधुनिक इंडिया एक्सपो सेंटर ऐंड मार्ट में ईपीसीएच अध्यक्ष श्री ओपी प्रह्लादका, मेला अध्यक्ष श्री राजेश कुमार जैन, ईपीसीएच के महानिदेशक श्री राकेश कुमार और प्रशासनिक समिति के अन्य सदस्यों द्वारा पुलवामा के शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ ही एक बेहद सादे उद्घाटन समारोह के साथ मेले की शुरुआत की गई. 110 देशों से होम, लाइफस्टाइल, फैशन, टेक्सटाइल और फर्नीचर उत्पादों का स्रोत करने दुनिया भर से खरीद समुदाय (बाइंग कम्यूनिटी) भारत पहुंचा है. भारतीय हस्तशिल्पों के इस असाधारण मेले का आयोजन 18-22 जनवरी 2019 तक चलेगा.

ईपीसीएच के महानिदेशक श्री राकेश कुमार ने उद्घाटन के मौके पर शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के बाद प्रदर्शकों, खरीदारों, खरीद प्रतिनिधियों (बाइंग एजेंट्स), प्रेस एवं मीडिया और अन्य गणमान्य लोगों का मेले में स्वागत किया.

इस मौके पर ईपीसीएच के अध्यक्ष श्री ओपी प्रह्लादका ने सूचित किया कि मेले ने हाल के वर्षों में कई उपलब्धियां हासिल की है. जैसे कि लिम्का वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड से मान्यता मिलना, मेले में हर दूसरे साल हॉलों की गिनती बढ़ते हुए अब 15 हो गई हैं, मेले में सुविधाएं कई गुना बढ़ गई हैं, खरीदारों और खरीद करने वाले देशों की संख्या बढ़कर 110 हो गई है, प्रदर्शकों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है, इत्यादि.

ईपीसीएच अध्यक्ष श्री ओपी प्रह्लादका ने कहा, “आईएचजीएफ- दिल्ली मेले ने अंतरराष्ट्रीय खरीद समुदाय के सामने हस्तशिल्प निर्यात करने वाले समुदाय की रचनात्मकता और कड़ी मेहनत को प्रदर्शित करने के लिए विश्व स्तरीय मार्केटिंग मंच प्रदान करने में एक सकारात्मक और महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. इस मेले ने निर्यात के जरिए विदेशी मुद्रा की आय में भी वृद्धि दर्ज की है, जो 1986-87 में महज 387 करोड़ रुपये थी और 2017-18 में बढ़कर 23,029.36 रुपये तक पहुंच गई और 2018-19 के पहले 10 महीनों के दौरान इसमें 13.26% की सकारात्मक वृद्धि देखी गई है जो रुपये के संदर्भ में 21,460.56 करोड़ रुपये है. मुझे उम्मीद है कि अगले दो महीनों के दौरान भी यह रुझान बरकरार रहेगा और इस साल हमें अच्छे सकारात्मक परिणाम मिलेंगे.”

श्री प्रह्लादका ने इसके बाद बताया कि 3200 प्रदर्शक यहां 15 हॉलों में होम, लाइफस्टाइल, फैशन और टेक्सटाइल के 2000 से अधिक डिजाइनों एवं स्टाइलों के उत्कृष्ट उत्पाद पेश कर रहे हैं. भारतीय हस्तशिल्पों की खासियत यह है कि ये हाथ से बने हैं जो इन्हें दूसरे देशों के हस्तशिल्पों से अलग बनाते हैं और यही कारण है कि मेले में साल-दर-साल खरीदारों की संख्या में वृद्धि हो रही है.

While declaring fair open मेला अध्यक्ष श्री राजेश जैन ने कहा कि पर्यावरण के अनुकूल शिल्पों के मामले में देश का पूर्वोत्तर क्षेत्र सबसे अमीर इलाकों में से एक है. उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर की समृद्धि यहां के अनोखे शिल्प कौशल की वजह से कई सदियों से लगातार विकसित हो रही है. ईपीसीएच पूर्वोत्तर के छोटे और लघु उद्यमी कारीगरों और शिल्पकारों को यह मार्केटिंग मंच प्रदान करके उन्हें उनके उत्कृष्ट शिल्पों के प्रदर्शन का नियमित रूप से प्रयास कर रहा है. इस साल भी एक थीम पवेलियन लगाया गया है और उम्मीद की जा रही है कि आगंतुक खरीदार क्षेत्रीय शिल्पों के इन छुपे हुए खजानों को देखकर हैरान होंगे और प्रतिभागियों से सीधे बातचीत करेंगे.

श्री राजेश जैन ने अधिक विस्तार से बताया कि थीम पवेलियन में जम्मू-कश्मीर की कला और शिल्प के शानदार काम को शॉल, कालीन, टोकरी बुनाई, पश्मीना शॉल और ट्वीड (ऊनी कपड़े) के जरिए भी प्रदर्शित किया जा रहा है.

भारतीय हस्तशिल्प उत्पादों की जानकारी लेने के लिए, इस साल नए देशों जैसे कि, अल्बानिया, बारबाडोस, सोमालिया के खरीदारों ने मेले में अपना नाम दर्ज करवाया है.

ईपीसीएच के महानिदेशक श्री राकेश कुमार ने कहा, “आईएचजीएफ दिल्ली मेला- स्प्रिंग में हस्तनिर्मित उत्पादों में होम टेक्सटाइल, फर्निशिंग एवं मेडअप्स, कालीन एवं रग्स, फ्लोर कवरिंग, हाउसवेयर, डेकोरेटिव्स, टेबलवेयर, फर्नीचर, गार्डन एवं आउटडोर, बाथरूम एक्सेसरीज, स्पा एवं वेलनेस, लैंप एवं लाइटिंग, क्रिसमस एवं फेस्टिव डेकोर, हाथ से बनी कागज की वस्तुएं, फैशन जूलरी, एक्सेसरीज, बैग्स, क्लच्स, पर्स एवं कपड़े और फैक्ट्स ऐंड फिगर्स इत्यादि के बहुत विस्तृत रेंज उपलब्ध हैं. यहां निम्न, मध्यम और उच्च सभी वर्ग के ग्राहकों के लिए हस्तनिर्मित उत्पादों को प्रदर्शित किया गया है. इन उत्पादों की रेंज बहुत बड़ी और विशिष्ट है.”

पहले दिन के दौरान, Additional हस्तशिल्प विकास आयुक्त श्री रत्नेश झा ने मेले का दौरा किया और पूर्वोत्तर के थीम पवेलियन की शुरुआत की.

भारत का रिटेल व्यवसाय बहुत तेज गति से बढ़ने वाले उद्योग के रूप में उभरा है, इसे देखते हुए ईपीसीएच ने कुछ साल पहले इस मेले में रिटेल चेन को आमंत्रित करना शुरू किया था. थोक खरीदारों की संख्या में इजाफे के साथ ईपीसीएच की उस सूझबूझ के परिणाम अब आने लगे हैं.

ईपीसीएच भारतीय हस्तशिल्प उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने वाली एक नोडल एजेंसी है जो दुनिया के विभिन्न बाजारों में उचित कीमतों पर भारतीय हस्तशिल्प के एक विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता के रूप में और विदेशों में भारत की छवि को प्रस्तुत करने के लिए जिम्मेदार है.

यह भी देखे:-

मोदी मंत्रिमंडल विस्तार: यूपी और बिहार को मिलेगा बड़ा हिस्सा, होगा जातीय और क्षेत्रीय संतुलन
इलाहाबाद हाई कोर्ट की अपील- कोविड-19 गाइडलाइन का पालन करें लोग, कहा- नाइट कर्फ्यू पर विचार करे सरकार
कविता: वक़्त अब बदल गया,बचपन कहि पीछे छूट गया
दिल्ली-एनसीआर में आक्सीजन कंसंट्रेटर व पल्स आक्सीमीटर की कालाबाजारी जारी, रेट सुनकर उड़ जाएंगे होश
LIVE Delhi News: हम मिलकर एक्शन प्लान बनाएंगे: गोपाल राय, दिल्ली-हरियाणा में स्कूल बंद
रूसी वैक्सीन Sputnik-V को भारत में मिली मंजूरी, जानें- अन्य वैक्सीन से कितनी है अलग, क्यों पड़ा नाम
Tokyo Olympics: आज से शुरू होगा 'खेलों का महाकुंभ', कब-कहां और कैसे देखें उद्घाटन समारोह की LIVE स्ट...
GD GOENKA में बच्चों ने ऑनलाईन पृथ्वी को प्रदूषणऔर अपव्यय से बचाने का संकल्प लिया
Vaccine Side effects: कोरोना वायरस वैक्सीन लगने के बाद इन लोगों में दिख सकते हैं साइड इफेक्ट्स, स्टड...
आश्वासन : विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा- अफगानिस्तान की जनता के साथ खड़ा रहेगा भारत
आगामी राष्ट्रीय लोक अदालत “सप्ताह के अन्तर्गत प्रचार-प्रसार के लिए मोबाईल वैन को किया गया रवाना : जि...
सिटी हार्ट अकादमी में हुए बसंत पंचमी पर कार्यक्रम
गलगोटिया विश्विद्यालय: डाटा विश्लेषण पर अनुसंधान संगोष्ठी का आयोजन
कोरोना का खौफ: SSC ने स्थगित कीं दो बड़ी भर्ती परीक्षाएं, यहां पढ़ें आधिकारिक अधिसूचना
LIVE: गुजरात में बड़ी जीत की ओर BJP, गांवों में भी पहुंची 'आप', कांग्रेस पस्त
कोरोना: PM मोदी आज देश के 54 जिलों के डीएम के साथ बैठक करेंगे, संक्रमण के हालात और नियंत्रण पर चर्चा