पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड कामरान और गाजी ढेर

श्रीनगर: Pulwama Encounter: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों के साथ मुठभेड़ में भारतीय सेना के मेजर सहित चार जवान शहीद हो गए. वहीं सेना ने भी दो आतंकियों को मार गिराया है. इनमें से एक को पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड कामरान गाजी बताया जा रहा है. इसके साथ ही गाजी रशीद नाम के एक और आतंकी को ढेर कर दिया गया है. यह अफगान नागरिक था और IED विशेषज्ञ के तौर पर जाना जाता था.
यह एनकाउंटर पुलवामा आतंकी हमले वाली जगह से 10 किलोमीटर दूर हो रहा था. आधी रात को आतंकियों के पुलवामा के पिंगलान इलाके में मौजूद होने की जानकारी मिली थी, जिसके बाद सर्च ऑपरेशन जारी किया गया था. इसके बाद पुलिस ने पूरे इलाके को घेर लिया. आतंकियों के साथ सोमवार दोपहर तक मुठभेड़ जारी रही. बीच-बीच में फायरिंग होती रही.
इलाके में आतंकियों के मौजूद होने की सूचना मिलने के बाद सेना, पुलिस और सीआरपीएफ ने संयुक्त रूप से तलाशी अभियान शुरू किया था. इस दौरान सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया. तभी आतंकियों ने भारतीय सेना पर फायरिंग कर दी. इसके बाद दोनों तरफ से गोलीबारी शुरू हो गई. मुठभेड़ रात करीब साढ़े 12 बजे शुरू हुई और रात ढाई बजे तक रुक-रुक कर फायरिंग जारी रही. फिर सुबह फायरिंग रुक गई, लेकिन करीब 10 बजे दोबारा से फायरिंग शुरू हो गई.आतंकियों के साथ मुठभेड़ में जो जवान शहीद हुए हैं वह 55 राष्ट्रीय राइफल के हैं. शहीद होने वालों में मेजर वीएस ढौंडियाल, हवलदार श्योराम, सिपाही अजय कुमार और सिपाही हरि सिंह शामिल हैं. बताया जा रहा है कि उस इलाके में दो-तीन आतंकी छुपे हुए थे.

यह भी देखे:-

महंगाई बढ़ने की आशंका
मोबाईल फ़ोन होंगे महंगे, जीएसटी काउंसिल की बैठक में लिए गए अहम निर्णय, पढ़ें पूरी खबर
जम्मू बस स्टैंड पर ग्रेनेड हमला, 1 की मौत, 30 से ज्यादा घायल
स्कूल ऑफ बुद्धिस्ट स्टडीज एंड सिविलाइजेशन के संकाय सदस्यों का वियतनाम दौरा
समलैंगिकता और निजता का अधिकार , क्या कहता है कानून
सर्वदलीय बैठक मे दिखा मजबूत लोकतंत्र का चेहरा
पाकिस्तान की हिरासत में है वायुसेना का पायलट, भारत ने सुरक्षित लौटाने को कहा
POK में घुसकर जैश के कई ठिकानों को तबाह किया
Auto Expo 2020 में मंदी की परछाई, चाइना से भरपाई की उम्मीद
फरार हुआ सपा-बसपा उम्मीदवार, रेप का है आरोप
Triple Talaq Bill 2019: पढ़िए, तीन तलाक बिल से जुड़ी 10 बातें
पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का निधन
सुषमा स्वराज की यादें:अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से शुरू हुआ 1970 में राजनीतिक सफर
बजट 2019 : पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़े, जानिए क्या रहा ख़ास
जीएसटी काउंसिल की अहम बैठक, सस्ती हुई 33 वस्तुएं , पढ़ें पूरी खबर
भारत को दर्पण दिखाता कश्मीर की इतिहास, विद्रोह एवं घटनाक्रम