पाकिस्तानी सेना पर आत्मघाती हमले में 9 की मौत, 11 घायल

नई दिल्ली: पुलवामा आतंकी हमले के तीन दिन बाद बलूचिस्तान के पास पाकिस्तानी सेना के काफिले पर रविवार को आत्मघाती हमला हुआ, जिसमें कम से कम नौ सैन्यकर्मियों की मौत हो गई और 11 घायल हो गए.
द बलूचिस्तान पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, बलूचिस्तान लिबरेशन फ्रंट और बलूच रिपब्लिकन गार्ड्स ने तुरबत और पंजगुर के बीच हुए इस हमले की जिम्मेदारी ली है. यह हमला सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के पाकिस्तान पहुंचने से कुछ घंटे पहले ही हुआ है.
जम्मू-कश्मीर में आत्मघाती हमले के बाद उप-महाद्वीप में तनाव बढ़ गया है, जहां 20 वर्षीय एक युवक ने विस्फोटक से भरी एसयूवी को सीआरपीएफ के काफिले में घुसा दिया. इस आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे. पुलवामा में हुई आतंकवादी घटना के बाद ईरान और भारत ने साथ मिलकर पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा संदेश जारी किया था.सुषमा स्वराज अपने तीन देशों के दौरे पर बुल्गारिया जाते वक्त शनिवार को थोड़ी देर के लिए ईरान में रुकी थीं, जहां उन्होंने ईरान के उप विदेश मंत्री सैयद अब्बास अरागची से मुलाकात की थी. ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के कमांडर मेजर जनरल मोहम्मद अली जाफरी ने जिहादी ग्रुप जैश-अल-अद्ल की ओर इशारा करते हुए पाकिस्तानी सेना और आईएसआई पर आरोप लगाया कि ‘शरण देना और चुप रहना’ आतंकवादियों का समर्थन करने जैसा है.

यह भी देखे:-

WhatsApp पर कोई कर रहा है परेशान? तो इस Email-Id पर करें शिकायत
JNU Incident: वामपंथ के नकारात्मक विचारधारा का परिणाम :अनुराग त्यागी
COVID-19 : बिहार में कोरोना से हुई पहली मौत
"संकल्प से सिद्धि" होगा राष्ट्रीय युवा उत्सव का उद्धेश्य
पटना पायरेट्स ने गुजरात फ़ॉर्च्यून जाएंट्स को 39-33 से दी शिकस्त
पाकिस्तान की हिरासत में है वायुसेना का पायलट, भारत ने सुरक्षित लौटाने को कहा
COVID-19:भारत को करीब 22 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद देगा अमेरिका
सुप्रीम कोर्ट पहुंचा प्रद्युम्न का परिवार, सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा, केंद्र सरकार और CBI को भेजा न...
EMI में लोगों को मिलेगी राहत, RBI ने किए कई बड़े एलान, पढ़िए
Auto Expo 2020: Batrixx ई-बाइक सिंगल चार्ज पर चलती है 300 km
पाकिस्तानी हैकर्स ने किया साइबर अटैक, 100 से ज्यादा वेबसाइट हैक
रांची :" सड़क पर नहीं पढ़ेंगे नमाज" : मौलाना उबैदुल्लाह
मिथिलांचल को अलग राज्य का दर्जा दिलाना पहली प्राथमिकता: कृष्ण चंद्र झा
जानें कौन थीं विंग कमांडर अभिनंदन के साथ वाघा बॉर्डर पर दिखीं वह महिला
राम मंदिर सुनवाई:19 जनवरी 1885 से 2019 तक के न्यायालय का सफर आखिरी पड़ाव पर..
क्या कांग्रेस में है,वरुण गांधी के लिए बेहतर संभावना?