पुलवामा हमले की जांच में हुए कई नए खुलासे, ऐसे किया गया था आत्मघाती हमला

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले (Pulwama Attack) की शुरुआती जांच में कई नई चीजें सामने आईं हैं. विस्फोट में आरडीएक्स का इस्तेमाल हुआ. पहले कहा जा रहा था कि विस्फोटक की मात्रा करीब साढ़े तीन सौ किलो थी, मगर अब जांच में सामने आया है कि मात्रा करीब 60 किलो थी.ऐसा धमाका 2001 के बाद पहली बार कश्मीर में हुआ. 2001 में कश्मीर विधानसभा के गेट पर आईडी धमाका हुआ था, जिसमे करीब 30 लोग मारे गये थे.इस आईडी को किसी एक्सपर्ट ने तैयार किया था जो बहुत ही घातक था.इसका असर इतना था कि सीआरपीएफ जवानों से भरी बस के परखच्चे उड़ गए. बस जमीन से उछलकर 30 मीटर दूर जा गिरी और पीछे के मजबूत हिस्से के टुकड़े टुकड़े हो गए. वहीं एक जवान का शव 80 मीटर दूर जा गिरा. विस्फोटक की तीव्रता इतनी थी कि धमाके की आवाज कई किलोमीटर दूर तक सुनाई दी. विशेषज्ञ मान रहे हैं कि इस आतंकी हमले में जिस तरह मानव बम का इस्तेमाल हुआ है वो बहुत ही खतरनाक ट्रेंड है, इस तरह की चुनौती से निपटना आसान नहीं है.जो भी आतंकी मानव बम बना, उसका बहुत ब्रेनवॉश किया गया होगा. आशंका है कि इस बड़े हमले की योजना में और भी कई लोग शामिल हैं. संदिग्ध लोगों से पूछताछ जारी है.धमाके वाली जगह से एजेंसियों की जांच जारी है. आस पास के लोगों से पूछताछ और सीसीटीवी को भी खंगाला जा रहा है.हमले में जैश के आतंकी ही शामिल है और आशंका जताई जा रही है कि इसमें दूसरे आतंकी संगठनों ने मदद की हो.क्या हुए नए खुलासे
जिस कार से टक्कर मारी गई थी, वह एसयूवी नहीं एक कार थी, जिसमें विस्फोटक भरे हुए थे. सूत्रों से यह जानकारी मिली है. पहले कहा जा रहा था कि साढ़े तीन सौ किलो आरडीएक्स मौजूद था, उसकी मात्रा 60 किलो थी. तीसरी बात सामने आए कि सीआरपीएफ की को बाईं ओर से ओवरटेक कर विस्फोट किया गया.बता दें कि जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा (Pulwama Blast) में अवन्तीपुरा के गोरीपुरा इलाके में उस वक्त गुरुवार को हमला हुआ, जब सीआरपीएफ (CRPF) का काफिला गुजर रहा था.सीआरपीएफ काफिले पर हुए हमले में करीब 350 किलो IED (Improvised Explosive Device) का इस्तेमाल हुआ. आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) ने हमले की जिम्मेदारी ली और इसे आत्मघाती बताया. फिलहाल 42 जवानों के शहीद होने की आधिकारिक रूप से पुष्टि हुई है. रक्षा अधिकारी ने हताहतों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई है.उधर, पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) सहित कई राजनेताओं ने हमले की निंदा की है. रिपोर्ट के अनुसार उरी के बाद यह सबसे बड़ा आतंकी हमला है.. घायलों का श्रीनगर स्थित सेना के अस्‍पताल में इलाज चल रहा है. सीआरपीएफ (CRPF) के जवानों को ले जा रही बस को मुख्‍य रूप से निशाना बनाया गया था. हमले में कई अन्‍य वाहन भी क्षतिग्रस्‍त हुए हैं. सेना के एक अधिकारी ने बताया कि सीआरपीएफ जवानों को निशाना बनाकर किए गए आईईडी विस्फोट की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है. आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इसे आत्मघाती हमला बताया है. बता दें कि यह हमला श्रीनगर से सिर्फ 20 किलोमीटर की दूरी पर हुआ है. रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भामरे ने कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.

यह भी देखे:-

इनकम टैक्स रीटर्न (ITR) दाखिल करने की तारीख बढ़ी
बालाकोट IAF स्ट्राइक: आतंकी मारने गए थे या फिर पेड़ उखाड़ने - नवजोत सिंह सिद्धू
Happy New Year 2021: न्यूजीलैंड के ऑकलैंड में नए साल ने दी दस्तक, जमकर हुई आतिशबाजी
उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू, राज्य में होने वाली सभी परीक्षाएं रद्द
सीबीआई कोर्ट : गुरमीत राम रहीम ने करवाई थी पत्रकार की हत्या, क्या है पूरा मामला पढ़ें पूरी खबर
UNCCD COP14 का इंडिया एक्सपो मार्ट सेंटर ग्रेटर नोएडा में आगाज़
राज्‍यसभा में आज सिर्फ जम्‍मू-कश्‍मीर पर चर्चा होगी
Happy New Year 2019 ने दी New ZeaLand's AUCKLAND में दस्तक, आतिशबाजी के साथ हुआ जोरदार स्वागत
भारत और चीन अब कोई विकासशील देश नहीं रहे: ट्रंप
मंदी को लेकर वित्त मंत्री की प्रेस कांफ्रेंस, जानिए अहम बातें
COVID-19:सदमे में जर्मनी के मंत्री ने की खुदकुशी
मंगल ग्रह के करीब पहुंचकर UAE ने रचा इतिहास, अंतरिक्ष यान होप ने Mars की कक्षा में किया प्रवेश
अर्धसैनिक बलों के जवान अब हवाई जहाज से भी कर सकेंगे कश्मीर तक का सफर, सरकार ने दी मंजूरी
अखिलेश ने साधा निशाना 'भाजपा सांसद-विधायक जी के जूते के आचरण पर शर्मिंदा'
सुषमा स्वराज की यादें:अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से शुरू हुआ 1970 में राजनीतिक सफर
घंटी बजी , एक टैक्स, एक बाजार, एक देश, लागू हुआ GST