लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं शिवराज व रमन सिंह, इन सीटों से मिलेगा टिकट

नई दिल्ली : छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता रमन सिंह आगामी लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक, वह राजनांदगांव से चुनाव लड़ सकते हैं, जिसका प्रतिनिधित्व उनके बेटे अभिषेक सिंह करते हैं। सूत्रों ने कहा कि अभिषेक को किसी अन्य सीट से मैदान में उतारा जा सकता है।
रमन सिंह इससे पहले 1999 में राजनांदगांव से निर्वाचित हुए थे और दिवंगत नेता व पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री रहे थे।
ऐसी अटकलें हैं कि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज चौहान विदिशा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं, जिसका प्रतिनिधित्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज कर रही हैं। सुषमा ने अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की है। राजस्थान के साथ-साथ दोनों राज्यों के हालिया विधानसभा चुनावों में भाजपा को हार मिली थी।गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही भाजपा ने लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, रमन सिंह और वसुंधरा राजे को अपना उपाध्यक्ष नियुक्त किया था। इसके साथ ही भाजपा राज्यों के अपने तीन प्रभावशाली नेताओं को राष्ट्रीय राजनीति में ले आई।

यह भी देखे:-

आजादी से अब तक के कांग्रेस अध्यक्षों का सफर और अब नई सियासत की संभावना
दस हज़ार भीड़ के बीच दस लोगों को लटका दिया गया फांसी पर
पत्रकार हत्याकांड में राम रहीम को मिली कठोर सजा, पढ़ें पूरी खबर
साध्वी रेप केस मामले में डेरा सच्चा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दस साल की जेल
भारतीय रेलवे का बड़ा फैसला,31 साल पुराने सभी डीजल इंजन होंगे बंद
ग्रेटर नोएडा में IRF WORLD ROAD MEETING का शुभारंभ
सुरक्षाबलों ने पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड अब्दुल गाजी को घेरा, सेना के 4 जवान शहीद
आयकर विभाग की कार्यवाही, बसपा सुप्रीमो के भाई-भाभी की 400 करोड़ की संपत्ति जब्त
डिफॉल्टर आम्रपाली पर बैंकों और प्राधिकरण ने खूब की मेहरबानी
पूर्व सांसदों को 7 दिन में खाली करना होगा सरकारी बंगला
संसद सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, ट्रिपल तलाक बिल लटका
अर्धसैनिक बलों के जवान अब हवाई जहाज से भी कर सकेंगे कश्मीर तक का सफर, सरकार ने दी मंजूरी
सात चरणों में होगा लोकसभा 2019 का चुनाव, 23 मई को नतीजे होंगे घोषित
सीबीआई कोर्ट : गुरमीत राम रहीम ने करवाई थी पत्रकार की हत्या, क्या है पूरा मामला पढ़ें पूरी खबर
भीड़तंत्र में फाइव ट्रिलियन इकनॉमी सपना या हकीकत
सुषमा स्वराज ने बुलाई सर्वदलीय बैठक