क्या कांग्रेस में है,वरुण गांधी के लिए बेहतर संभावना?

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव 2019 से ठीक पहले सियासी हलचलों का दौर शुरू हो गया है. भारतीय जनता पार्टी के सांसद वरुण गांधी (Varun Gandhi) कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई है।गौरतलब है कि वरुण गांधी को लेकर अफवाहों का बाजार इसलिए भी गर्म है क्योंकि गांधी परिवार से एक और शख्स यानी प्रियंका गांधी का सक्रिय राजनीति में पदार्पण हुआ है. साथ ही पिछले कुछ समय से बीजेपी में भी वरुण गांधी काफी अलग-थलग चल रहे हैं. ऐसी खबरें हैं कि वरुण गांधी को बीजेपी में तरजीह नहीं दी जा रही है. इसकी बानगी पिछले साल विधानसभा चुनावों में भी देखने को मिला क्योंकि उन्होंने बीजेपी के लिए ताबड़तोड़ रैलियां भी नहीं की.
वरुण गांधी की सक्रियता से बीजेपी नाखुश?
देश के नंबर एक राजनीतिक परिवार से आया 40 साल से कम उम्र का एक राजनेता सिर्फ सुल्तानपुर का सांसद बनकर खुश रहे, यह बात भी कुछ कम अटपटी नहीं। जैसे संकेत मिल रहे हैं, उनके मुताबिक बीजेपी की ओर से उन्हें सुल्तानपुर का लोकसभा टिकट मिलना भी तय नहीं है। इस आशंका का एक पहलू बतौर सक्रिय बुद्धिजीवी और स्तंभकार वरुण गांधी की भूमिका से जुड़ा है, जिसे लेकर पार्टी कतई संतुष्ट नहीं है।
बीजेपी में किनारे किए जा चुके हैं वरुण
एक बात तय है कि वरुण गांधी अपने घोषित स्टैंड के मुताबिक सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के खिलाफ कभी कुछ नहीं बोलते तो बीजेपी के लिए उनकी कोई उपयोगिता नहीं है। वे दिन कब के जा चुके जब पार्टी के भीतरी दायरों में उन्हें यूपी के मुख्यमंत्री पद के लिए संभावित चार-पांच नामों में गिना जाता था। अभी तो वे सांसदों की वेतन वृद्धि के खिलाफ बयान देते हैं तो उनकी ही पार्टी की सांसद मीनाक्षी लेखी इसे गांधी-नेहरू परिवार के ‘अनाप-शनाप पैसे’ से जोड़ देती हैं।
कांग्रेस में है वरुण के लिए बेहतर संभावना
राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि वर्तमान समय में देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में जिस तरीके से अपनी जड़े मजबूत करना चाहती है उसके लिए उसे कोई युवा संघर्षशील चेहरा चाहिए जो अगर गांधी परिवार से संबंध रखता हूं तो और भी बेहतर होगा कांग्रेस पार्टी के लिए इसी संभावना के साथ यह भी देखा जा रहा है कि अगर वरुण गांधी कांग्रेस में शामिल होते हैं,तो आने वाले भविष्य में उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रमुख चेहरा होंगे!

यह भी देखे:-

उत्तर प्रदेश  में  मुख्य चिकित्सा अधिकारीयों  के तबादले 
आजादी से अब तक के कांग्रेस अध्यक्षों का सफर और अब नई सियासत की संभावना
उत्तर प्रदेश : निरीक्षक से पुलिस उपाधीक्षक पद पर इनका हुआ प्रोमोशन, देखें सूची
निकाय चुनाव का रोचक मुकाबला : इस सीट पर कांग्रेस-बीजेपी का मैच ड्रा, लकी ड्रा से हुआ फैसला
"अभिनंदन को रिसीव करने जाना मेरे लिए सम्मान की बात" - कैप्टन अमरिंदर
World toilet day: खुले में शौच करने वालों की संख्या करीब 89.2 करोड़
इन कारों की टोल टैक्स और पार्किंग भी होगी फ्री, GST काउंसिल का बड़ा फैसला
नोएडा और लखनऊ में डीसीपी की हुई तैनाती
"पद्मावती" से "पद्मावत" बनने के बावजूद है जारी है महा संग्राम
उत्तप्रदेश में आईएस/पीसीएस अधिकारियों के तबादले
अनुच्‍छेद 370 हटने पर भारत का कश्‍मीर से रिश्‍ता टूट जाएगा: कांग्रेस नेता
HANDICRAFT के 18 उत्पादों पर जीएसटी की दरों में कमी
5 साल में क्‍यों नहीं ला सके राफेल ? मायावती का BJP पर हमला
CYSS ने छात्रों के हित में उचित फैसला लेने का किया अपील
जनता कर्फ्यू के दिन ट्रेन सेवा बंद करने का फैसला
सांसद महेश शर्मा के वायरल वीडियो को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता ने साधा निशाना