क्या कांग्रेस में है,वरुण गांधी के लिए बेहतर संभावना?

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव 2019 से ठीक पहले सियासी हलचलों का दौर शुरू हो गया है. भारतीय जनता पार्टी के सांसद वरुण गांधी (Varun Gandhi) कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई है।गौरतलब है कि वरुण गांधी को लेकर अफवाहों का बाजार इसलिए भी गर्म है क्योंकि गांधी परिवार से एक और शख्स यानी प्रियंका गांधी का सक्रिय राजनीति में पदार्पण हुआ है. साथ ही पिछले कुछ समय से बीजेपी में भी वरुण गांधी काफी अलग-थलग चल रहे हैं. ऐसी खबरें हैं कि वरुण गांधी को बीजेपी में तरजीह नहीं दी जा रही है. इसकी बानगी पिछले साल विधानसभा चुनावों में भी देखने को मिला क्योंकि उन्होंने बीजेपी के लिए ताबड़तोड़ रैलियां भी नहीं की.
वरुण गांधी की सक्रियता से बीजेपी नाखुश?
देश के नंबर एक राजनीतिक परिवार से आया 40 साल से कम उम्र का एक राजनेता सिर्फ सुल्तानपुर का सांसद बनकर खुश रहे, यह बात भी कुछ कम अटपटी नहीं। जैसे संकेत मिल रहे हैं, उनके मुताबिक बीजेपी की ओर से उन्हें सुल्तानपुर का लोकसभा टिकट मिलना भी तय नहीं है। इस आशंका का एक पहलू बतौर सक्रिय बुद्धिजीवी और स्तंभकार वरुण गांधी की भूमिका से जुड़ा है, जिसे लेकर पार्टी कतई संतुष्ट नहीं है।
बीजेपी में किनारे किए जा चुके हैं वरुण
एक बात तय है कि वरुण गांधी अपने घोषित स्टैंड के मुताबिक सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के खिलाफ कभी कुछ नहीं बोलते तो बीजेपी के लिए उनकी कोई उपयोगिता नहीं है। वे दिन कब के जा चुके जब पार्टी के भीतरी दायरों में उन्हें यूपी के मुख्यमंत्री पद के लिए संभावित चार-पांच नामों में गिना जाता था। अभी तो वे सांसदों की वेतन वृद्धि के खिलाफ बयान देते हैं तो उनकी ही पार्टी की सांसद मीनाक्षी लेखी इसे गांधी-नेहरू परिवार के ‘अनाप-शनाप पैसे’ से जोड़ देती हैं।
कांग्रेस में है वरुण के लिए बेहतर संभावना
राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि वर्तमान समय में देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में जिस तरीके से अपनी जड़े मजबूत करना चाहती है उसके लिए उसे कोई युवा संघर्षशील चेहरा चाहिए जो अगर गांधी परिवार से संबंध रखता हूं तो और भी बेहतर होगा कांग्रेस पार्टी के लिए इसी संभावना के साथ यह भी देखा जा रहा है कि अगर वरुण गांधी कांग्रेस में शामिल होते हैं,तो आने वाले भविष्य में उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रमुख चेहरा होंगे!

यह भी देखे:-

एसटीएफ नोएडा के साथ एनकाउंटर में घायल हुआ खूंखार बावरिया, दो पुलिसकर्मी भी जख्मी
दुनियाभर में देखा गया साल का अंतिम सूर्य ग्रहण "‘रिंग ऑफ फायर" , पीएम मोदी ने साझा की तस्वीर
POK में घुसकर जैश के कई ठिकानों को तबाह किया
'एक राष्ट्र एक चुनाव' के मुद्दे पर नीतीश कुमार का बड़ा बयान
आजादी से अब तक के कांग्रेस अध्यक्षों का सफर और अब नई सियासत की संभावना
उत्तर प्रदेश में पुलिस उपाधीक्षकों का तबादला
तीन तलाक पर सुप्रीमकोर्ट का निर्णय, मुस्लिम महिलाओं के लिए स्वाभिमान पूर्ण एवं समानता के एक नए युग ...
उत्तर प्रदेश में आईपीएस अधिकारीयों के हुए तबादले
राज्यसभा चुनाव उत्तर प्रदेश : सुरेंद्र नागर का निर्विरोध निर्वाचन तय
धारा 370 निष्क्रिय:बौखलाया पाकिस्तान ने उठाए ये 7 कदम
अनुच्‍छेद 370 हटने पर भारत का कश्‍मीर से रिश्‍ता टूट जाएगा: कांग्रेस नेता
जल्द तलाशना होगा आर्थिक मोर्चे पर सफलता पाने का मंत्र
किसानों को बजट 2018में सरकार ने दिया ये सौगात
उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू, राज्य में होने वाली सभी परीक्षाएं रद्द
"Nigerian Attacked" के आरोपियों पर नाइजीरियन सरकार की सख्त कार्यवाही की मांग , भारतीय राजदूत तलब...
अदालत ने माना , बलात्कारी हा आसाराम