नोएडा को मिला देश का पहला राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान

नोएडा: आज सेक्टर-62, नोएडा में देश का पहला राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान का उद्घाटन श्रीप्रकाश जावडे़कर, मानव संसाधन विकास मंत्री, भारत सरकार, डाॅ. महेश शर्मा, संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), भारत सरकार, ने किया. इस मौके पर कुलाधिपति, राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान, डाॅ. बी.आर. मणि, महानिदेशक, राष्ट्रीय संग्रहालय एवं कुलपति, राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान, आलोक टंडन, अध्यक्ष/मुख्य कार्यपालक अधिकारी, नोएडा विकास प्राधिकरण, डाॅ. डी.एस. गंगवार, अपर सचिव एवं वित्त सलाहकार, संस्कृति मंत्रालय, श्री नवनीत कुमार, अपर महानिदेशक, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग, डाॅ. प्रद्युम्नकुमार शर्मा, कुलसचिव, राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान, संकाय सदस्य, गैर-शैक्षणिक सदस्य, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग के अभियंता एवं कर्मचारी, अतिथिगण एवं विद्यार्थियों एवं भारी जन समूह मौजूद रहा।

राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान को सोसाइटीज रजिस्ट्रेशन एक्ट, 1860 के अंतर्गत 27 जनवरी, 1989 को गठित एवं पंजीकृत किया गया। इसे 28 अप्रैल, 1989 को विश्वविद्यालयवत् का दर्जा प्रदान किया गया। यह संस्थान, अपनी स्थापना से अब तक, कला एवं सांस्कृतिक विरासत के क्षेत्र में प्रशिक्षण और अनुसंधान के लिए देश में एक अग्रणी केन्द्र रहा है। यह संस्थान राष्ट्रीय संग्रहालय परिसर के अन्दर स्थित है। इसका उद्देश्य छात्रों को कला और सांस्कृतिक विरासत की सर्वाेत्कृष्ट कृतियों के साथ सीधे तौर पर रूबरू कराना और समूचे शिक्षण के लिए राष्ट्रीय संग्रहालय की सुविधाओं, जैसे प्रयोगशाला, पुस्तकालय, भंडारण/आरक्षित संग्रहण तथा तकनीकी सहायक खंडों तक आसानी से पहुँचाना है।

यह संस्थान राष्ट्रीय संग्रहालय नई दिल्ली के परिसर में वर्ष 1989 में शुरू किया गया था तथा उससे अगले ही वर्ष 1990 से तीन पाठ्यक्रमों अर्थात कला इतिहास, संरक्षण एवं संग्रहालय विज्ञान में एम.ए. एवं पीएच.डी. डिग्री की शैक्षणिक गतिविधियों की शुरूआत की ये वे पाठ्यक्रम हैं जिनका हमारे महान देश की विरासत से निकट संबंध है। इसके अतिरिक्त नए पाठ्यक्रमों की भी शुरूआत होने जा रही है। ये पाठ्यक्रम हैंः- (प्) पुरातत्व शास्त्र (प्प्) संरचनात्मकसंरक्षण (प्प्प्) संस्कृति एव विरासत प्रबंधन (प्ट) पुरालेख, लिपि शास्त्र एवं मुद्रा शास्त्र।

संस्थान की शैक्षणिक गतिविधियाँ दर्शाती हैं कि यह संस्थान अध्ययन करने के लिए विशेषज्ञों के सृजन, संरक्षित करने और विरासत की विभिन्न प्रकार की धरोहरों को प्रदर्शित करने के लिए चाहे वे मूर्त हो या अमूर्त हो, हमारे देश का प्रमुख शोध केन्द्र है।

संस्थान आम जनता तथा कला प्रेमियों को देश की विरासत के बारे में परिचित कराने तथा ज्ञान के प्रसार के लिए प्रतिवर्ष 5 माह की अवधि के कला परिबोधन तथा भारतीय कला निधि (हिन्दी माध्यम) अल्प कालिक पाठ्य क्रम भी संचालित करता है। यह पाठ्यक्रम बहुत ही लोकप्रिय हंै।

अंत में संस्थान के कुलसचिव, डाॅ. प्रद्युम्न कुमार शर्मा ने मंच पर उपस्थित सभी मंचासीनों, संकाय सदस्य, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों, शोधार्थियों, छात्र/छात्राओं एवं संस्थान के कर्मियों एवं मीडिया का आभार प्रकट करते हुए बधाई दी।

यह भी देखे:-

कच्ची शराब पर प्रतिबंध के उद्देश्य से आबकारी विभाग का अभियान जारी
ग्रेटर नोएडा में बदमाशों ने दो जगह की लूट
समरस समाज के नेता थे डॉ़ भीमराव अम्बेडकर।
इन्फ़ोसिस कॅंपस प्लेसमेंट ड्राइव मे युनाइटेड ग्रूप ऑफ इन्स्टिट्यूशन्स के 155 छात्र हुए चयनित
ग्रेटर नोएडा से आरक्षण मुक्त भारत रैली की शुराआत, सैकड़ों लोग हुए शामिल
केंद्रीय कैबिनेट ने दी नोएडा -ग्रेनो मेट्रो कॉरिडोर परियोजना को मंजूरी
इन मेट्रो स्‍टेशन से मिलेंगे ऑटो एक्सपो के टिकट
THE HIGHWAY FASHION WEEK SEASON 4 में डिज़ाइनर दिखायेंगे प्रतिभा की झलक
स्थानीय युवाओं के रोजगार की मांग, नुक्कड़ सभा कर ग्रामीणों को किया जागरूक
शारदा अस्पताल में धूमधाम से मनाया गया डॉक्टर्स डे, मरीजों ने कराया फ्री स्वास्थ्य जांच 
बेटरड्रोन की टीम ने ड्रोन तकनीक और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के उपयोग से किया भवन निरीक्षण
पाॅश सोसाइटी में पथराव , घरेलू नौकरानी को बंधक बनाने का आरोप
पोलेथिन मुक्त भारत के लिए कार्यशाला का आयोजन
गवाहों को धमकाने आये सुन्दर भाटी गैंग के दो शार्प शूटर गिरफ्तार
16 जुलाई को 20 जिले के किसान करेंगे कलेक्ट्रेट पर महापंचायत
कार बैक करते हुए बच्ची कुचली , दर्दनाक मौत