एमिटी यूनिवर्सिटी ग्रेनो कैंपस में इनोवेशन इन साइंस इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी – मैनेजमेंट अंतराष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस

ग्रेटर नोएडा : एमिटी यूनिवर्सिटी ग्रेटर नोएडा कैंपस में आज अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस रीसेंट इनोवेशन इन साइंस इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी – मैनेजमेंट का आरम्भ हुआ। इस कॉन्फ्रेंस में साइंस, इंजीनियरिंग, टेक्नोलॉजी और मैनेजमेंट से सम्बंधित शोध पत्र प्रस्तुत किये गए । यह कॉन्फ्रेंस एमिटी स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के द्वारा कराई जा रही है। इस अवसर पर देश-विदेश के अनेकों शिक्षाविद, पूर्व वाइस चांसलर, शोधार्थी उपस्थित थे जिसमें ग्लाइकोल इंडिया लिमिटेड के प्रेजिडेंट एवं एपीजे टेक्निकल यूनिवर्सिटी के पूर्व वाईस चांसलर आर.के खाण्डाल, यूपी टेक्निकल इंस्टीट्यूशन फाउंडेशन के महासचिव एवं रेलवे बोर्ड के सदस्य डॉ.अतुल जैन मुख्य रहे ।

कार्यक्रम का शुभारम्भ एमिटी के ग्रुप वाईस चांसलर एवं महानिदेशक प्रोफेसर गुरिंदर सिंह ने अपने सम्बोधन से किया। उन्होंने सभी अतिथियों का अभिवादन करते हुए कांफ्रेंस में देश-विदेश से आकर सम्मिलित होने तथा अपना बहुमूल्य समय देने के लिए आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि छात्र किताबी ज्ञान के साथ अपनी तार्किक क्षमताओं का उपयोग करें तो खुद के विकास के साथ देश का उत्थान भी हो सकता है।

वाईस प्रेजिडेंट ए.के चौधरी ने कहा कि टेक्नोलॉजी में नित हो रहे बदलावों का अगर समाज में सदुपयोग किया जाये तथा शिक्षण कार्य में नयी तकनीकों का उपयोग किया जाये तो आज बेरोजगारी की समस्या दूर की जा सकती है। उन्होंने बताया की एमिटीए इंडस्ट्री और एजुकेशन के बीच की इस खाई को पाटने की दिशा में कार्य कर रहा है।

कांफ्रेंस के मुख्य अतिथि डॉ. अतुल जैन ने कहा कि वैज्ञानिकों और शोध संस्थाओं को लोगों की समस्याओं के समाधान से जुड़े लक्ष्य निर्धारित करने होंगे और उद्योगों को विज्ञान की ओर आकर्षित करना होगा। शोध को समाज की जरूरतों के मुताबिक भी ढालना मौजूदा वक्त की जरूरत है। पूर्व वाईस चांसलर आर के खाण्डाल ने कहा कि लक्ष्य का स्पष्ट निर्धारण ही सफलता की कुंजी है।

टेक्नोलॉजी में शोध कार्य का महत्व बताते हुए कहा कि शोधार्थी अपने शोध कार्य का लक्ष्य सामाजिक समस्याओं के समाधान के लिए निश्चित करें।

संस्थान के डीन ब्रिगेडियर एच एस धानी ने सभी अतिथियों का धन्यवाद करते हुए आह्वान किया कि ऐसे कॉन्फ्रेंस हमें इंडस्ट्री एवं शोध संस्थानों में चल रहे नए कार्यो से अवगत कराते हैंए सभी संस्थानों को ऐसे कॉन्फ्रेंस का आयोजन करना चाहिए। डीन ऐकडेमिक प्रोफेसर जेण् एसण् जस्सी ने कहा कि तकनीकी में शोध का बहुत ही महत्व हैए उन्होंने कहा की आज सभी क्षेत्रो में शोध की अत्यंत आवश्यकता है। इस कॉन्फ्रेंस में 100 से अधिक शोध पत्र प्रस्तुत किये गए।

इस अवसर पर मुख्य रूप से संस्थान केए डीन स्टूडेंट वेलफेयर एवं कॉन्फ्रेंस के सेक्रेटरी प्रोफेसर ऐ.के सिंह, डॉ. अनीश गुप्ता, डॉ. एम.एल आज़ाद, डॉ. विमल बिभु सैकड़ो शिक्षक एवं शोधार्थी उपस्थित रहे.

यह भी देखे:-

आईआईएमटी कॉलेज : बीजेएमसी के फ्रेशर पार्टी में शिवम बने मिस्टर तो आरिब मिस फ्रेशर
हरलाल संस्थान में 20 वाँ स्थापना दिवस समारोह का आयोजन
ITS DENTAL COLLEGE : विश्व ओरल एवं मैक्सिलोफेसियल सर्जन डे का आयोजन
मायावती के ड्रीम प्रोजेक्ट्स स्कूलों के अभिभावकों पर बढ़ा बोझ
'कोरस -19' का धमाकेदार आगाज़ आज, तैयारियों में डूबा विश्व विद्यालय परिसर
आईआईएमटी कॉलेज आफ लॉ में मूटकोर्ट प्रतियोगिता का आयोजन
कोरोना अपडेट : दक्षिण भारत से फैल रहा है नया कोरोना, कहिं लॉक डाउन तो नही लगने वाला, जानें कैसे
गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय में हुई स्वच्छता ही सेवा 2019 अभियान की शुरुआत
फिल्म "पीएम नरेंद्र मोदी" का प्रमोशन करने शारदा यूनिवर्सिटी पहुंचे अभिनेता विवेक ओबेरॉय
ऑनलाइन इनकम : घर बैठे कमा सकते है लाखों रुपये , 5 ट्रेंडिंग ऑनलाइन वर्क
कलक्ट्रेट पर धरने पर बैठे JRE के छात्र, प्रबंधन की आपसी खींचतान में सैकड़ों छात्रों का भविष्य अधर मे...
फोर्टिस में समय पर इलाज मिलने से 91-वर्षीय मरीज़ को अपनी रोज़मर्रा की गतिविधियों में आत्मनिर्भर होने...
डीपीएस स्कूल मैं फीस वृद्धि को लेकर अभिभावकों ने हंगामा किया
कक्षाएं बंद होने पर भड़के जेआरई के छात्र, गेट पर जड़ा ताला, एबीवीपी ने आंदोलन की दी चेतावनी
ग्रेटर नोएडा : सीबीएसई 12 वीं के नतीजे घोषित, जानिए किस स्कूल का क्या रहा परिणाम,कौन बना टॉपर
कपड़ों और कागज पर कम देर तक जिंदा रहता है कोरोना वायरस, IIT के वैज्ञानिकों के अनुसार जानें-कहां कितन...