आइआइएमटी कॉलेज में अटल जयंती पर कई कार्यक्रम आयोजित

ग्रेटर नोएडा : भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की 95वीं जयंती पर नॉलेज पार्क स्थित आईआईएमटी कॉलेज ऑफ इन्जीरनियरिंग में दो दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया । कार्यक्रम में मुख्यं रूप से कविता पाठ, वाद-विवाद, भाषण प्रतियोगिता, एवं उनके जीवन पर प्रकाश डाला गया । आईआईएमटी कॉलेज समूह के प्रबंध निदेशक मयंक अग्रवाल ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी केवल एक नाम और व्यक्तित्व नहीं हैं बल्कि संपूर्ण भारतीय संस्कृति एवं परंपरा के प्रतिनिधि भी हैं। भारत को परमाणु शक्ति संपन्न देश बनाने में उनका योगदान सराहनीय है।

आईआईएमटी कॉलेज ऑफ इन्जीरनियरिंग के निदेशक डॉ के के सैनी ने कहा की अटल जी ने लोकतंत्र का सही मतलब समझाया । शासन किस तरह किया जाय वास्त व में यह उन्हों ने ही कर के दिखया । उन्होंसने अपने जीवन का हर क्षण देश को समर्पित कर दिया, वर्तमान में ऐसे राजनेता विरले हैं ।

डॉ कैलाश नाथ चौबे ने – जीवन को शत-शत आहुति में,जलना होगा, गलना होगा.क़दम मिलाकर चलना होगा कविता का पाठ किया । डॉ देवराज तिवारी ने- अपनी ही छाया से बैर,गले लगने लगे हैं ग़ैर,ख़ुदकुशी का रास्ता, तुम्हें वतन का वास्ता.बात बनाएं, बिगड़ गई.दूध में दरार पड़ गई कविता का पाठ किया। प्रोफेसर जितेन्द्रत सिघल ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जीवनी पर प्रकाश डाला।

इस अवसर पर जरूरतमंदो को कम्बल, कपड़े आदि दान किये गये । सभी लाभार्थी कम्बल और कपड़े आदि पाकर बहुत खुश थे। आईआईएमटी कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट के निदेशक डॉ राहुल गोयल ने कहा कि कोई व्यक्ति छोटा नहीं होता बस उसमें दान देने की इच्छा होनी चाहिए।
कार्यक्रम का संचालन डॉ राम अवतार वत्स ने किया । अन्त् में डॉ संजय पचौरी ने अटल जी के कार्यो पर प्रकाश डाला और धन्यवाद ज्ञापित करते हुए सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया।

यह भी देखे:-

SUMMER CAMP - MASTI TIME AT RYAN GREATER NOIDA
शारदा विश्वविद्यालय : स्कूल ऑफ़ मेडिकल साइंस में ओरिएंटेशन प्रोग्राम आयोजित
गलगोटियास विश्वविद्यालय में मनाया गया चौथा दीक्षांत समारोह
गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय में ऑनलाइन फैकल्टी डेवलपमेन्ट प्रोग्राम का आयोजन  
GNIOT में नोटबंदी के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था पर होगा अन्तराष्ट्रीय सेमिनार
ITS DENTAL COLLEGE : विश्व ओरल एवं मैक्सिलोफेसियल सर्जन डे का आयोजन
जीबीयू की प्रबंध बैठक का शिक्षकों ने किया विरोध 
रामईश फार्मेसी संस्थान: “21वीं सदी में फार्मेसी शिक्षण पद्धति में क्रन्तिकारी परिवर्तन” विषय पर सेम...
जी. एल. बजाज में छात्रों को मेंटल फिटनेस के प्रति किया गया जागरूक
आज ही के दिन 1921 में रखी गई थी इंडिया गेट की नींव, 1931 में बनकर तैयार हुआ था
शारदा विश्वविद्यालय में दंत पर्यटन पर भारत की पहली कार्यशाला
आईआईएमटी कॉलेज में एफडीपी, चाणक्य की भांति हो शिक्षकों की कार्यशैली - जस्टिस आर.बी. मिश्र
आइआइएमटी कॉलेज में आरटीआई की संभावनाएं एवं चुनौतियां विषय पर विचार गोष्‍ठी
शिव नादर यूनिवर्सिटी में मच्छर लारवा पाए जाने पर लगाया जुर्माना
आईटीएस इन्जीनियरिंग काॅलेज में संकाय विकास कार्यक्रम का समापन
सिटी हार्ट अकादमी में हर्षोल्लास से मनाया गया लोहड़ी पर्व