नोएडा -ग्रेटर नोएडा : बंगाली महिलाओं ने सिंदूर खेला के साथ मां दुर्गा को दी विदाई

नोएडा/ग्रेटर नोएडा : शुक्रवार को पूरा शहर दुर्गा पूजा और विजयदशमी के जश्न में डूबा रहा। पंडालों में सिंदूर खेला की धूम रही और मां दुर्गा को विदा देकर प्रतिमा विसर्जन किया गया। इस परंपरा के दौरान नोएडा और ग्रेटर नोएडा में कोलकाता जैसा नजारा देखने को मिला। सुबह बड़ी संख्या में भक्त माँ दुर्गा का दर्शन करने नोएडा सेक्टर 26 स्थित काली बाड़ी और ग्रेटर नोएडा के सेक्टर – पाई स्थित कालीबाड़ी पहुंचे।
SINDUR KHELA IN NOIDA AND GREATER NOIDA
दशमी के दिन बंगाली समाज की विवाहित महिलांओं ने सबसे पहले दुर्गा मां को सिंदूर लगाकर पूजा अर्चना की फिर एक दूसरे को सिंदूर लगाया। ग्रेटर नोएडा शारदीय सांस्कृतिक समिति की अदस्य स्वरूपा चटर्जी ने बताया इसे सिंदूर खेला कहते हैं। खासतौर से बंगाली समाज में इसका बहुत महत्व है। इस दौरान महिलाओं ने जमकर जश्न मनाया। एक दूसरे को सिंदूर लगाकर विजयादशमी की बधाई दी और मां के सामने नाच-गाकर अपने सुहाग की रक्षा के लिए आशीर्वाद भी मांगा।

SINDUR KHELA IN NOIDA AND GREATER NOIDA

SINDUR KHELA IN NOIDA AND GREATER NOIDA

यह भी देखे:-

बदमाशों ने की आॅटो रिक्शा चालक से लूटपाट
AUTO EXPO 2018 : पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद अजहरुद्दीन ने AFTEK के 'SCORPION' को किया लॉन्च
रिटायर्ड एवं स्थानांतरित अधिकारी जल्दी करें सरकारी आवास खाली
महात्मा गांधी की जयंती मनाई
गरीब व जरूरतमंदों को शिक्षित करना राष्ट्र की सबसे बडी सेवा है : धीरेन्द्र सिंह
पंजाब में बड़ा रेल हादसा , रावण दहन देख रहे 50 से ज्यादा लोग ट्रेन से कटे , मौत
देखें VIDEO, जारचा SHO ने दिखाई बहादुरी, बंधक बनी माँ-बेटी को सिरफिरे के चंगुल से छुड़ाया
पुलवामा हमला : भीख मांगकर जुटाए 6 लाख कर दिए शहीदों के नाम
सुन्दर भाटी गैंग के गुर्गे के खिलाफ रासुका , दस के खिलाफ गैंगस्टर
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में ईको कार्ट प्रतियोगिता, प्रतिभागियों ने अपने वाहनों का किया प्रदर्शन
ग्रेटर नोएडा के बच्चों ने स्केटिंग में बनाया अनूठा रिकॉर्ड
रायन बना अंगूरी देवी मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेन्ट अंडर-12 व 19 का विजेता
प्रेमी के साथ मिलकर कराई पति की हत्या
गो वे कम्पनी के खिलाफ दूसरा मुकदमा दर्ज
आईएफजेएएस 2019 , 145 करोड़ रुपये की बिजनेस पूछताछ के साथ हुआ समापन
ग्रामीण विकास समिति के बैनर तले चल रहे आंदोलन को वृन्दाकरात का समर्थन