एनसीआरटी पर किट्स की ई टेंडरिंग के घोटाले का आरोप

ग्रेटर नोएडा : एनसीआरटी की किट्स की ई टेंडरिंग को लेकर एक बड़ा घोटाला सामने आने की बात आ रही है . आरोप लग रहा है नियमों को ताक पर रखकर एनसीआरटी की किट्स की ई टेंडरिंग एनसीईआरटी के उच्च अधिकारीयों की मिलीभगत से गुजरात की कुछ निजी कंपनियों को टेंडर दिए गए. कहा जा रहा है जिन कंपनियों के पास एनसीआरटी किट्स का टेंडर दिया गया है वह कंपनियां ई टेंडर के लिए एलिजिबल ही नहीं है. कंपनियो को निजी फायदे के लिए टेंडर दिए गए है. कहा यहाँ तक जा रहा है इन 4 कंपनियो को एनसीआरटी के काम का कोई तजुर्बा तक नही है. सूत्रों की माने ये सभी कम्पनियां फर्नीचर का काम करती है.

आपको बता दें एनसीआरटी किट्स की ई टेंडरिंग 2016 में हुई थी जिसमें पहले से एलिजिबल कंपनियां काम कर रही थी. लेकिन 2016 में अचानक गुजरात की कुछ कंपनियों को निजी फायदा पहुंचाने के चक्कर में एनसीआरटी के उच्च पद पर आसीन अधिकारी और निचे के अधिकारीयों की मिलीभगत से ई टेंडर गलत तरीके से और नियमों को ताक पर रखकर गुजरात की चार कंपनियों को दे दिया गया . आरोप लगाये जा रहे हैं जिन कंपनियों को एनसीआरटी का टेंडर्ड दिया गया कंपनियां एनसीआरटी के टेंडर्स को लेने के लिए एलिजिबल ही नहीं है. बावजूद उसके अधिकारियों की मिलीभगत से ई टेंडर गुजरात की 4 कंपनियों को दे दिया गया.

इधर इस पूरे मामले में एलिजिबल कंपनियों द्वारा एचआरडी मिनिस्ट्री , पीएमओ, सीबीआई सहित कई जगह शिकायत की गई लेकिन इस पूरे मामले पर कोई भी कार्यवाही नहीं हुई. हालांकि खाना पूर्ति के लिए इस पूरे मामले पर विजिलेंस की जांच चल जरूर रही है लेकिन कार्यवाही के नाम पर कुछ भी नही किया गया.

3 अगस्त 2018 को फिर से टेंडर की डेट आई लेकिन इस बार भी एनसीईआरटी में भ्रष्टाचार चरम पर दिखा. गुजरात की उन्हीं कथित चार कंपनियों को पहले से दिए गए टेंडर को एक्सटेंड कर दिया गया. जबकि नियम के मुताबिक टेंडर को एक्सटेंड नहीं किया जा सकता. निजी फायदे के लिए यह टेंडर एक बार फिर उन कंपनियों के हाथ में दिया गया जिन कंपनियों ने कभी एनसीईआरटी का काम किया ही नहीं था. इस पूरे मामले में कई लोगों के द्वारा शिकायतें की गई लेकिन कार्रवाई के नाम पर कुछ भी नहीं किया गया. एनसीईआरटी में चल रहे इस भ्रष्टाचार के लिए एक आरटीआई भी लगाई गई और यह पूछा गया कि आपके पास इस तरह के कितनी शिकायतें आई हैं तो पहले कई आरटीआई का जवाब ही नहीं आया और जिस आरटीआई का जवाब आया उसमें यह लिखा हुआ आया है कि हमें खुद नहीं पता कि हमारे पास कितनी शिकायतें आई है. इस पूरे मामले पर विजिलेंस की जांच चल जरूर रही है लेकिन जांच के नाम पर कुछ नही हुआ. बड़ा सवाल यह उठता है कि आखिर कैसे एनसीईआरटी में भ्रष्टाचार चरम पर है? आखिर कैसे कुछ निजी कंपनियों को फायदे के लिए नियमों को ताक पर रख कर टेंडर्स दिए जा रहे हैं ? आखिर क्यों ऐसा सरकार एनसीआरटी में चल रहे भ्रष्टाचार को लेकर कोई कार्रवाई नहीं कर रही है? आखिर कैसे उन कंपनियों को टेंडर्स दिए जा रहे हैं जो कंपनियां एनसीईआरटी के दिए जा रहे काम को लेकर एलिजिबल ही नहीं है ?

यह भी देखे:-

डीएम बी.एन. सिंह ने बीएसएनएल -वायरलेस ब्रांड सेवा का किया शुभारम्भ
ग्रामों के विकास से देश सम्पूर्णता की ओर तेजी से अग्रसर होगा : धीरेन्द्र सिंह
अब सीधे चुनाव प्रेक्षक से कर सकते हैं शिकायत, जानिए कैसे
ऑटो एक्सपो देखने के चक्कर में 13 युवक पहुँच गए हवालात
बिल्डर गया जेल , बायर्स ने लड्डू बांटकर मनाई ख़ुशी , नेफोमा ने सुप्रीम कौर्ट के फैसले का किया स्वागत
ग्रेटर नोएडा की गड्ढा युक्त सड़कों को गड्ढा मुक्त तत्काल किया जाए: चौ.प्रवीण भारतीय
श्री राम मित्र मंडल नोएडा रामलीला : आकाश मार्ग द्वारा लंका दहन द्वारा 150 फुट की उँचाई से सजीव चित्...
समरस समाज के नेता थे डॉ़ भीमराव अम्बेडकर।
शारदा विश्विद्यालय में वन महोत्सव का आयोजन
डीएम बी.एन. सिंह ने जनता से की वृक्षारोपण की अपील  
जो नदियों का पानी पाकिस्तान जाता था, प्रोजेक्‍ट बनाकर उनको यमुना में लाएंगे: नितिन गडकरी
ग्रेटर नोएडा वेस्ट रामलीला : रावण दहन कर दिया गया बुराई पर अच्छाई की जीत का सन्देश
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की 112 वीं बोर्ड , बजट का हुआ निर्धारण
यमुना एक्सप्रेस वे पर भीषण हादसा, ताजमहल देखने जा रहे स्कूली बच्चों से भरी बस पलटी , एक की मौत कई घ...
ग्रेटर नोएडा : आज से भारतीय नवर्ष "उमंग मेला" शुरू
शहीद भगत सिंह के बताये रास्ते पर चले युवाः देवेंद्र गुर्जर