लॉयड लॉ कॉलेज के छात्रों के द्वारा दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट की सहमति , राष्ट्रीय महत्व के मुद्दे की सुनवाई का होगा

ग्रेटर नॉएडा के लॉयड लॉ कॉलेज के लॉ के तीन छात्रों- आयुष प्रकाश ,अमन शेखर,बायरन सेकुरिआ, ने सुप्रीम कोर्ट में “राष्ट्रीय महत्व के विषयों में अदालत की सुनवाई के लाइव प्रसारण’ विषय पर याचिका दायर की थी जिसका फैसला आज आया है जिसमे सुप्रीम कोर्ट ने अपनी सहमति दे दी है .यह ग्रेटर नॉएडा के लिए गौरव की बात है. छात्र काफी लम्बे समय से ये लड़ाई लड़ रहे थे .इससे लॉ के छात्रों को लाभ होंगे ही साथ में आम जनता को भी इससे लाभ मिलेंगे .इससे छात्रों को बहोत कुछ सीखने को मिलेगा.वे बड़े वकीलों द्वारा लडे जा रहे मामलों से वकालत के कौशल , व्यवहारिकता ,केस के प्रस्तुतीकरण की कला , आदि को बारीकी से सीख सकते हैं .इससे मामलों की पारदर्शिता को भी बढ़ावा मिलेगा.इस आदेश से लॉ छात्रों की अध्ययन और प्रशिक्षण के क्षेत्र में और भी नियम बन सकते हैं.

सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच ने मंजूरी दे दी है. न्यायालय ने कहा है कि संविधान के अनुच्छेद 145 के तहत लाइव स्ट्रीमिंग के नियम-कानून बनाए जाएं.

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली तीन जजों के बेंच में जस्टिस ए एम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ शामिल थें. तीनों जजों ने सर्वसम्मति से कहा कि लाइव प्रसारण से पारदर्शिता आएगी और यह लोकहित में होगा. शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में कहा, ‘इसे सुप्रीम कोर्ट से शुरू किया जाएगा पर इसके लिए कुछ नियमों का पालन किया जाएगा.इस दौरान जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि हम खुली अदालत को लागू कर रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट की तरफ से इस मामले में केंद्र सरकार से जवाब मांगे जाने पर अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कोर्ट दिशा-निर्देश दाखिल किए थें.

-जिसके मुताबिक लाइव स्ट्रीमिंग पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर चीफ जस्टिस की कोर्ट से शुरू हो.

– संवैधानिक मुद्दे और राष्ट्रीय महत्व के मुद्दे शामिल हों.
– वैवाहिक विवाद, नाबालिगों से जुड़े मामले, राष्ट्रीय सुरक्षा और साम्प्रदायिक सौहार्द से जुड़े मामलों की लाइव स्ट्रीमिंग न हो.

– लाइव स्ट्रीमिंग के लिए एक मीडिया रूम बनाया जा सकता है जिसे लिटिगेंट, पत्रकार और वकील इस्तेमाल कर सकें. जिससे कोर्ट रूम की भीड़ भाड़ कम होगी.



Dr Md. Salim ,Director ,lloyd law college,greater noidaहम छात्रों को पढाई के साथ साथ लॉ से सम्बंधित अन्य गतिविधियों एवं लॉ के अध्ययन के व्यावहारिक पक्ष पर विशेष ध्यान देते हैं.हमारा पूरा ध्यान लॉ के किताबी ज्ञान के साथ व्यावहारिक ज्ञान को सीखने में भी रहता है.छात्र कोर्ट रूम में जा कर कोर्ट की कार्यवाही को गहनता से देखकर ज्यादा से ज्यादा सीखे और जनता एवं समाज की भलाई के लिए काम करे .लॉयड लॉ कॉलेज के छात्रों द्वारा ही दिल्ली हाई कोर्ट में भी याचिका दायर की गई है जिसमे फैसला आने वाला है . याचिका का विषय दिल्ली की झुग्गियों में शौचालय निर्माण एवं स्वच्छता का इंतजाम किये जाने से सम्बंधित है .आगे भी हमारे छात्र जनकल्याण के लिए कार्य करते रहेंगे.” — Dr Md. Salim ,Director ,lloyd law college,greater noida

यह भी देखे:-

अदालत ने माना , बलात्कारी हा आसाराम
संसद सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, ट्रिपल तलाक बिल लटका
धारा 370 हटाने के बाद उम्मीद की किरण बने अमित शाह
Auto Expo 2020 में मंदी की परछाई, चाइना से भरपाई की उम्मीद
जानें कौन थीं विंग कमांडर अभिनंदन के साथ वाघा बॉर्डर पर दिखीं वह महिला
बजट 2018 : WIFI के लिए सरकार ने की घोषणा
Women's Day: जानिए क्यों मनाया जाता है महिला दिवस?
HANDICRAFT के 18 उत्पादों पर जीएसटी की दरों में कमी
राजस्थान : गुर्जर समेत 5 जातियों को 5% आरक्षण का बिल विधानसभा में पेश
ग्रेटर नोएडा में IRF WORLD ROAD MEETING का शुभारंभ
नहीं रहे भारत के मशहूर वैज्ञानिक प्रो. यशपाल
राफेल सौदे पर सुप्रीम कोर्ट से केंद्र सरकार को बड़ा झटका
लॉयड्स ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट्स में वार्षिकोत्सव संपन्न हुआ
नवजोत सिंह सिद्धू के समर्थन में उतरे कपिल शर्मा
दूरदर्शन की जानी-मानी एंकर नीलम शर्मा का निधन
लायड लॉ कालेज में बोले जस्टिस कूरियन जोसफ: " राष्ट्र को आगे वढाने के लिए लॉ क्षेत्र के व्यक्तियों क...