पी.सी. गुप्ता के राज अब खोलेगी सीबीआई, करीबियों की बढ़ी धड़कन

ग्रेटर नोएडा/ लखनऊ: यमुना प्राधिकरण जमीन घोटाले की जांच अब सीबीआई करेगी. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने 126 करोड़ के इस घोटाले की जांच सीबीआई से कराने की संस्तुति कर दी है . बता दें घोटाले के आरोप में रिटायर्ड आईएएस व यमुना प्राधिकरण के पूर्व सीईओ पी.सी. गुप्ता अभी जेल में बंद है .

गिरफ्तारी के बाद गुप्ता ने पुलिस के समक्ष घोटाले में शामिल कुछ सफेदपोश व अधिकारीयों के नाम खोले थे . पुलिस ने 21 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था लेकिन इनमे से एक की भी गिरफ्तारी नहीं कर पायी. उत्तर प्रदेश पुलिस के नाकामी के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने अब इस घोटाले के जांच की सिफारिश सीबीआई से कर दी है . ये भी खबर आ रही थी आरोपियों की लिस्ट में कई सफेदपोश और आला अधिकारी के नाम है जिनकी जांच पुलिस कर रही थी . कहीं न कहीं वो भी जांच को प्रभावित कर रहे थे . कहीं न कहीं जांच भी ठंडा पड़ता दिख रहा था.

इधर जांच सीबीआई के हाथ में जाने के बाद पी.सी गुप्ता के करीबियों व जो भी इस घोटाले से जुड़ा है उनकी धड़कने तेज हो गई है. सरकार के इस फैसले ने जाहिर कर दिया है वो भी कड़ी कार्यवाही करने के मूड में है .

यह भी देखे:-

देश में मोदी-शाह की जोड़ी के मैजिक के बाद भी राज्यों में सिकुड़ते साम्राज्य को बचाना भाजपा के सामने बड़...
नहर में डूबा युवक
डिजिटल इंडिया को चुनौती देता ग्रेनो प्राधिकरण
BREAKING : पचास हज़ार का इनामी बिल्डर गिरफ्तार
ऐतिहासिक बाराही मेला: जोंटी जमालपुर और आकाश जमालपुर ने जीतीं 11-11 हज़ार की कुश्तियां
ग्रेटर नोएडा : कपड़ा राज्य मंत्री अजय टमटा ने हस्तशिल्प मेला का किया दौरा
डीडीआरडब्लूए मेधावी छात्रों व अच्छे आरडब्लूए को करेगा सम्मानित
ग्रेटर नोएडा: भारतीय नववर्ष स्वागत उत्सव का शुभारंभ
गौतमबुध नगर : लापरवाही बरतने पर थाना प्रभारी लाइन हाज़िर
जीबीयू में गांधी दर्शन केन्द्र का हुआ उद्घाटन
ग्रेटर नोएडा वेस्ट की समस्याओं को लेकर नेफोमा टीम ने की प्राधिकरण के सीईओ से मुलाकात
श्री रामलीला साईट - 4 : लक्ष्मण के मूर्छित देख रोये प्रभु राम
स्थानीय युवाओं को रोजगार मुद्दे पर किसानों को मिला किरोड़ी सिंह बैसला का समर्थन
विश्व आत्महत्या बचाव दिवस जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन
दादरी में शांति समिति की बैठक में अधिकारीयों ने की अपील, सौहार्दपूर्ण वातावरण में मनाये ईद
हैप्पी क्लब ने दिहाड़ी मजदूरों में वितरित किये खाद्य सामग्री