स्थापना दिवस पर यमुना प्राधिकरण को तोहफा, जेवर एयरपोर्ट को मिली सैद्धान्तिक मंजूरी

ग्रेटर नोएडा/ नई दिल्ली : जेवर में बनने वाले नोएडा ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट का निर्माण कार्य अक्टूबर माह से शुरू हो जाएगा. एयरपोर्ट को नागर विमानन मंत्रालय से हरी झंडी मिल गई है. क्षेत्रीय सांसद डॉ. महेश शर्मा के पर्यावरण मंत्रालय की अनुमति की औपचारिकता मात्र शेष रह गई है. जुलाई के प्रथम सप्ताह तक पर्यावरण मंत्रालय की अनुमति मिलते ही एयरपोर्ट के निर्माण की गति तेज हो जाएगी. यमुना विकास प्राधिकरण के अधिकारियों का दावा है कि अक्टूबर माह में एयरपोर्ट का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे. कल दिल्ली में नागरिक उड्डयन विभाग के सचिव की अध्यक्षता में बैठक हुई. एक घंटे तक चली बैठक में जेवर एयरपोर्ट को सैद्धांतिक मंजूरी प्रदान कर दी गई इस बैठक में उत्तर प्रदेश सरकार के विभाग के प्रमुख सचिव एस.पी गोयल, यमुना प्राधिकरण के अध्यक्ष डा. प्रभात कुमार , सीईओ अरुणवीर सिंह और ओएसडी शैलेंद्र भाटिया समेत तमाम वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे. मंत्रालय की मंजूरी के बाद एयरपोर्ट का बनना तय हो गया है .

यहां यह तथ्य विशेष रूप से उल्लेखनीय है कि क्षेत्रीय सांसद डॉ. महेश शर्मा खुद ही पर्यावरण मंत्रालय में मंत्री हैं. उनके मंत्री रहते वहां एयरपोर्ट की अनुमति में देरी होने का कोई कारण नजर नहीं आता है. यमुना प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉक्टर अरुण वीर सिंह ने बताया कि पर्यावरण मंत्रालय में पूरी तैयारी के साथ शीघ्र ही आवेदन किया जाएगा . उम्मीद है कि जुलाई के प्रथम सप्ताह तक पर्यावरण मंत्रालय से अनुमति प्राप्त हो जाएगी. तत्पश्चात ग्लोबल टेंडर की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. सीईओ ने दावा किया कि अक्टूबर महीने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कर कमलों से एयरपोर्ट का शिलान्यास करा कर निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि यह देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा.

इसी एयरपोर्ट को 5 हज़ार हेक्टेयर भूमि पर स्थापित किया जाएगा. एयरपोर्ट के लिए जमीन अधिग्रहण का कार्य पर लगभग 4 हज़ार करोड़ का खर्चा आएगा. फेसवार बनने वाली इस एयरपोर्ट के प्रथम चरण के लिए 1327 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी. इस जमीन के अधिग्रहण के लिए जिला प्रशासन को पहले ही सूचित किया जा चुका है. शीघ्र ही जमीन के अधिग्रहण का कार्य शुरु हो जाएगा. एयरपोर्ट का निर्माण पीपीपी (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल) पर किया जाएगा.र जेवर एयरपोर्ट बन जाने के बाद यमुना प्राधिकरण क्षेत्र के विकास को नए पंख लग जाएंगे. क्षेत्र में विकास की तमाम संभावनाओं को देखते हुए अभी से देशी व विदेशी कंपनियों ने व्यापक रुचि दिखानी शुरू कर दी है. जेवर एयरपोर्ट से अंतरराष्ट्रीय व्यापार बढ़ने की अपार संभावनाएं हैं . यहां अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के साथ ही कार्गो पायलट ट्रेनिंग सेंटर बनेगा. यहां से जुड़ी हुई अनेक व्यवसायिक गतिविधियां भी स्थापित होगी. इसमें औद्योगिक एवं व्यापारिक गतिविधियां तो बढ़ेगी ही साथ ही रोजगार के व्यापक अवसर पैदा होने की व्यापक संभावनाएं जताई जा रही हैं. आर्थिक जगत से जुड़े हुए लोगों का मत है कि निकट भविष्य में यमुना प्राधिकरण क्षेत्र यमुना सिटी देश का सर्वाधिक आकर्षक शहर बन जाएगा.

यह भी देखे:-

ग्रेनो के स्थापना दिवस पर शारदा विश्वविद्यालय में टेकफेस्ट का आयोजन
आज नोएडा - ग्रेटर नोएडा पहुंचेगा भारत रत्न पूर्व पीएम अटल जी का अस्थि कलश
केंद्र सरकार का वादा झूठ का पुलिंदा : वीरेंद्र डाढा
कंपनी में लगी आग में मजदूर की जलने से मौत
20 साल बाद अमावस्या और नवरात्र एक दिन में , जानिए पूजा के श्रेष्ठ मुहूर्त
केंद्रीय कैबिनेट ने दी नोएडा -ग्रेनो मेट्रो कॉरिडोर परियोजना को मंजूरी
भारतीय नववर्ष मेला “उमंग” का आगाज़
तहसील संपूर्ण समाधान दिवस, 167 शिकायतें दर्ज
ग्रेटर नोएडा : दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा फार्मा एक्सपो CPhI & P-MEC इंडिया एक्सपो का आयोजन
श्री आदर्श रामलीला सूरजपुर : रावण ने छल से किया सीता हरण
चुनाव के मद्देनजर पुलिस ने अर्धसैनिक बल के साथ किया फ्लैग मार्च
Mother Sparsh Brings a New Unique Product Tummy Roll On
मॉल के तीसरे मंजिल से युवती ने कूद कर दी जान
मतगणना से पहले गृह मंत्रालय ने जारी किया ये अलर्ट, पढ़ें पूरी खबर
शारदा विश्वविद्यालय में आयोजित "कोरस-2019 " का हुआ समापन
ग्रेटर नोएडा में ABVP ने ममता बनर्जी का फूंका पुतला