चारा घोटाला के चौथे के में लालू दोषी करार, आरजेडी ने बताया “नरेन्द्र मोदी का खेल … “

बिहार : राज्य के पूर्व सीएम और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले के एक और के में दोषी करार दिया गया है. यह उनका चौथा केस है जो दुमका कोषागार से जुड़ा हुआ है . आज रांची में सीबीआई की विशेष अदालत ने लालू प्रसाद यादव समेत 19 आरोपियों को दोषी करार दिया. जबकि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा समेत 12 आरोपियों को बरी कर दिया गया. इधर दोषी करार देने के बाद आरजेडी ने इसे राजनैतिक साजिश करार दिया है . आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा “नरेन्द्र मोदी और नितीश का मेल, अजब है खेल, दुबारा से हो गया जगन्नाथ मिश्र रिहा और लालू यादव को जेल. एक आदमी को जेल एक आदमी को बेल,ये है नरेन्द्र मोदी का खेल .

कोर्ट ने लालू प्रसाद यादव को को पेश होने के लिए कहा था. जबतक वो जेल से कोर्ट पहुँचते उससे पहले ही उनके खिलाफ निर्णय आ गया. हालांकि, अभी तक कोर्ट ने उनकी सजा का ऐलान नहीं किया है. कोर्ट से लालू फिर अस्पताल चले गए हैं, जहां तबीयत खराब होने के चलते वो पहले से ही भर्ती हैं.

सीबीआई के वकील ने मीडिया को बताया कि दुमका केस में 12 लोगों को रिहा किया गया है, जबकि लालू समेत 19 आरोपियों को दोषी पाया गया है. हालांकि, अभी सजा का ऐलान नहीं किया गया है. उन्होंने बताया- कोर्ट ने कहा है कि 21, 22 और 23 मार्च को सजा पर बहस होगी. उन्होंने बताया कि हर दिन 6-6 दोषियों को सजा सुनाई जाएगी. ऐसे में माना जा रहा है कि 22 मार्च को लालू प्रसाद की सजा पर ऐलान हो सकता है.

दोषी होने वाले – अजीत कुमार वर्मा, आनंद कुमार सिंह, नंद किशोर, महेंद्र सिंह वेदी, राज कुमार, राजा राम, रघुनंदन प्रसाद, राजेन्द्र कुमार, फूलचंद और सरमेंद्र दास को दोषी पाया गया है.

बरी होने वाले – पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा के अलावा एमसी सुवर्णो, ध्रुव भगत, अधीप चंद, जगदीश शर्मा, महेश प्रसाद, आरके राणा को बरी कर दिया गया है.

लालू प्रसाद यादव के वकील ने बताया कि अभी तक सभी केस में कम से कम 3.5 साल और ज्यादा से ज्यादा 5 साल की सजा हुई है. उन्होंने कहा कि हम कोर्ट से लालू यादव की तबीयत और उम्र का हवाला देते हुए कम से कम सजा की मांग करेंगे.

लालू यादव पहले से ही चारा घोटाला के तीन अन्य मामलों में दोषी ठहराये जाने के बाद से रांची की बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं. चारा घोटाले का ये चौथा यानी दुमका कोषागार केस 3 करोड़ 13 लाख रुपये के गबन का है. इससे पहले सीबीआई की विशेष अदालत ने 5 मार्च को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था.

वहीं, शुक्रवार को अदालत ने बिहार के तत्कालीन महालेखा परीक्षक समेत महालेखाकार कार्यालय के तीन अधिकारियों के खिलाफ इसी मामले में मुकदमा चलाए जाने की लालू प्रसाद की याचिका स्वीकार कर ली थी. जिसके बाद तीनों को समन जारी करने का निर्देश दिया गया. लालू ने इन तीनों को भी नोटिस जारी कर इस मामले में अभियुक्त बनाने का अनुरोध किया था.

लालू प्रसाद ने अपने वकील के माध्यम से पूछा था कि अगर इतना बड़ा घोटाला बिहार में हुआ तो उस दौरान 1991 से 1995 के बीच बिहार के महालेखाकार कार्यालय के अधिकारी के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई?

24 जनवरी से जेल में बंद

चारा घोटाला से जुड़े चाईबासा केस में रांची की विशेष सीबीआई अदालत ने 24 जनवरी को लालू यादव को दोषी पाते हुए 5 साल जेल की सजा सुनाई थी. साथ ही 10 लाख का जुर्माना भी लगाया गया था. लालू के अलावा जगन्नाथ मिश्र को सीबीआई की विशेष अदालत ने चाईबासा कोषागार से 35 करोड़, 62 लाख रुपये का गबन करने के केस में ये सजा सुनाई थी. तब से लालू जेल में बंद हैं.

यह भी देखे:-

जम्मू-कश्मीर विधानसभा क्यों हुई भंग ?
एक बार तीन तलाक देने वाले पति जायेंगे जेल, मोदी कैबिनट ने दी मंजूरी
सात चरणों में होगा लोकसभा 2019 का चुनाव, 23 मई को नतीजे होंगे घोषित
GST COUNCIL ने मध्यम वर्ग को दी राहत , इन 177 वस्तुएं के दाम होंगे कम
टैगोर सिनेमा हॉलों में राष्ट्रगान की अनिवार्यता पर क्या जवाब देते?
"Nigerian Attacked" के आरोपियों पर नाइजीरियन सरकार की सख्त कार्यवाही की मांग , भारतीय राजदूत तलब...
क्या कांग्रेस में है,वरुण गांधी के लिए बेहतर संभावना?
HANDICRAFT के 18 उत्पादों पर जीएसटी की दरों में कमी
अयोध्या मामला: क्या जन्मस्थान एक न्यायिक व्यक्ति हो सकता है? - न्यायालय
विशेष मामलों के लिए ITR फाइल करने की तारीख बढ़ी
क्या ऑटो एक्सपो 2020 में होगा कोरोना वायरस का असर ?
किसानों को बजट 2018में सरकार ने दिया ये सौगात
सुषमा स्वराज ने बुलाई सर्वदलीय बैठक
घंटी बजी , एक टैक्स, एक बाजार, एक देश, लागू हुआ GST   
World toilet day: खुले में शौच करने वालों की संख्या करीब 89.2 करोड़
राष्ट्रपति के आदेश से अनुच्छेद 370 खत्म, बीएसपी ने किया सरकार का समर्थन