डेटा चोरी करके ठगी करने वाला गिरोह बेनकाब, 105 आरोपी गिरफ्तार

ग्रेटर नोएडा : आज यूपी एसटीएफ ने कस्टमर डाटा (जिसमे कस्टमर का डिटेल्स होता है) के खरीद फरोक्त के कारोबार का खुलासा किया है . इसी डाटा के जरिये ऑनलाइन शोपींग और बीमा के नाम पर कस्टमर को प्रलोभन देकर ठगी की जाती थी . एसटीफ़ ने नोएडा, ग्रेटर नोएडा से लेकर दिल्ली तक विभिन्न कॉल सेंटर पर छपा मारकर 105 आरोपियों को गिरफ्तार कर गिरोह का पर्दाफाश किया है . जिसमें गिरोह का सरगना भी शामिल है . 95 लोगों को निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया जबकि 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया है . एसटीएफ ने इस धंधे में करोड़ों रूपये के डाटा हैकिंग के खेल का भी खुलासा किया है . इसमें बीमा कंपनी और ऑनलाइन शौपिंग कंपनी के कर्मचारी भी शामिल थे जो डाटा को चुराकर या हैक कर डाटा उपलब्ध कराटे थे.

गिरफ्तार आरोपियों की पहचान —

1- सौरभ कुमार पुत्र श्री सतवीर सिंह नि0 सी-74, विकासपुरी, न्यू दिल्ली-18
(यह लाइफ इन्श्योरेन्स का डाटा खरीदकर काॅल सेन्टर चलाता है)
2- अखिलेश कुमार पुत्र विजय सरोज ग्राम निदुर थाना दरन्हा, जिला भदौही
(यह आॅनलाइन शोपिंग का फर्जी काॅल सेन्टर चलाता है)
3- अनुज कुमार पुत्र श्रीपथ कुमार नि0 डी-398/ई, ईस्ट बाबरपुर, शाहदरा थाना वेलकम, दिल्ली-32।
(यह कम्पनियों का डेटा चुराकर काॅल सेन्टरोें को बेचते हैै)
4- दलीप कुमार पुत्र घनश्याम नि0 ए-572 ग्राउण्ड फ्लोर न्यू अशोक नगर थाना न्यू अशोक नगर दिल्ली।
(यह कम्पनियोें का डेटा चुराकर काॅल सेन्टरो को बेचते है)
5- विशाल कुमार पुत्र प्रमोद कुमार निवासी ईस्ट बाबरपुर थाना बैलकम दिल्ली।
(यह कम्पनियोें का डेटा चुराकर काॅल सेन्टरो को बेचते है)
6- कमलेश कुमार पुत्र दीप नारायण निवासी ग्राम बडागाॅव थाना बादशाह जिला जौनपुर
(यह कम्पनियोें का डेटा चुराकर काॅल सेन्टरो को बेचते है)
7- दयाल सिंह पुत्र उमेश सिंह निवासी लाल कॅुआ चॅुगी-2 बदरपुर साउथ दिल्ली।
(यह इन्श्योरेन्स का डेटा खरीदकर काॅल सेन्टर चलाता हैै)
8- हेमन्त कुमार पुत्र श्री राधे कृष्ण निवासी ए-47 शारदा पुरी न्यू दिल्ली ।
(यह इन्श्योरेन्स का डेटा खरीदकर काॅल सेन्टर चलाता है)
9- मौ0 इमरान पुत्र अब्दुल गनी निवासी मौ0 मुल्तानी बिलपरा रोड बलिया।
(यह इन्श्योरेन्स का डेटा खरीदकर काॅल सेन्टर चलाता है )
10- अनुराधा पुत्री जय प्रकाश सिंह निवासी जे-92 लक्ष्मी नगर दिल्ली।
(यह लाइफ इन्श्योरेन्स का डेटा चुराकर काॅल सेन्टर चलाती है)

इनसे बरामदगी का विवरण –
1- 53 अदद मोबाइल फोन।
2- 12 कम्प्यूटर
3- 11 वाकी टाॅकी फोन
4- 01 पैन ड्राइव
5- 01 लेपटाॅप
6- 03 एटीएम कार्ड
7- 01 चैकबुक
8- लगभग 02 लाख प्वाइंट डाटा (रिलायंस, फ्यूचर, एक्साईड, बिरला सन लाइफ, एचडीएफसी लाइफ, पीएनबी मेट लाइफ, मैक्स लाइफ, बजाज आलियाॅंज लाइफ, एचडीएफसी अगांे, पेटीएम आनलाइन शाॅपिग, शायक्लूज, फ्लिपकार्ट, इंडिया शापिंग माल से सम्बन्धित)
9. रूपया 42000/- नगद

बता दें करोड़ों की ठगी के खेल में एचडीएफसी एग्रो जनरल इन्श्योरेन्स के एक अधिकारी ने धोखाधड़ी के इस खेल की सूचना दी थी जिसके बाद इस सम्बन्ध मेें थाना साइबर क्राइम जनपद गौतमबुद्धनगर पर मु0अ0स0 02/18 धारा419/420/467/468/471 भादवि एवं 66बी/66 डी आई0टी0 एक्ट के तहत मुकदमा लिखा गया था।

इस अपराध मेें शामिल अपराधियोें की गिरफ्तारी के लिए अभिषेक सिंह, एसपी एसटीएफ उत्तर प्रदेश ने निर्देश दिये थे। जिसके बाद त्रिवेणी सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक प्रभारी थाना साईबर क्राइम नौएडा द्वारा अपने निर्देशन में टीम गठित कर जानकारी जुटा कर कार्यवाही प्रारम्भ की गयी ।

आज साईबर क्राइम की टीम द्वारा एनसीआर क्षेत्र (दिल्ली एवं नौएडा) मेें कार्यवाही करके 105 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ के बाद 95 को मुचलके पर रिहा किया गया वहीँ 10 आरोपियों को पुलिस हिरासत मेें लिया गया ।

पूछताछ के बाद पता चला इन लोगों द्वारा विभिन्न कम्पनियोें के नाम पर फर्जी एकाउन्ट खोल कर, फर्जी तरीके से मोबाइल सिम प्राप्त करके कस्टमर को काॅल करके उनको इन्श्योरेन्स के नाम पर अधिक बोनस देने एवं ई-काॅमर्स के माध्यम से मोबाइल खरीदने पर 50 से 70 प्रतिशत का डिस्काउन्ट देनेे का लालच दिया जाता है। इस गिरोह के सदस्यों द्वारा ई-काॅमर्स कम्पनियोें (जैसे पेटीएम, फ्लिपकार्ट, मिन्त्रा, स्नैपडील आदि) के नामों का प्रलोभन देकर कस्टमर को अपने जाल में फॅसाकर पैसा ऐंठते थे।

इस गिरोह के द्वारा अवैध रूप से कई काॅल सेन्टर चलाये जा रहें थे। इन काॅल सेन्टरों के मालिक एवं डेटा वेन्डर, कम्पनिया का डेटा चुराकर बेचने का काम करते थे। इस गिरोह का जाल दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा, एनसीआर क्षेत्र मेें फैला हुआ है। गिरफ्तार आरोपियों की अन्य आपराधिक गतिविधियोें के सम्बन्ध मेें जानकारी की जा रही है। प्राप्त डेटा का फारेन्सिंक आडिट कराया जायेगा। डेटा ब्रीच कहाॅ से हुआ है, इसकी जानकारी की जा रही है। कम्पनियोें का डेटा हैंकिंग या किसी कर्मचारी के माध्यम से प्राप्त हुआ है. इस सम्बन्ध मेें भी जाॅच की जा रही है। दो लाख कस्टमर का जो डेटा प्राप्त हुआ है, उनको एस0एम0एस0 एवं अन्य माध्यमोें से सूचना देकर जानकारी प्राप्त की जा रही है कि उनके साथ किस प्रकार की धोखाधडी हुई है । फर्जी बैंक एकाउन्ट किस प्रकार से खोले गये, बैंक कर्मियोें की मिलीभगत के सम्बन्ध मेें भी जाॅच की जा रही है। बैंक का एकाउन्ट डिटेल प्राप्त करके कुल धोखाधडी के सम्बन्ध मेें जानकारी की जा रही है। इसके अतिरिक्त इन्श्योरेन्स एवं ई-काॅमर्स कम्पनी के इन्फारमेशन सिक्योरिटी पाॅलिसी/आडिट की विधिवत जाॅच की जायेगी ताकि डाटा ब्रीच कहाॅ से हुआ है, इसकी जानकारी प्राप्त हो सके। इस गिरोह का पर्दाफाश कराने मेें बजाज एलियांज, आई0सी0आई0सी0आई0, प्रुडेन्शियल लाइफ इन्श्यारेन्स एवं एच0डी0एफ0सी0 अग्रो एवं पेटीएम कम्पनियों के अधिकारियोें/कर्मचारियो की सुरागरसी मे अहम भूमिका रही है।
गिरफ्तार अभियुक्तगण को थाना साईबर क्राइम नौएडा पर पंजीकृत उपरोक्त अभियोग में दाखिल किया गया है। अग्रिम विधिक कार्यवाही थाना साईबर क्राइम नौएडा द्वारा की जा रही है।

यह भी देखे:-

जान की परवाह किये बिना दो बहादुर बहनों ने बदमाशों से लिया लोहा
नोएडा : ईनामी बदमाश पुलिस एनकाउंटर में घायल
अवैध हुक्काबार में 11 युवक हुक्का का कश लगाते गिरफ्तार
तेज रफ्तार का कहर , तीन घायल
लखनऊ एनकाउंटर में मारा गया 15 हज़ार का ईनामी शार्प शूटर
बेख़ौफ़ बदमाशों ने डेरी संचालक और महिला से लूटा पर्स
पुलिस एनकाउंटर में घायल हुआ बदमाश
लालबत्ती की कार से घूम रहे थे युवक, पुलिस ने कार किया जब्त, युवक गिरफ्तार
ऑपरेशन क्लीन : स्कूल बस व वैन के खिलाफ चला अभियान
ग्रेटर नोएडा : चोरी और लूट से दहला बीटा -1 सेक्टर, दहशत में लोग
ग्रेटर नोएडा: सेक्टर के मकान में चल रहा था मुजरा पार्टी , 13 बीडीसी भाजपा नेता समेत दो मुजरा गर्ल गि...
देखें VIDEO, ग्रेटर नोएडा : दाल नहीं गली और पकड़ा गया फर्जी आईएएस अधिकारी
कोर्ट के आदेश पर कंपनी के पार्टनर के खिलाफ मामला दर्ज
ग्रेटर नोएडा : बदमाशों के हौसले बुलंद, ट्रक पर चढ़कर ड्राइवर मारी गोली, कैश से भरा बैग लूटा 
सनसनी : सरकारी कर्मचारी से हथियार की नोंक पर लूट
न्याय पाने के लिए भटक रही है शारीरिक शोषण से पीड़ित महिला शिक्षक