अब बंजर भूमि पर भी होगी खेती , सबीर बायोटेक की ख़ास पहल

ग्रेटर नोएडा: अब बंजर भूमि पर भी खेती जा सकती है . जी हाँ हाइड्रोपोनिक्स तकनिकी के माध्यम से यह सम्भव है . भारत में इस तकनिकी का प्रचार-प्रसार सवीर बायोटेक जोरशोर से कर रहा है . आज मीडिया को अल्फा 1 सवीर बायोटेक द्वारा विकसित की गई हाइड्रोपोनिक्स ग्रीनहॉउस का दौरा कराया गया ।

STUDENTS OF MEWAR AGRICULTIURE UNIVERSITY VIST IN SAVEER BIOTECH
फोटो : मेवाड़ कृषि विश्विविद्यालय के विद्यार्थी सवीर बायोटेक में .

इसके अलावा मेवाड़ कृषि विश्विद्यालय राजस्थान के छात्रों ने भी ग्रीन हॉउस का विजित किया और तेजी से प्रचलित हो रहे इस तकनिकी के बारे में जानकारी। सवीर बायोटेक के निदेशक संजय सूदन ने बताया इस तकनिकी के माध्यम से जो खेती की जा रही है उसमें मिट्टी की आवश्यकता नहीं है । बल्कि पैकेट में पौधे को मिट्टी के बदले नारियल के खुज्जे का इस्तेमाल किया जाता है । ग्रीन हॉउस में पौधे के अनूकूल वातावरण विकसित किया जाता है । इस तकनिकी के माध्यम से खेत में जो पैदावार होता है उससे पांचगुना पैदावार इस तकनिकी के माध्यम से लिया जा सकता है। उन्होंने कहा इस तकनिकी में जमीन उपजाऊ है या नहीं इससे कोई मतलब नहीं है . बस जमीन चाहिए जहा ग्रीन हॉउस विकसित कर खेती की जा सकती है . ऐसे में बंजर भूमि पर भी ग्रीन हॉउस बनाकर इस तकनिकी के माध्यम से खेती की जा सकती है . इस मौके पर सवीर बायटेक के चीफ कोऑर्डिनेटर डॉ. शेखर वी. कौल और और बिजनेस कोऑर्डिनेटर लीनु गुलाटी भी मौजूद थी ।

हाइड्रोपोनिक्स के बारे में कुछ और
SAVEER BIOTECH
सवीर ने कृषि / बागवानी में विभिन्न हितधारकों के लिए विभिन्न तकनीकों का प्रदर्शन करने के लिए ग्रेटर नोएडा में अपने उत्कृष्ट केंद्र के लिए हाइड्रोपोनिक ग्रीनहाउस का विकास किया। वाणिज्यिक हाइड्रोपोनिक्स को अलग-अलग लोगों को जागरूक बनाने के लिए केंद्र में प्रदर्शित किया गया है और इन्हें अभिनव प्रौद्योगिकी में विश्वास करना है। सेवर शुरुआत से ही ब्रांडों के लिए एक हाइड्रोपोनिक प्रोजेक्ट को चालू करने से जुड़ा था जिसमें इमारतों के छत के ऊपर विशेष रूप से निर्मित और डिजाइन किए हाइड्रोपोनिक ग्रीनहाउस की योजना, डिजाइनिंग, विनिर्माण, स्थापना और कमीशन शामिल था।

शहरी परिधानों पर उत्पादन बढ़ाने के लिए यह तकनीक शहरी परिवेशों में ताजा भोजन तक पहुंच बनाने में उपयोग की जा सकती है। छत के ऊपर सब्जियों के उत्पादन के लिए उद्योगों, आवासीय और सेवा भवनों में छतों, हाइड्रोपोनिक तकनीक के उपयोग के लिए एक आदर्श स्थान है क्योंकि इस तरह के ग्रीनहाउस में फसलों के लिए उन्हें भूजल की तुलना में सूर्य के प्रकाश की बेहतर पहुंच होती है। इसके अलावा, भवनों के ऊपर स्थित पट्टे पर जगह अक्सर जमीन पर समान क्षेत्र की तुलना में सस्ता और अधिक उपलब्ध होती है और इस प्रकार इस व्यावसायिक अभ्यास को सुविधाजनक बनाने में मदद मिल सकती है।

सवीर बायोटेक लिमिटेड भारत की प्रमुख विशेष बागवानी अवसंरचना विकास कंपनी है और भारत में हरियाली के सबसे बड़े आपूर्तिकर्ताओं में से एक है। कॉर्पोरेट मूल्यों के एक स्थायी सेट के साथ 1978 में स्थापित, वर्तमान में भारत में एक अग्रणी कृषि बायोटेक कंपनी, सेवर बायोटेक है। यह भारत की अग्रणी साइंस एंड टेक्नोलॉजी कंपनी है, जो ग्रीनहाउस टेक्नोलॉजी, फाइटोट्रॉन, और ग्रोथ चेम्बर्स एंड प्लांट टिश्यू कल्चर में काम करती है।

सवीर बायोटेक भारत का सबसे बड़ा निजी क्षेत्र “बागवानी प्रौद्योगिकी केंद्र” है, ग्रेटर नोएडा में, यू.पी. यह विश्व में एकमात्र ग्रीनहाउस कंपनी है जो कि डीएसआईआर, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त अपने घर के अनुसंधान एवं विकास केंद्र है। भारत की। सुरक्षित ऊर्जा के साथ फसल की खेती को बेहतर बनाने, जल बचत करने और मानव संसाधनों का अनुकूलन करने के लिए व्यापक शोध के संचालन के लिए संरक्षित खेती के लिए उत्कृष्टता का अपना ही एकमात्र संगठन है। उनके इन-हाउस में मान्यता प्राप्त आर एंड डी सेंटर विभिन्न उत्पादों को उपयोगकर्ताओं की जरूरतों के अनुसार उन्नयन करता है सेवर ने बागवानी में विभिन्न नवीन तकनीकों का प्रदर्शन करने के लिए उत्कृष्टता का केंद्र स्थापित किया है।

यह भी देखे:-

गौतमबुद्ध नगर: जिले में चला ऑपरेशन क्लीन 4
ग्रैड्स इंटरनैशनल स्कूल : राहगीरी में बच्चों ने दिखाई गांधी की झलक
दुनिया का सबसे बड़ा हस्तशिल्प मेला ग्रेटर नोएडा में 23 फरवरी से
भारत में पहली बार EPCH द्वारा वर्चुअल फेयर IFJAS का आयोजन 1 जून से
एयरटेल दिल्ली हाफ मैराथन: ग्रेटर नोएडा के तीन छात्र टॉप 10 में
गाँधी जयंती: ग्रेटर नोएडा साइकलिंग क्लब व ANAHITA FOUNDATION ने दिया "GO GREEN GO CYCLING " का नारा
जहांगीरपुर: हाईटेंशन लाइन के तार गिरने से दो ट्रैक्टर जल कर क्षतिग्रस्त
55 घंटे में गिरी BJP सरकार,HD कुमारस्वामी होंगे कर्नाटका के नए मुख्यमंत्री
CORONA UPDATE : गौतमबुद्ध नगर में कोरोना संक्रिमतो का आंकड़ा 230 पहुंचा, पढ़ें विस्तृत जानकारी
रायन बना अंगूरी देवी मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेन्ट अंडर-12 व 19 का विजेता
योगा वैलनेस फेस्टिवल में बोले कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही, “हर ब्लाक का पायलट प्रोजेक्ट होगा जैविक...
ग्रेटर नोएडा : महिला से पॉश सोसाइटी में गैंग रेप
Lockdown 4 : गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने जारी की गाइड लाइन, टहलने के लिए पार्क खोले गए , निजी वाह...
मनमाने तरीके से फीस वसूली का आरोप , धरने पर बैठे बी.टेक के छात्र
अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा के राष्ट्रीय सम्मेलन में पंहुचे सैकड़ो कार्यकर्ता
लॉयड इंस्टिट्यूशन में जॉब फेस्ट, “ नियुक्ति-2019” का आयोजन