शीतकालीन भ्रमण : मेरठ कमिश्नर ने किया कलक्ट्रेट व तहसील का निरिक्षण

ग्रेटर नोएडा : मेरठ मण्डल के आयुक्त डाॅ प्रभात कुमार के द्वारा आज अपने शीतकालीन भ्रमण के दौरान कलैक्ट्रेट परिसर में स्थित मनोरंजन, आबकारी, पूर्ति, सर्वे, खाद्य सुरक्षा, ए0आई0जी0 स्टाम्प, सूचना, खनन तथा कलैक्ट्रेट के संयुक्त कार्यालय एवं रिकार्ड रूम का स्थिलीय निरीक्षण किया गया। उन्होंने निरीक्षण के दौरान सभी कार्यालयों में सफाई व्यवस्था पर बल देते हुये सभी कार्यालयों को सुन्दर एवं स्वच्छ बनाने के सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये। उन्होंने भ्रमण के दौरान कई स्थानों पर विद्युत तार लटके हुये पाये जाने पर असंतोष प्रकट करते हुये सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि इन्हें तत्काल प्रभाव से ठीक कराया जाये।

आयुक्त ने ए0आई0जी0 स्टाम्प कार्यालय का निरीक्षण करते हुये अलमारियों पर खराब फोटो स्टेट मशीन एवं अन्य सामग्री रखी हुयी पाये जाने पर उनका तत्काल नीलाम कराते हुये उस कार्यालय को स्वच्छ बनाने के निर्देश दिये। इसी प्रकार उन्होंने अन्य कार्यालयों में भी कार्यालय में समान को व्यवस्थित रखने तथा सरकारी पत्रावली को सही ढ़ग से रख रखाव के दिशा निर्देश प्रदान किये।
विभिन्न कार्यालयो का स्थलीय निरीक्षण करने के उपरान्त मण्डलायुक्त के द्वारा कलैक्ट्रेट सभागार मे राजस्व विभाग के अधिकारीयों के साथ बैठक करते हुये राजस्व कार्याे की समीक्षा की।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि सभी प्रकार के संदर्भो के सम्बन्ध में सभी अधिकारियों के द्वारा गम्भीरता दिखाते हुये समयबद्धता के साथ निस्तारण सुनिश्चित कर पोर्टल पर लोड किया जाये और सभी निस्तारण में शासन की मंशा के अनुरूप गुणवत्ता बनायी रखी जाये, ताकि सरकार की मंशा का लाभ आम नागरिकों को मिल सकें। कमिश्नर डा. प्रभात कुमार ने कहा कि राजस्व विभाग के अधिकारियों के द्वारा न्यायिक कार्यो में गम्भीरता दिखाते हुये सभी पीठासीन अधिकारियों के द्वारा नियमित रूप से न्यायालय का कार्य संपादित किया जाये और 31 मार्च तक 5 वर्ष से पुराने वादों का निस्तारण प्राथमिकता के आधार पर करने की कार्यवाही की जाये। उन्होंने यह भी कहा कि राजस्व वादों के निस्तारण में गतिशीलता लाने के उद्देश्य से सभी पीठासीन अधिकारियों एवं सम्बन्धित स्टाॅफ का प्रशिक्षण जिलाधिकारी की अध्यक्षता में आयोजित किया जाये, ताकि राजस्व वादों के निस्तारण में गतिशीलता लायी जा सकें।

उन्होंने कहा कि राजस्व वसूली का कार्य सरकार की मंशा के अनुसार सभी अधिकारियों के द्वारा सुिनश्चित किया जाये और जो बडे़ बकायेदार है उनके विरूद्ध अभियान चलाते हुये सभी प्रकार के देयों में मांग के अनुसार 31 मार्च तक राजस्व वसूली सुनिश्चित की जाये, ताकि सभी मदों में वसूली के लक्ष्य पूर्ण हो सके। इस संबध में मण्डलायुक्त ने समीक्षा के दौरान यह भी पाया कि ग्रामीण क्षेत्रों मे अमीनों की वसूली का औसत मात्र 3 लाख रूपये आ रहा हैै, इसे बढ़ाकर 5 लाख औसत करने की कार्यवाही की जाये। उन्होंने समीक्षा के दौरान यह भी पाया कि चरित्र सत्यापन के प्रकरण 319 लम्बित है, उनका निस्तारण तत्काल प्रभाव से अधिकारियों के द्वारा सुनिश्चित किया जाये।

मण्डलायुक्त ने कहा कि समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों की सेवा सम्बन्धी प्रकरणों में किसी भी स्तर पर शिथिलता न बरती जाये और समयबद्धता के साथ सेवा सम्बन्धी प्रकरणों का निस्तारण सुनिश्चित किया जाये इस दौरान उन्होंने अधिकारियों एवं कर्मचारियों की जीपीएफ पासबुकों का निरीक्षण किया, जिसमें अंकन दर्ज सही होना पाया गया परन्तु सम्बन्धित कर्मचारी के हस्ताक्षर पासबुकों में नही पाये गये, इस संबध में निर्देश दिये कि वर्ष में दो बार सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को जीपीएफ पासबुकों का अवलोकन कराते हुये उनके हस्ताक्षर आवश्यक रूप से कराया जाना सुुनिश्चित किया जाये। मण्डलायुक्त ने यह भी कहा कि सभी कर्मचारियों को एसीपी का लाभ निर्धारित समय पर दिलाया जाना सुनिश्चित किया जाये और इसके लिए प्रत्येक वर्ष जनवरी एवं जुलाई में कमेटी का गठन करते हुये बैठक कर लम्बित प्रकरणों को निस्तारण सुनिश्चित किया जायें।

अपने शीतकालीन भ्रमण के दूसरे चरण में मण्डलायुक्त द्वारा जेवर तहसील का भी निरीक्षण किया गया। उन्होंने जेवर तहसील के सभी कार्यालयों एवं कक्षों का निरीक्षण कर साफ सफाई एवं फाईलों का रख रखाव सही पाया। स्थलीय निरीक्षण करने के उपरान्त मण्डलायुक्त डाॅ प्रभात कुमार के द्वारा उपजिलाधिकारी कक्ष में तहसील के राजस्व कार्यो की समीक्षा की गयी, जिसमें उन्होंने पाया कि वसूली कार्य में संबन्धित अधिकारियों एवं कर्मचारियों के द्वारा रूचि नही ली जा रही है। बैंक देय की 2006 तक की आरसी लम्बित पायी गयी, इस सम्बन्ध में नक्शा भी सही प्रकार से तैयार न किये जाने पर मण्डलयुक्त ने नाराजगी व्यक्त करते हुये वसूली के कार्य में तेजी लाने के कड़े निर्देश दिये। यहा पर उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि तहसीलदारगण एवं उपजिलाधिकारी नियमित रूप से न्यायिक कार्य को गति दें और 5 वर्ष से अधिक पुराने वादों का निस्तारण मार्च के अन्त तक आवश्यक रूप से सुनिश्चित किया जाये। जिलाधिकारी बीएन सिंह ने मण्डलायुक्त को आश्वस्त किया कि राजस्व कार्यो के निस्तारण में गतिशीलता लाने के उद्देश्य सेे जो निर्देश प्रदान किये गये है, अधिकारियों के माध्यम से उनका अनुपालन सुनिश्चित कराया जायेगा।

मण्डलायुक्त के भ्रमण के दौरान जिलाधिकारी बीएन सिंह, अपर जिलाधिकारी एल0ए0 राकेश कुमार शर्मा, प्रशासन कुमार विनीत, वित्त एवं राजस्व केशव कुमार, न्यायिक ए0के0 श्रीवास्तव, उपजिलाधिकारी सदर अंजनी कुमार सिंह, दादरी अमित कुमार सिंह, जेवर राजपाल सिंह, अतिरिक्त मजिस्ट्रेट राजेश कुमार, जिला पूर्ति अधिकारी राज नारायण सिंह, जिला आबकारी अधिकारी राकेश कुमार सिंह, जिला मनोरंजन कर अधिकारी जे0पी0 चन्द, ए0आई0जी0 स्टाम्प ए0के0 दूबे तथा अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

यह भी देखे:-

संस्कृति और तकनीकी का मिश्रण होगा ग्रेटर नोएडा कार्निवाल 2020
धूमधाम से मनाएंगे योगी का जन्मदिन
एसडीआरवी स्कूल दनकौर में ब्लड डोनेट कैंप का हुआ आयोजन
गलगोटिया काॅलिज में रोटेरी क्लब का स्थापना दिवस मनाया गया
किसानों ने की पंचायत डीएमआईसी दफ्तर का करेंगे घेराव
काम दमदार योगी सरकार, वर्षों में जो न हो पाया, 4 वर्ष में कर दिखाया
जुनैदपुर गाँव में दीप जलाकर शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि
बिसरख पुलिस और बदमाश के बीच मुठभेड़
होण्डा बदल रहा है भारत की राइडिंग का तरीका, 11 मॉडल लॉन्च किया
ग्रेटर नॉएडा प्राधिकरण के स्ट्रीट लाइट के कमजोर खम्भे है जानलेवा , अभी हादसा टला:-
स्मार्ट विलेज के तहत हो रहे विकास कार्यों को अनियमिताओं के चलते ग्रामीणों ने बंद कराया
ब्यूटी पार्लर पर बच्चो को प्रशिक्षण पत्र बांटे
बामसेफ भारत मुक्ति मोर्चा का अधिवेशन आयोजित
जिला उपभोक्ता फोरम ने एयरटेल पर लगाया जुर्माना
ग्रेटर नोएडा: दनकौर के पीपलका गांव मे दो पक्षों में जमकर चले लाठी-डंडे ,कई लोग घायल
हॉस्पिटल एकादश बना T-10 क्रिकेट टूर्नामेंट का विजेता, 28 दिसंबर को ग्रेनो प्रेस क्लब से होगा मुकाबला