शारदा हाफ मैराथन: जोश, जज़्बे और जुनून के साथ दौड़े धावक

  • शारदा यूनिवर्सिटी के कैंपस से शुरू हुई मैराथन, 10,000 धावकों ने लिया भाग

ग्रेटर नोएडा: शारदा विश्वविद्यालय ने “हेल्थ, हैपीनेस और यूनिटी” जैसे सामाजिक सन्देश के लिए हाफ मैराथन का आयोजन किया. इस मैराथन में भाग लेने के लिए शारदा विश्व विद्यालय के छात्रो शिक्षको के अलावा अन्य प्रतिभागियों का जज्बा और जोश अपने चरम पर था / मैराथन का आगाज कई अंतर्राष्ट्रीय मैराथन प्रतियोगितायो की विजेता रही सुनीता गोदारा के साथ विश्विद्यालय के कुलाधिपति पी के गुप्ता ने फ्लैग दिखा कर किया / इस आयोजन में दस हज़ार से ज्यादा धावको ने शिरकत की मैराथन में चार स्तर के विकल्प मौजूद थे जिसमे की 21 किमी की हाफ मैराथन, मिनी मैराथन 10 किलोमीटर, ग्रीन मैराथन 5 किमी, और गुलाबी मैराथन 3 किलोमीटर के विकल्प थे.

वर्ष 2016 में शारदा-ताज मैराथन की भव्य सफलता के बाद, शारदा हाफ मैराथन में धावकों ने अपने जोश, जज़्बे और जुनून का परिचय दिया। सफल प्रतिभागियों को को सभी आयु वर्ग के लोगों ने बड़े उत्साह के साथ इस मैराथन में भाग लिया. इस मैराथन में सुबह 5 बजे से दिल्ली एनसीआर से लोगों का आना शुरू हो गया था.
मैराथन की औपचारिक शुरूआत कैंपस से सुबह 6 बजकर 50 मिनट से हुई. मैराथन के अंत में विजेताओं का ऐलान हुआ, 21 किमी की महिला वर्ग की हाफ मैराथन में पहला स्थान उजाला को मिला वहीं, पहली और दूसरी रनर अप अर्पिता और वहीदा रहीं, पुरूष वर्ग की 21 किमी मैराथन में राजकुमार ने पहला स्थान हासिल किया, जबकि पहले और दूसरे स्थान पर सीआरपीएफ के मोहन सिंह और तीसरे स्थान पर भी सीआरपीएफ के ही विकास कुमार रहे. पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे विजेताओं को क्रमश: 31 हज़ार, 25 हज़ार और 20 हज़ार रूपए की पुरस्कार राशि का चेक दिया गया.

10 किमी की मिनी मैराथन के महिला वर्ग में पहला स्थान पर विजयलक्ष्मी रहीं, दूसरे पर खुशबू गुप्ता और तीसरे स्थान पर वर्षा नागर रहीं, वहीं पुरुष वर्ग की 10 किमी मैराथन में कपिलदेव पहले स्थान पर, दूसरे पर राहुल और तीसरे स्थान पर राज शेखर रहे. पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे विजेताओं को क्रमश: 21 हज़ार, 11 हज़ार और 5100 रूपए की पुरस्कार राशि का चेक दिया गया. 5 किमी के ग्रीन मैराथन में पहले स्थान पर विशाल कुमार जबकि दूसरे स्थान पर दीपक कुमार रहे. उन्हें पुरस्कारस्वरूप 11 हज़ार और 5100 रूपए की पुरस्कार राशि दी गई.

मैराथन को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। जगह-जगह पर सीसीटीवी कैमरे, सुरक्षा गार्ड, वॉलटियर्स और बाउंसर्स को तैनात किया गया था। वहीं, किसी मेडिकल सुविधा के लिए मैराथन के दौरान में एंबुलेंस को भी तैनात किया गया था।मैराथन के दौरान जगह जगह पर धावको का जोश बढ़ने के लिए कई तरह के सास्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया थे / मैराथन के अंत में नुक्कड़ नाटक, गीत-संगीत सहित कई सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन हुआ जिसमें देश ही नहीं विदेशी छात्रों ने खूब बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और दर्शकों ने खूब तालियां बजाई.

कार्यक्रम के समापन समारोह को संबोधित करते हुए विश्विद्यालय के कुलाधिपति पी के गुप्ता ने कहा के इस मैराथन प्रतियोगिता का सन्देश एक सामाजिक सरोकार को लेकर था और इस सन्देश को लेकर समाज के जन जन तक पहुचने के लिए प्रतियोगिता में शिरकत करने वालो का जोश हमेशा यादगार रहेगा / प्रति कुलाधिपति ने मैराथन की शानदार सफलता के लिए सभी प्रतिभागियों और विश्वविद्यालय सभी फैकल्टी, स्टाफ और छात्रों की सराहना की और इस तरह की प्रतियोगिताएं को प्रोत्साहित करते रहने पर जोर दिया.

यह भी देखे:-

जेवर एयरपोर्ट की फिर जागी उम्मीद : विधानमंडल बैठक में विधायक धीरेन्द्र
ग्रेटर नोएडा वेस्ट तक जल्द पहुंचेगी मेट्रो  , 600 करोड़ की है योजना
जहरीले धुंए SMOG की चपेट में दिल्ली एनसीआर , इन बातों का रखें ख्याल
RYAN GREATER NOIDA EXCEED – DELHI/NCR OPEN BADMINTON CHAMPIONSHIP
अपराधों पर अंकुश लगाने के लिये अधिकारी करे विशेष प्रयास- डीएम बी.एन सिंह
दो दिवसीय राष्ट्रीय युवा संगीत सम्मेलन का समापन, युवा संगीतकारों ने सीखी शास्त्रीय गायन की बारीकिया...
AUTO EXPO 2018 : सीएम योगी आदित्यनाथ कर सकते हैं उद्घाटन
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को आईना दिखाती कवि ओम रायज़ादा की नज़्म
लीडर बने फॉलोवर नहीं - कुसुम चोपड़ा
हिन्दू युवा वाहिनी ने मनाई अम्बेडकर जयंती
बच्चों के बलात्कारियों को मिलेगी फांसी, अध्यादेश लाएगी मोदी सरकार
संयुक्त किसान अधिकार आन्दोलन के नेतृत्व में किसान देंगे ग्रेनो प्राधिकरण कार्यालय पर धरना
महिला उन्नति संस्था ने महिलाओं एवम बच्चियों की सुरक्षा को लेकर किया बैठक का आयोजन
समाधान दिवस में 164 शिकायतें हुई दर्ज, 10 का मौके पर निस्तारण
प्रदीप कुमार ने भूटान में फहराया तिरंगा भाला फेंक में गोल्ड मेडल जीता
काश ! अटल जी की बात मानी होती : विनोद बंसल