लॉयड लॉ कॉलेज के छात्रों के द्वारा दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट की सहमति , राष्ट्रीय महत्व के मुद्दे की सुनवाई का होगा

ग्रेटर नॉएडा के लॉयड लॉ कॉलेज के लॉ के तीन छात्रों- आयुष प्रकाश ,अमन शेखर,बायरन सेकुरिआ, ने सुप्रीम कोर्ट में “राष्ट्रीय महत्व के विषयों में अदालत की सुनवाई के लाइव प्रसारण’ विषय पर याचिका दायर की थी जिसका फैसला आज आया है जिसमे सुप्रीम कोर्ट ने अपनी सहमति दे दी है .यह ग्रेटर नॉएडा के लिए गौरव की बात है. छात्र काफी लम्बे समय से ये लड़ाई लड़ रहे थे .इससे लॉ के छात्रों को लाभ होंगे ही साथ में आम जनता को भी इससे लाभ मिलेंगे .इससे छात्रों को बहोत कुछ सीखने को मिलेगा.वे बड़े वकीलों द्वारा लडे जा रहे मामलों से वकालत के कौशल , व्यवहारिकता ,केस के प्रस्तुतीकरण की कला , आदि को बारीकी से सीख सकते हैं .इससे मामलों की पारदर्शिता को भी बढ़ावा मिलेगा.इस आदेश से लॉ छात्रों की अध्ययन और प्रशिक्षण के क्षेत्र में और भी नियम बन सकते हैं.

सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच ने मंजूरी दे दी है. न्यायालय ने कहा है कि संविधान के अनुच्छेद 145 के तहत लाइव स्ट्रीमिंग के नियम-कानून बनाए जाएं.

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली तीन जजों के बेंच में जस्टिस ए एम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ शामिल थें. तीनों जजों ने सर्वसम्मति से कहा कि लाइव प्रसारण से पारदर्शिता आएगी और यह लोकहित में होगा. शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में कहा, ‘इसे सुप्रीम कोर्ट से शुरू किया जाएगा पर इसके लिए कुछ नियमों का पालन किया जाएगा.इस दौरान जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि हम खुली अदालत को लागू कर रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट की तरफ से इस मामले में केंद्र सरकार से जवाब मांगे जाने पर अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कोर्ट दिशा-निर्देश दाखिल किए थें.

-जिसके मुताबिक लाइव स्ट्रीमिंग पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर चीफ जस्टिस की कोर्ट से शुरू हो.

– संवैधानिक मुद्दे और राष्ट्रीय महत्व के मुद्दे शामिल हों.
– वैवाहिक विवाद, नाबालिगों से जुड़े मामले, राष्ट्रीय सुरक्षा और साम्प्रदायिक सौहार्द से जुड़े मामलों की लाइव स्ट्रीमिंग न हो.

– लाइव स्ट्रीमिंग के लिए एक मीडिया रूम बनाया जा सकता है जिसे लिटिगेंट, पत्रकार और वकील इस्तेमाल कर सकें. जिससे कोर्ट रूम की भीड़ भाड़ कम होगी.



Dr Md. Salim ,Director ,lloyd law college,greater noidaहम छात्रों को पढाई के साथ साथ लॉ से सम्बंधित अन्य गतिविधियों एवं लॉ के अध्ययन के व्यावहारिक पक्ष पर विशेष ध्यान देते हैं.हमारा पूरा ध्यान लॉ के किताबी ज्ञान के साथ व्यावहारिक ज्ञान को सीखने में भी रहता है.छात्र कोर्ट रूम में जा कर कोर्ट की कार्यवाही को गहनता से देखकर ज्यादा से ज्यादा सीखे और जनता एवं समाज की भलाई के लिए काम करे .लॉयड लॉ कॉलेज के छात्रों द्वारा ही दिल्ली हाई कोर्ट में भी याचिका दायर की गई है जिसमे फैसला आने वाला है . याचिका का विषय दिल्ली की झुग्गियों में शौचालय निर्माण एवं स्वच्छता का इंतजाम किये जाने से सम्बंधित है .आगे भी हमारे छात्र जनकल्याण के लिए कार्य करते रहेंगे.” — Dr Md. Salim ,Director ,lloyd law college,greater noida

यह भी देखे:-

गलगोटिया युनिवेर्सिटी में मूट-काॅर्ट कम्पटीशन का शुभारम्भ, 60 विश्वविद्यालय और काॅलिजो के लॉ स्टूडे...
रयान प्रदुम्न मर्डर केस में ट्विस्ट , तो क्या इसलिए की गयी थी प्रद्युम्न की हत्या !
एक बार तीन तलाक देने वाले पति जायेंगे जेल, मोदी कैबिनट ने दी मंजूरी
किसानों को बजट 2018में सरकार ने दिया ये सौगात
नियमों का हवाला देकर मैच में जो हुआ उसपर हंसा जाए या नाराज़ हुआ जाए
जिला उपभोक्ता फोरम ने एयरटेल पर लगाया जुर्माना
नार्वे देश की महिला न्याय के लिए लगा रही थाने के चक्कर
अखिल भारतीय मिथिला राज्य संघर्ष समिति का जंतर मंतर पर विशाल धरना एवं प्रदर्शन
आतंक के आकाओं को पीएम मोदी का संदेश-बहुत बड़ी गलती की है, चुकानी होगी भारी कीमत
पुलवामा अटैक: शहीद के पिता- 'एक बेटा खोया, दूसरे को भी सेना में भेजूंगा लेकिन पाकिस्तान को करारा जवा...
'पाकिस्तान मुर्दाबाद...' नारे लगाने पर मिल रही है चिकन लेग पीस पर 10 रुपये की छूट
DELHI एयरपोर्ट पर कारतूस के साथ पकड़े गए RJD विधायक
'मुझे बेटे पर गर्व है, उम्मीद है वह सही सलामत वापस लौटेंगे' - विंग कमांडर अभिनंदन के पिता
ममता बनर्जी ने मांगे पाक के ख़िलाफ़ सेना की #AirStrike के सबूत
पाकिस्तान की धरती पर सक्रिय नहीं हो सकेगा कोई आतंकी संगठन: प्रधानमंत्री इमरान खान
भाजपा 18 मार्च को जारी कर सकती है प्रत्याशियों की पहली सूची