“जय भारत ,जय भारत की नारी” के साथ शारदा प्रसूति विभाग ने मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

गुरुवार को शारदा यूनिवर्सिटी में प्रसूति विभाग और गायनोकोलॉजी विभाग,मेडिकल साइंसेज और रिसर्च के स्कूल के द्वारा “अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस” के उपलक्ष्य में “महिलाओं के खिलाफ हिंसा “पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजन किया गया| डॉ। शेहला जमाल द्वारा “महिला हिंसा – जागने का समय” को एक नाटक से सभी छात्रों के बीच रखा .डॉ नामा अफरीन की कविता ने सब का मन जीत लिया .

महिलाओं के विरुद्ध होने वाली हिंसा के रूप भी विभिन्न प्रकार के होते हैं जैसे, हिंसा जो धन-अभिमुख होती है, जिसका उद्देश्य भोग-विलास है, जो अपराधकर्ता की विकृति के कारण होती है, हिंसा जो पीड़ित प्रेरित होती है, हिंसा जो तनावपूर्ण पारिवारिक परिस्थितियों के कारन होती है और हिंसा जो कमजोर पर सत्ता प्राप्त करना चाहती है ।समस्या को दूर करने के लिए ठोस कदम की ज़रूरत है .इसको रोकने के लिए शिक्षा,जागरूकता और महिलाओं को भी अपने ऊपर होने वाले अत्याचारों, शोषण, हिंसाओं को रोकने के लिए हिम्मत जुटानी चाहिए । तभी वह समाज एवं राष्ट्र में अपनी पहचान बना सकेंगी और तभी हम कहा सकते है जय हिन्द ,जय भारत ,जय भारत की नारी