कोर्ट ने पुलिस के खिलाफ याचिका की ख़ारिज , बहुचर्चित जेवर काण्ड के आरोपियों के परिजनों ने लगाया था फर्जी फंसाने का आरोप

ग्रेटर नोएडा : एसएसपी गौतमबुध नगर के खिलाफ दायर की गई याचिका को जिला कोर्ट ने खारिज कर दिया। 24 जुलाई को जेवर कांड के आरोपियों के परिजनों ने पुलिस पर आरोपियों को फर्जी फंसाने का आरोप लगाकर मामले में दुबारा जांच करने की मांग की थी। कोर्ट ने आरोपियों के परिजनों की तरफ से दायर 156/3 की दोनों याचिका को खारिज करते हुए आरोपियों को न्यायिक हिरासत में रखने का फैसला दिया हैं।

सूरजपुर स्थित जिला कोर्ट में जेवर कांड के आरोपियों के परिजनों ने एसएसपी समेत जेवर कांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम के खिलाफ 156/3 के तहत मामला दर्ज किया था। कोर्ट में परिजनों ने दायर याचिका में पुलिस पार्टी पर आरोप लगाया कि पुलिस ने जेवर कांड में फंसे आरोपियों को फर्जी फंसाया गया हैं। जेवर मामले के दोषी लोगो के परिजनों ने 24 जुलाई को कोर्ट में याचिका दायर की थी। जिला कोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए जेवर कांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम पर लगाए हुए आरोपियों को फर्जी फंसाने में लगाया हुआ आरोप गलत हैं। कोर्ट ने इस मामले में दोनों याचिका को खारिज कर दिया। गौरतलब हैं कि पुलिस ने जेवर गैंगरेप कांड का खुलासा कर बावरिया गैंग के चार बदमाशों को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया था। इनमें एक बदमाश को गोली लगी थी। इस मामले में सोमवार को दो आरोपियों राकेश और दीपक के परिजनों ने कोर्ट में एसएसपी, एसपी सिटी और जेल अधीक्षक समेत 17 पुलिसकर्मियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने की मांग की थी। कोर्ट ने सुनवाई के लिए 4 अगस्त की तारीख दी थी लेकिन तारिख आगे की मिलने के कारण 21 अगस्त में फैसला किया गया। जेवर मामले के मुख्य आरोपी अशोक उर्फ राजू की पत्नी कुसुम ने जेवर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक राजपाल सिंह तोमर, उप प्रभारी निरीक्षक वीरपाल सिंह सोलंकी, उप प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार समेत जेवर कोतवाली के 15 पुलिसकर्मियों को आरोपी बनाते हुए कोर्ट में 156/3 के तहत याचिका दायर की थी। आरोपी राकेश की मां संतोष के वकील बलराज भाटी ने बताया कि कोर्ट ने सुनवाई के बाद प्रार्थना पत्र को खारिज कर दिया हैं।

एसएसपी लव कुमार ने बताया कि बहुचर्चित जेवर कांड का पुलिस की टीम ने सही खुलासा किया गया था और आरोपियों के पास से पीडित पक्ष का सारा सामान बरामद भी किया था। आरोपी पक्ष के परिजन कोर्ट में गलत तथ्यों को रखकर आरोपियों की रिहाई करवाने की कोशिश कर रहे थे।

यह भी देखे:-

अज्ञात वाहन की टक्कर से महिला की मौत
अनियंत्रित स्कूटर नाले में गिरा, व्यक्ति की डूबकर हुई मौत
ट्रैक्टर पलटने से चालक की दर्दनाक मौत 
एक्टिव सिटीजन टीम की गांधीगिरी का असर, पोस्टर चिपकाने वाले अब मिलकर करेंगे शहर साफ़
ग्रेटर नोएडा : सेक्टरों की समस्या को लेकर गोल्डन फेडरेशन व आरडब्लूए ने किया प्रदर्शन , सौंपा ज्ञापन
स्वास्थ विभाग के खिलाफ अनशन कर रहे जय हो संस्था के कार्यकर्ताओं की तवियत बिगड़ी
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के प्रोजेक्ट विभाग में कई कर्मचारियों के तबादले
बहादुर बेटियों को सम्मानित करेगी एक्टिव सिटिज़न टीम
प्रशासन की बड़ी कार्यवाही , हल्दीराम की उत्पादन ईकाई से नमूने लिए, जेवर में मिलावटी मिठाई नष्ट किया ,...
किसानों की रिहाई को लेकर प्रदर्शन
दो ग्राम पंचायतों के प्रधानों के वित्तीय अधिकार होंगे सीज
ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन ने डीएम से मुलाकात कर सौंपा ज्ञापन
प्रभारी मंत्री जय प्रताप सिंह ने स्कूल चलो अभियान रैली को झंडी दिखाकर रवाना किया
ग्रेटर नोएडा के सभी किसान संगठन एकजुट होकर लड़ेंगे हक की लड़ाई - रविन्द्र भाटी एडवोकेट
इंद्रप्रस्थ, हस्तिनापुर, मथुरा व आगरा के बीच महाभारत सर्किट के नाम से हो पर्यटन क्षेत्र का विकास : ध...
जनता को मिला लाभ : ग्रेटर नोएडा -फरीदाबाद की दूरी अब और होगी कम