बच्चे की मौत के मामले में जांच के आदेश

ग्रेटर नोएडा : मंगलवार को शहर के म्यू- 2 में दर्दनाक हादसे के दौरान खुले नाले में डूबकर डेढ़ साल के बच्चे के मौत के मामले सीईओ ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं जांच जीएम प्रोजेक्ट के.के. सिंह को सौंपी गई है। सीईओ कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक जीएम प्रोजेक्ट के.के. सिंह इस पहलू पर जांच करेंगे क्या इस हादसे में प्राधिकरण की लापरवाही रही है। अगर रही है तो किस प्रकार की लापरवाही है और दोषी कौन है।

बता दें मंगलवार की दोपहर शहर में मूसलाधार बारिश हुई थी। ड्रैनेज सिस्टम सही न होने की वजह से म्यू- 2 सेक्टर में प्राधिकरण की सोसाइटी के नाली ने जल भराव हो गया था। इसी दौरान सोसाइटी में रहने वाले सीआरपीएफ के इंस्पेक्टर नागेंद्र का डेढ़ साल का बीटा आरव खेलते हुए नाली में डूब गया जिससे उसकी मौत हो गई थी।

हादसे के बाद शहर में हल्ला मच गया। सेक्टरवासियों ने पहले प्राधिकरण कार्यालय पर प्रदर्शन और फिर परीचौक जाम लगाकर प्राधिकरण को घटना का दोषी बताया था और एफआईआर दर्ज करने की मांग की थी। जिसके बाद आज सीईओ द्वारा इस घटना के जांच के आदेश दे दिए गए है।

यह भी देखे:-

जेवर काण्ड के पीड़ितों को मिले मुआवजा - नरेंद्र भाटी
ग्रेटर नोएडा में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को अनिवार्य रूप से लागू करे प्राधिकरण : गोल्डन फेड...
पनामा केस में भ्रष्टाचार के आरोप में नप गए नवाज, पाक सुप्रीम कोर्ट ने PM पद से हटाया
जेपी बिल्डर के कार्यालय पर निवेशकों का हंगामा खरीददारों ने की जमकर तोड़फोड़
जे.पी. इन्टरनेशनल स्कूल में स्वतंत्रता दिवस पर समारोह का आयोजन
बदमाशों ने की आॅटो रिक्शा चालक से लूटपाट
AUTO EXPO 2018 - गाड़ी में ले घर जैसा मजा , क्रिकेटर गौतम गंभीर ने किया EXPANDABLE 'HOME MOTER' लॉन्...
क्रिकेटर शमी सड़क हादसे में घायल , लगे दस टांके
एसएससी परीक्षा में सॉल्वर गैंग का पर्दाफ़ाश
बिल्डर कर रहे फ्लेट बॉयर्स का शोषण : नेफोमा
पी.सी. गुप्ता के राज अब खोलेगी सीबीआई, करीबियों की बढ़ी धड़कन
समाधान दिवस में 164 शिकायतें हुई दर्ज, 10 का मौके पर निस्तारण
"आवर लाइफ एक्सपीरिएन्सेस" विषय पर जीएल बजाज संस्थान में हुई पैनल चर्चा
बहुजन समाज पार्टी के तत्वाधान में जिला स्तरीय सामाजिक भाईचारा सम्मेलन
ग्रेटर नोएडा : शाहबेरी मामले में लेखपाल सस्पेंड
भारत एक यंग और एनर्जी से भरपूर देश है , हिंदी दिवस के नाम रहा ग्लोबल लिटरेरी फेस्टिवल