जेवर में बनेगा दिल्ली-एनसीआर का दूसरा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट

ग्रेटर नोएडा : कई सालों से जेवर को ज‌िसका इंतजार था आज वो खत्म हुआ, जेवर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाने के ‌ल‌‌िए केंद्रीय व‌िमान मंत्रालय ने अपनी मंजूरी दे दी है।

गौरतलब है कि जेवर में प्रस्तावित एयरपोर्ट पर ‌शनिवार को निर्णय लिया गया जिसकी जानकारी उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस कर दी।

बता दें कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय में शुक्रवार शाम चार बजे से बैठक हुई थी, जिसमें इस बात पर मुहर लगनी थी कि जेवर में प्रस्तावित एरिया पर एयरपोर्ट उपयुक्त है या नहीं। ओएलएस सर्वे के बाद यह बैठक काफी अहम थी।

इसके बाद आज जेवर एयरपोर्ट को मंत्रालय से हरी झंडी मिल गई। शुक्रवार की बैठक में यमुना प्राधिकरण के चेयरमैन डॉ. प्रभात कुमार भी व शामिल हुए। उन्होंने बताया था कि एयरपोर्ट से जुड़ी तकनीकी पहलुओं पर चर्चा हुई। मंत्रालय का रुख सकारात्मक दिखा था। हवा का दबाव व कई और मुद्दों पर चर्चा हुई। और आज ‌शनिवार को इसकी घोषणा कर दी गई।

यह एयरपोर्ट 3 हज़ार हेक्टेयर में होगा। पहले चरण में 1000 हेक्टेयर में इसका निर्माण होगा।  प्रदेश के मंत्री  सिद्धार्थनाथ सिंह ने बताया पीपीपी मॉडल पर इसे तैयार किया जयेगा।

यह भी देखे:-

"विजय सिंह पथिक " पुस्तक का विमोचन 28 मई को, सपा नेता राजकुमार भाटी ने लिखी है पुस्तक
आईआईए द्वारा जीएसटी पर कार्यशाला आयोजित
रोड को डुबो रहा है खुले नाले का गंदा पानी , नोएडा प्राधिकरण बेपरवाह
प्रिंसिपल सेक्रटरी औधगिक विकास से मिले नेफोवा के पदाधिकारी, बायर्स की समस्या सामने रखी 
वेतन की मांग को लेकर वीवो के कर्मचारियों का हंगामा
Bigg Boss 11: विकास गुप्ता के फैंस ने तोड़े सारे रेकोर्ड्स
Hyundai Announces Blockbuster Launch of 'The New 2018 ELITE i20'
कातिल दोस्त चढ़ा पुलिस के हत्थे
छात्रा आत्महत्या मामला : परिजनों ने स्कूल गेट पर किया प्रदर्शन, लगाया जाम
राम राज सेवा संस्थान द्वारा श्री हनुमान जन्मोत्सव भव्य आयोजन
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को आईना दिखाती कवि ओम रायज़ादा की नज़्म
लीडर बने फॉलोवर नहीं - कुसुम चोपड़ा
यूपी बोर्ड के टापर्स छात्रों को करप्शन फ्री इंडिया संगठन ने किया सम्मानित
मनमाने तरीके से फीस वसूली का आरोप , धरने पर बैठे बी.टेक के छात्र
शूगर के मरीजों को आलू, चावल व चीनी को देनी होगी तिलांजलि
अलग-अलग सड़क हादसों में चार की गई जान