“जिस लाहौर नहीं देख्या ओ जामई नइ” नाटक मंचन के साथ बिमटेक में 30 वें स्थपना दिवस समारोह “सबरंग’ का आगाज

ग्रेटर नोएडा : बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनजमेंट टेक्नोलॉजी, पूरे गौरव के साथ अपना स्थापना दिवस राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के जन्म दिवस 2 अक्टूबर को मनIते आ रहा है जो कोई संयोग मात्र नहीं है, यह बिरला परंपरा के संस्थापक बी के बिरला एवं स्व सरला बिरला के गाँधी जी से प्रगाढ़ संबंधों को सम्मान देने के लिए किया जाता है।

बिमटेक इस वर्ष अपना 30 वां स्थापना दिवस “सबरंग उत्सव” को आयोजित करते हुए मना रहा है, जिसमे अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसे पारंपरिक और आधुनिक नृत्य, संगीत, कथा वाचन होंगे जो देश के विख्यात कलाकारों द्वारा प्रदर्शित किये जायेंगे. इस उत्सव अन्य मजेदार और मनोरंजक गतिविधियां भी शामिल होंगी।

8 दिनों तक चलने वाले इस समारोह की शुरुआत इंस्टिट्यूट की डिबेटिंग एंड थिएटर सोसाइटी ‘मजलिस’ द्वारा 30 सितम्बर को भावनात्मक नाटक, ‘ जिस लाहौर नहीं देख्या ओ जामई नइ ‘ (जिसने लाहौर नहीं देखा वो जिया नहीं), दिखाकर की गयी, जिसका निर्देशन अरविन्द गौर ने किया है। यह नाटक देश के प्रमुख थिएटरों में एक अस्मिता थिएटर द्वारा सफलतापूर्ण तरीके से मंचित किया गया। अस्मिता थिएटर सौंदर्यवादी अभिनव और सामाजिक रूप से प्रासंगिक मंच नाटकों के लिए प्रतिबद्ध है।

“जिस लाहौर नहीं देख्या वो जामई नाई” 1947 के विभाजन के वक़्त की एक कहानी है, जो लाहौर की एक वृद्ध हिंदू महिला के बारे में थी, जिसके बेटे और परिवार को विभाजन के दंगों में लूट लिया गया था और जिसने लाहौर को छोड़ने से मना कर दिया था. इस महिला की हवेली को एक मुस्लिम परिवार, जिसको लखनऊ से दर्दनाक विस्थापन का सामना करना पड़ा था, को दे दिया गया था पर वो अपने घर से जाने को मना कर देती है.

इस कार्यक्रम में प्रमुख अतिथियों श्री कमल सिंह जी (मुख्य निदेशक, यूनाइटेड नेशंस ग्लोबल कॉम्पैक्ट नेटवर्क) एवं डॉ शिरीष निगम (निदेशक, इ डब्लू नुट्रिशन) के साथ पूरा बिमटेक परिवार, प्रशासन के सम्मानीय अधिकारीगण एवं आस पास का शिक्षा समुदाय भी शामिल थे, जिन्होने नाटक की जमकर सराहना की.

श्रोताओं ने अस्मिता थिएटर समूह के इस दिलचस्प प्रदर्शन का बाखूबी आनंद उठाया, जिसमे नाटक के कलाकारों ने अमानवीय घटना में भी मानवीय संवेदनाओं को जीवित रखा और श्रोताओं की सोई हुई चेतना को जगाने में और कहानी से उनको जोड़ने में सफलता प्राप्त की. इस नाटक के माध्यम से हिंसा, नफरत, पूर्वाग्रह और क्रोध के साक्षी बने विभाजन को प्रेम और स्नेह से खत्म करने का गंभीर सन्देश भेजा गया.

बिमटेक के30 वें स्थापना समारोह एवं दशहरा पर्व की इससे बेहतर शुरुआत नहीं हो सकती थी. 30 सितम्बर से 8 अक्टूबर तक आयोजित होने वाले सबरंग उत्सव के भावपूर्ण कार्यक्रमों का आनंद उठाने के लिए पूरा बिमटेक परिवार उत्साहित है।

यह भी देखे:-

एक्यूरेट इंस्टिट्यूट में ओरिएंटेशन प्रोग्राम
जी.एल बजाज में ‘‘ इर्मजिंग ट्रेड इन मैनेजमेन्ट एजुकेशन’’ विषय पर नेशनल कांफ्रेंस का आयोजन
आईआईएमटी में E-HARIYALI अंत्‍योदय वाटिका का शुभारम्‍भ
एक्यूरेट इंस्टीट्यूट के छात्रों ने बडिंग मैनेजर्स गुर सीखे
जीएल बजाज : प्रख्यात विशेषज्ञों की वार्ताओं से छात्र हुए लाभान्वित
BIMTECH धूम-धाम से मनाएगा अपना 30 वां स्थापना दिवस , नौ दिवसीय संस्कृतिक महोत्सव "सबरंग" क...
आईआईएमटी कॉलेज में बिजनेस प्‍लान कम्‍पटीशन का आयोजन
एक्यूरेट छात्रों का यामाहा प्लांट में भ्रमण
जीएल बजाज सांस्कृतिक उत्सव- संकल्प 2017 में 500 से अधिक छात्रों ने लिया हिस्सा
बिमटेक में दो दिवसीय 'इंटरनेशनल कांफ्रेंस ऑन मैनेजमेंट केस' का शुभारम्भ
आर्मी इंस्टिट्यूट में दीक्षांत समारोह, एमबीए छात्र डिग्री से हुए सम्मानित
एमबीए छात्रों ने जाना तकनिकी की सहायता से मार्केटिंग करने का गुर
जी.एल बजाज इन्स्टीट्यूट आफ मैनेजमेण्ट को मिला देश के 22 श्रेष्ठ इन्स्टीट्यूट्स में स्थान
जीएल बजाज संस्थान की पीजीडीएम छात्रा को मिला नेशनल टाॅपर एवं वूमन टाॅपर का अवार्ड
GNIOT में नोटबंदी के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था पर होगा अन्तराष्ट्रीय सेमिनार
रक्षपाल बहादुर मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट में मैनेजमेन्ट फेस्ट का आयोजन