विभाग ने अपने ही लेखपाल पर दर्ज कराया मुकदमा

ग्रेटर नोएडा : हेरा-फेरी कर लाखों रूपये हड़पने वाले लेखपाल के खिलाफ कासना कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया गया है । यह मुक़दमा उस विभाग ने दर्ज कराया है जिसमे आरोपी काफी समय से कार्यरत था। जानकारी के मुताबिक आरोपी लेखपाल राजकुमार  तहसील गढ़मुक्तेश्वर जनपद हापुड़ के राजस्व विभाग के अंतर्गत भूलेख अनुभाग में मूल रूप से कार्यरत कर्मचारी है और फिलहाल यमुना प्राधिकरण कार्यालय में प्रतिनियुक्ति पर तैनात था । आरोप है प्राधिकरण कार्यालय में अपने कार्यकाल के दौरान राजकुमार लेखपाल ने कई अनियमित कार्य किए हैं। इसकी शिकायत श्रीमती नेमवती पत्नी ओमप्रकाश निवासी रुस्तमपुर तहसील जेवर ने की थी । प्राधिकरण द्वार उस को दिए जाने वाला अतिरिक्त प्रतिकर किसी अन्य महिला को दे दिया गया है । इस संबंध में जांच की गई तो आरोप सही पाया गया । प्राधिकरण के चेक  वितरण रजिस्टर में जांच में पाया गया कि  चेक राजकुमार लेखपाल के द्वारा वितरण  कराया गया था तथा इसमें गवाह के तौर पर हरबीर नाम लिखा है । नियमानुसार चेक ग्रहीता का फोटो रजिस्टर में लगाया जाता है परंतु नेमवती के नाम पर सक्षम किसी अन्य महिला का  फोटो चिपकाया गया है। बैंक में नेमवती का फोटो किसी ओर औरत का है जबकि सी सी फार्म में दूसरी औरत का फोटो है ।

मामले जांच करते हुए जब प्राधिकरण द्वारा जारी चेक की जानकारी ली गयी तो पता चला कि सर्व यूपी ग्रामीण बैंक में उस चेक को लगाया गया था जबकि चेक लगाने वाली महिला और प्राधिकरण में सी सी फार्म में लगी महिला अलग है । 

शिकायत के साथ शाखा प्रबंधक सर्व यूपी ग्रामीण बैंक शाखा द्वारा  द्वारा बताया गया कि नेमवती  के नाम निर्मित चेक संख्या 103279 दिनांक 27 नवंबर 2017 को उनकी शाखा में जमा किया गया था और  11 दिसंबर 2017 को एक प्रति प्राधिकरण द्वारा  भेजी जा चुकी है जिसमें जिसमें साफ-साफ  बैंक मैनेजर को निर्देशित किया गया है कि जांच पूरी होने तक धनराशि निकासी नहीं होने दी जाए। संपूर्ण जांच से स्पष्ट हो गया कि राजकुमार सिंह लेखपाल यमुना प्राधिकरण द्वारा दिए गए 2,505701 रुपए के चेक को धोखा धड़ी करते हुए किसी दूसरे व्यक्ति के नाम से हड़पने का आरोप साबित होता है अतः राजकुमार सिंह लेखपाल के खिलाफ प्राधिकरण में कार्यरत धर्म सिंह राजस्व निरीक्षक के द्वारा रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

यमुना प्राधिकरण पहले भी कार्यरत अधिकारी को जेल भेज चुकी है और उत्तरप्रदेश में सरकार बदलते ही प्राधिकरण में हड़कंप मचना शुरू हो गया था और बाकी की कसर तब पूरी हो गयी जब ईमानदार छवि के आईएएस प्रभात कुमार को यमुना प्राधिकरण के चैयरमेन के रूप में नियुक्ति हुई जिन्होंने अपनी अपेक्षाओं पर पूरा उतरते हुए प्राधिकरण में कार्यरत डीजीएम को जेल भेज दिया था और वो भी कार्यालय से ही और आज दोबारा से प्राधिकरण में ही कार्यरत लेखपाल के खिलाफ आज मुकदमा दर्ज कराया गया है ।

यह भी देखे:-

ड्रग्स देकर 12 वीं के छात्र को मारने का आरोप : नाइजेरियन्स पर है शक
ब्रेकअप करने पर प्रेमी ने अंजलि राठौर का किया था मर्डर , प्रेमी गिरफ्तार
बिजनेसमैन पर हमला कर लाखों की लूट
शराब के लिए टोका तो शराबी पति ने उठाया ये खौफनाक कदम
पुलिस को चकमा देकर फरार हुआ रेप का आरोपी गिरफ्तार
अज्ञात का शव मिलने से सनसनी
लूट कर रहे बदमाशों से भिड़ा गार्ड, बदमाशों ने गोली मारी, मौत
खुलासा : पूर्व नौकरानी ने प्रेमी संग रची थी लूट की साजिश, दो बदमाशों समेत गिरफ्तार
प्लेसमेंट एजेंसी संचालक ने नौकरी दिलाकर की घिनौनी हरकत
बदमाशों ने लिफ्ट देकर इंजीनीयर से की लूट, घर में घुसकर बुजुर्ग से गहने लुटे
चेकिंग के दौरान शातिर वाहन चोर गिरफ्तार
पिता से मोटी रकम ऐंठने के लिए बेटे की अपराधिक साजिश का पुलिस ने किया पर्दाफ़ाश
लम्बे समय तक एक जगह जमे रहने वाले अमीनों का होगा तबादला
नकेल कसने के लिए इन गुंडों पर लगा गैंगस्टर
देखें VIDEO, बाइक सवार बदमाशों ने वर्कर को मारी गोली
देखें VIDEO, यमुना प्राधिकरण जमीन खरीद घोटाला, 21 आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट