फर्जी महिला आईएफएस पति समेत गिरफ्तार

ग्रेटर नोएडा पीएम नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में मेरठ पुलिस ने बड़ी चूक देखने को मिलीक है। बिसरख पुलिस ने फर्जी आईएफएस अफसर जोया खान को गिरफ्तार किया है जिसे मेरठ पुलिस ने पीएसओ के साथ-साथ दो थानों से एस्कॉर्ट मुहैया कराई थी। जबकि प्रधानमंत्री की सुरक्षा में एसपीजी लगी थी।

जोया की पोल खुलने पर अब पुलिस अधिकारी भी हैरत में हैं।

फर्जी आईएफएस अफसर जोया खान को गिरफ्तार करने के बाद मेरठ पुलिस की भी पोल खुल गई है। बीते 28 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मेरठ में आयोजित चुनावी सभा में आए थे। इस दौरान मेरठ पुलिस ने जोया खान को कंकरखेड़ा और दौराला थाने से दो एस्कॉर्ट मुहैया कराईं। बताया गया कि जोया ने खुद को प्रधानमंत्री की सुरक्षा में लगना बताया था।

जोया खान नीली बत्ती लगाकर लग्जरी गाड़ी से चलती थी। तीन साल तक मेरठ, नोएडा, गाजियाबाद सहित कई थानों की पुलिस उसको सैल्यूट मारती रही। किसी ने यह जानने की जहमत नही उठाई कि जोया अफसर है भी या नहीं। सिपाही से लेकर पुलिस अधिकारी जोया को सेल्यूट मारते थे। यहां तक जोया का प्राइवेट नंबर भी पुलिस अधिकारियों ने अपने मोबाइल में सेव किया हुआ था।

पुलिस के मुताबिक आरोपी जोया हमेशा पुलिस अधिकारी को उसके नाम से बुलाती थी। एसपी, सीओ और थानेदार पर रौब गाँठती थी। एसएसपी मेरठ से कई बार उसने फोन पर बात की। लेकिन उसने कभी ये एहसास नहीं होने दिया है कि वह फर्जी है। आईएफएस अफसर बताने वाली जोया खान पुलिस अधिकारियों से सुरक्षा मुहैया कराने के लिए ई-मेल भी करती थी।

अब जोया के पास से मिले चार लैपटॉप मिले हैं। फ्लैट में भी कई संदिग्ध सामान भी मिलना बताया जा रहा है। जोया एसएसपी के अलावा कहां-कहां मेसेज भेजती थी, इसकी जांच पड़ताल की जा रही है। सवाल देश की सुरक्षा से जुड़ा हुआ भी है। चर्चा है कि जोया ने अफगानिस्तान समेत कई देशों में मेसेज भेजे हैं। वह मेसेज कैसे हैं, इसका खुलासा तो गंभीरता से जांच के बाद होगा।

गिरफ्तार फर्जी आईएफएस महिला काफी दिनों से नोएडा दिल्ली एनसीआर में सक्रिय थी। मार्च में नोएडा में महिला की कार का एक्सीडेंट हो गया था। इसके बाद फर्जी आईएफएस महिला ने एसएसपी को फोन कर खुद को संयुक्त राष्ट्र का अधिकारी बताया और मदद मांगी।

एसएसपी ने पुलिस भेज कर उसकी मदद करवाई थी लेकिन जब एसएसपी से मिलने पहुंची तो उसके हाव-भाव और एस्कॉर्ट देखकर एसएसपी को शक हुआ। इसके बाद जांच शुरू हुई और उसकी गिरफ्तारी हुई।

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया आईएफएस अधिकारी बताने वाली महिला को गिरफ्तार किया गया है। वह खुद को संयुक्त राष्ट्र संघ में पदस्थापित बताती थी और नोएडा एनसीआर में उगाही व अन्य तरह के गलत काम को करती थी। पिछले महीने महिला मुझसे मिलने आई थी, तभी उस पर मुझे शक हुआ और उसकी जांच कराई। इसके बाद उसकी गिरफ्तारी की गई।

यह भी देखे:-

रंजिश में हुई किसान की हत्या , एक आरोपी गिरफ्तार
कासना पुलिस ने किया अन्तर्राज्य  वाहन चोर गिरोह का पर्दाफाश, तीन गिरफ्तार 
सपा नेता के बेटे से 50 हजार की रंगदारी मांगी
चोरी की योजना बना रहे तीन बदमाश गिरफ्तार
बेख़ौफ़ बदमाशों ने छात्र की हत्या कर स्कूटी लूटी
हथियारबंद बदमाशों ने मोबाईल और नकदी लूटा
भाजपा नेता हत्याकांड, परिजनों ने इन चार लोगों को किया नामजद, हत्या को बताया राजनैतिक साजिश
बाइकर्स ने मीट व्यापारी को गोली मारकर किया घायल
करोड़ों की रंगदारी मांगने वाले दो बदमाश पुलिस एनकाउंटर में घायल
लूट में वांटेड बदमाश पुलिस एनकाउंटर में घायल
गैस सिलैंडर रिसाव होने से लगी आग , 3 लोग गंभीर रूप से घायल
जहाँगीरपुर: देशी शराब की दुकान से नगदी सहित दो लाख की चोरी
बीजेपी कार्यकर्ता हत्या मामले में एक और आरोपी गिरफ्तार
गौतमबुद्धनगर : 14 और गुण्डों पर लगाया गया गैंगस्टर
नोएडा : खाकी वर्दी हुई दागदार , चौकी इंचार्ज, 3 पुलिसकर्मी समेत 15 गिरफ्तार
जेवर कांड का वांटेड बावरिया गिरफ्तार