स्थापना दिवस पर यमुना प्राधिकरण को तोहफा, जेवर एयरपोर्ट को मिली सैद्धान्तिक मंजूरी

ग्रेटर नोएडा/ नई दिल्ली : जेवर में बनने वाले नोएडा ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट का निर्माण कार्य अक्टूबर माह से शुरू हो जाएगा. एयरपोर्ट को नागर विमानन मंत्रालय से हरी झंडी मिल गई है. क्षेत्रीय सांसद डॉ. महेश शर्मा के पर्यावरण मंत्रालय की अनुमति की औपचारिकता मात्र शेष रह गई है. जुलाई के प्रथम सप्ताह तक पर्यावरण मंत्रालय की अनुमति मिलते ही एयरपोर्ट के निर्माण की गति तेज हो जाएगी. यमुना विकास प्राधिकरण के अधिकारियों का दावा है कि अक्टूबर माह में एयरपोर्ट का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे. कल दिल्ली में नागरिक उड्डयन विभाग के सचिव की अध्यक्षता में बैठक हुई. एक घंटे तक चली बैठक में जेवर एयरपोर्ट को सैद्धांतिक मंजूरी प्रदान कर दी गई इस बैठक में उत्तर प्रदेश सरकार के विभाग के प्रमुख सचिव एस.पी गोयल, यमुना प्राधिकरण के अध्यक्ष डा. प्रभात कुमार , सीईओ अरुणवीर सिंह और ओएसडी शैलेंद्र भाटिया समेत तमाम वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे. मंत्रालय की मंजूरी के बाद एयरपोर्ट का बनना तय हो गया है .

यहां यह तथ्य विशेष रूप से उल्लेखनीय है कि क्षेत्रीय सांसद डॉ. महेश शर्मा खुद ही पर्यावरण मंत्रालय में मंत्री हैं. उनके मंत्री रहते वहां एयरपोर्ट की अनुमति में देरी होने का कोई कारण नजर नहीं आता है. यमुना प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉक्टर अरुण वीर सिंह ने बताया कि पर्यावरण मंत्रालय में पूरी तैयारी के साथ शीघ्र ही आवेदन किया जाएगा . उम्मीद है कि जुलाई के प्रथम सप्ताह तक पर्यावरण मंत्रालय से अनुमति प्राप्त हो जाएगी. तत्पश्चात ग्लोबल टेंडर की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. सीईओ ने दावा किया कि अक्टूबर महीने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कर कमलों से एयरपोर्ट का शिलान्यास करा कर निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि यह देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा.

इसी एयरपोर्ट को 5 हज़ार हेक्टेयर भूमि पर स्थापित किया जाएगा. एयरपोर्ट के लिए जमीन अधिग्रहण का कार्य पर लगभग 4 हज़ार करोड़ का खर्चा आएगा. फेसवार बनने वाली इस एयरपोर्ट के प्रथम चरण के लिए 1327 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी. इस जमीन के अधिग्रहण के लिए जिला प्रशासन को पहले ही सूचित किया जा चुका है. शीघ्र ही जमीन के अधिग्रहण का कार्य शुरु हो जाएगा. एयरपोर्ट का निर्माण पीपीपी (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल) पर किया जाएगा.र जेवर एयरपोर्ट बन जाने के बाद यमुना प्राधिकरण क्षेत्र के विकास को नए पंख लग जाएंगे. क्षेत्र में विकास की तमाम संभावनाओं को देखते हुए अभी से देशी व विदेशी कंपनियों ने व्यापक रुचि दिखानी शुरू कर दी है. जेवर एयरपोर्ट से अंतरराष्ट्रीय व्यापार बढ़ने की अपार संभावनाएं हैं . यहां अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के साथ ही कार्गो पायलट ट्रेनिंग सेंटर बनेगा. यहां से जुड़ी हुई अनेक व्यवसायिक गतिविधियां भी स्थापित होगी. इसमें औद्योगिक एवं व्यापारिक गतिविधियां तो बढ़ेगी ही साथ ही रोजगार के व्यापक अवसर पैदा होने की व्यापक संभावनाएं जताई जा रही हैं. आर्थिक जगत से जुड़े हुए लोगों का मत है कि निकट भविष्य में यमुना प्राधिकरण क्षेत्र यमुना सिटी देश का सर्वाधिक आकर्षक शहर बन जाएगा.

यह भी देखे:-

नोएडा प्राधिकरण का भ्रष्टाचार के खिलाफ नई मुहीम : इन नम्बरों पर कर पर कर सकते हैं शिकायत, पढ़ें
केंद्रीय कैबिनेट ने दी नोएडा -ग्रेनो मेट्रो कॉरिडोर परियोजना को मंजूरी
फीस वृद्धि मामले में डीएम की बैठक : कहा,  विवाद की स्थिति में बच्चों को स्कूल छोड़ने को मजबूर नहीं क...
भारत ने रचा इतिहास ,चौथी बार जीता ICC UNDER-19 WORLD CUP का ख़िताब
विद्यार्थी परिषद ने किया विचार गोष्ठी का आयोजन
ग्रेटर नोएडा : नेफोमा ने प्रभारी मंत्री से मुलाकात कर सुनाया लाखों बॉयर्स का दर्द
गार्डन गैलेरिया योगात्सव 2018 का आयोजन, #HumFitTohIndiaFit चुनौती के लिए निमंत्रण
आपातकाल के विरोध में भाजपा ने मनाया काला दिवस
बस की टक्कर से बाइक सवार की मौत
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के स्थापना दिवस पर निर्धन बच्चों में फलों का वितरण
कन्या विद्यालय में विज्ञान प्रदर्शनी मेले का हुआ आयोजन
जहांगीरपुर : गणेश पूजन के साथ रामलीला का मंचन शुरू
शारदा विश्विधालय में अन्तार्ष्ट्रीय मोनोपॉज दिवस मनाया गया
जानिए, आज शाम 5:00 बजे तक गौतम बुध नगर का मतदान प्रतिशत
NCC गर्ल्स कैडेट्स सीख रही हैं आत्मरक्षा के गुर
दुबई में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी