शारदा हाफ मैराथन: जोश, जज़्बे और जुनून के साथ दौड़े धावक

  • शारदा यूनिवर्सिटी के कैंपस से शुरू हुई मैराथन, 10,000 धावकों ने लिया भाग

ग्रेटर नोएडा: शारदा विश्वविद्यालय ने “हेल्थ, हैपीनेस और यूनिटी” जैसे सामाजिक सन्देश के लिए हाफ मैराथन का आयोजन किया. इस मैराथन में भाग लेने के लिए शारदा विश्व विद्यालय के छात्रो शिक्षको के अलावा अन्य प्रतिभागियों का जज्बा और जोश अपने चरम पर था / मैराथन का आगाज कई अंतर्राष्ट्रीय मैराथन प्रतियोगितायो की विजेता रही सुनीता गोदारा के साथ विश्विद्यालय के कुलाधिपति पी के गुप्ता ने फ्लैग दिखा कर किया / इस आयोजन में दस हज़ार से ज्यादा धावको ने शिरकत की मैराथन में चार स्तर के विकल्प मौजूद थे जिसमे की 21 किमी की हाफ मैराथन, मिनी मैराथन 10 किलोमीटर, ग्रीन मैराथन 5 किमी, और गुलाबी मैराथन 3 किलोमीटर के विकल्प थे.

वर्ष 2016 में शारदा-ताज मैराथन की भव्य सफलता के बाद, शारदा हाफ मैराथन में धावकों ने अपने जोश, जज़्बे और जुनून का परिचय दिया। सफल प्रतिभागियों को को सभी आयु वर्ग के लोगों ने बड़े उत्साह के साथ इस मैराथन में भाग लिया. इस मैराथन में सुबह 5 बजे से दिल्ली एनसीआर से लोगों का आना शुरू हो गया था.
मैराथन की औपचारिक शुरूआत कैंपस से सुबह 6 बजकर 50 मिनट से हुई. मैराथन के अंत में विजेताओं का ऐलान हुआ, 21 किमी की महिला वर्ग की हाफ मैराथन में पहला स्थान उजाला को मिला वहीं, पहली और दूसरी रनर अप अर्पिता और वहीदा रहीं, पुरूष वर्ग की 21 किमी मैराथन में राजकुमार ने पहला स्थान हासिल किया, जबकि पहले और दूसरे स्थान पर सीआरपीएफ के मोहन सिंह और तीसरे स्थान पर भी सीआरपीएफ के ही विकास कुमार रहे. पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे विजेताओं को क्रमश: 31 हज़ार, 25 हज़ार और 20 हज़ार रूपए की पुरस्कार राशि का चेक दिया गया.

10 किमी की मिनी मैराथन के महिला वर्ग में पहला स्थान पर विजयलक्ष्मी रहीं, दूसरे पर खुशबू गुप्ता और तीसरे स्थान पर वर्षा नागर रहीं, वहीं पुरुष वर्ग की 10 किमी मैराथन में कपिलदेव पहले स्थान पर, दूसरे पर राहुल और तीसरे स्थान पर राज शेखर रहे. पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे विजेताओं को क्रमश: 21 हज़ार, 11 हज़ार और 5100 रूपए की पुरस्कार राशि का चेक दिया गया. 5 किमी के ग्रीन मैराथन में पहले स्थान पर विशाल कुमार जबकि दूसरे स्थान पर दीपक कुमार रहे. उन्हें पुरस्कारस्वरूप 11 हज़ार और 5100 रूपए की पुरस्कार राशि दी गई.

मैराथन को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। जगह-जगह पर सीसीटीवी कैमरे, सुरक्षा गार्ड, वॉलटियर्स और बाउंसर्स को तैनात किया गया था। वहीं, किसी मेडिकल सुविधा के लिए मैराथन के दौरान में एंबुलेंस को भी तैनात किया गया था।मैराथन के दौरान जगह जगह पर धावको का जोश बढ़ने के लिए कई तरह के सास्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया थे / मैराथन के अंत में नुक्कड़ नाटक, गीत-संगीत सहित कई सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन हुआ जिसमें देश ही नहीं विदेशी छात्रों ने खूब बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और दर्शकों ने खूब तालियां बजाई.

कार्यक्रम के समापन समारोह को संबोधित करते हुए विश्विद्यालय के कुलाधिपति पी के गुप्ता ने कहा के इस मैराथन प्रतियोगिता का सन्देश एक सामाजिक सरोकार को लेकर था और इस सन्देश को लेकर समाज के जन जन तक पहुचने के लिए प्रतियोगिता में शिरकत करने वालो का जोश हमेशा यादगार रहेगा / प्रति कुलाधिपति ने मैराथन की शानदार सफलता के लिए सभी प्रतिभागियों और विश्वविद्यालय सभी फैकल्टी, स्टाफ और छात्रों की सराहना की और इस तरह की प्रतियोगिताएं को प्रोत्साहित करते रहने पर जोर दिया.

यह भी देखे:-

ग्रेटर नोएडा वेस्ट तक जल्द पहुंचेगी मेट्रो  , 600 करोड़ की है योजना
महागुन सोसाइटी में तोड़फोड़ करने वाले 13 गिरफ्तार
पंकज बजाज क्रेडाई एनसीआर के अध्यक्ष चुने गए
क्राइम शो के एंकर को कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद की सजा
नुक्कड़ नाटक कर दिए यातायात के नियमों के पालन करने का संदेश
अब एटीएम से पैसे निकलने पड़ेंगे महेंगे
जूनियर हाई स्कूल दनकौर मे ड्रेस वितरित
योजेम्स एनसीआर ओपन टेनिस चैम्पियनशिप का समापन
हत्या के विरोध में अट्टा गांव में किया गया कैंडल मार्च
आईआईएमटी कॉलेज का वार्षिक फेस्‍ट स्वलक्ष्य अदभुत 2018, 32 कॉलेजों के छात्र- छात्राओं ने लिया हिस्‍स...
आर्थिक अपराधों की जांच के लिए एसएसपी नोएडा ने किया विशेष शाखा का गठन
सपा नेता विजेंद्र भाटी ने भाजपा का दामन थामा, पूर्व मंत्री नरेंद्र भाटी के भाई हैं बिजेंद्र भाटी
ईस्टर्न पेरिफेरल पर दर्दनाक सड़क हादसा, एक कि मौत
एनआइयू-एनआइओएस ने आयोजित की ऑन लाइन शिक्षण पर कार्यशाला
वारदात: चाकू मार ऑटो चालक से लूट
फ्लैट में मिला युवक का शव, जांच में जुटी पुलिस